भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम ने प्रत्येक असफलता से सीखा : डॉ. शिवन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 27 दिसंबर 2020

भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम ने प्रत्येक असफलता से सीखा : डॉ. शिवन

space-program-learned-from-every-failure-dr-shiva
चेन्नई 26 दिसंबर, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष डॉ. के शिवन ने शनिवार को कहा कि भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम ने अपनी प्रत्येक असफलता से सीखा है और अपनी कार्य प्रणाली में लगातार सुधार किया है। डॉ. शिवन ने काट्टनकुलाथुर में एसआरएम विश्वविद्यालय के 16वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने छात्रों से कहा कि संपूर्ण असफलता से बचने के लिए लगातार अपने द्वारा लिए गए जोखिमों का मूल्यांकन करना चाहिए। इसरो अध्यक्ष ने कहा, “सबसे महत्वपूर्ण है कि हमें अपने द्वारा लिए गए जोखिमों का मूल्यांकन करना चाहिए। जब आप अपने जोखिमों का मूल्यांकन करते हैं तब आप संपूर्ण असफलता से बच सकते हैं। आप असफल हो सकते हैं, लेकिन प्रत्येक असफलता आपको कुछ बेहतर सिखाती है।” न्होंने कहा, “मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम की नींव ऐसी असफलताओं के बाद बनी है जिसमें प्रत्येक नाकामयाबी ने हमें अपनी प्रणाली में सुधार करने का अवसर प्रदान किया है।” डाॅ. शिवन ने कहा, “दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज है नवाचार। नवाचार केवल कागज पर लिखा जाने वाला एक बेहतर विचार नहीं हो सकता बल्कि मायने यह रखता है कि आप नवाचार को कैसे लागू करते हैं। नवाचार का विचार असफलता के खतरों को उठाने के बाद ही मिलता है।” 

कोई टिप्पणी नहीं: