5 जी नेटवर्क को समय पर शुरू करना जरूरी : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 8 दिसंबर 2020

5 जी नेटवर्क को समय पर शुरू करना जरूरी : मोदी

time-to-work-on-5g-modi
नयी दिल्ली 08 नवम्बर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 5 जी नेटवर्क को समय पर शुरू करने पर बल देते हुए आज कहा कि इससे देश के लोगों को सशक्त बनाने में मदद मिलेगी। श्री मोदी ने आज यहां इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2020 के उद्घाटन सत्र को वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के माध्‍यम से संबोधित करते हुए यह बात कही। तीन दिन तक चलने वाली मोबाइल कांग्रेस का इस वर्ष का विषय, “ समावेशी नवाचार - स्मार्ट, सुरक्षित और स्थायी” रखा गया है। प्रधानमंत्री ने दूरसंचार उपकरण, डिजाइन, विकास एवं विनिर्माण के लिए भारत को एक वैश्विक केंद्र बनाने के लिए मिलकर काम करने का आह्वान किया। उन्‍होंने कहा कि प्रौद्योगिकीय उन्‍नयन के कारण हैंडसेट्स और गैजेट्स बार बार बदलने की संस्‍कृति एक चुनौती है। इससे निपटने पर बल देते हुए उन्‍होंने प्रति‍निधियों से यह विचार करने के लिए कहा कि क्‍या उद्योग इलेक्‍ट्रॉनिक अपशिष्‍ट से बेहतर रूप से निपटने और ‘सर्कुलर अर्थव्‍यवस्‍था’ का सृजन करने के बारे में विचार विमर्श के लिए कार्यबल का गठन कर सकता है। उन्‍होंने भविष्‍य में लंबी छलांग लगाने के लिए 5 जी को समय पर शुरू करने और लाखों भारतीयों को सशक्‍त बनाने के लिए मिलकर काम करने का अनुरोध किया। श्री मोदी ने कहा कि प्रौद्योगिकी क्रांति के साथ जीवन को बेहतर बनाने के बारे में सोचना और योजना बनाना बहुत महत्‍वपूर्ण है। उन्‍होंने कहा कि किसानों को बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल, बेहतर शिक्षा, बेहतर जानकारी और अवसरों तथा छोटे व्‍यापारियों को बेहतर बाजार पहुंच उपलब्‍ध कराना कुछ लक्ष्‍य हैं जिनके बारे में कार्य किया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने दूरसंचार क्षेत्र के प्रतिनिधियों की सराहना करते हुए कहा कि महामारी के बावजूद दुनिया उनके नवाचार और प्रयासों के कारण काम करती रही। उन्‍होंने कहा,“ उनके प्रयासों के कारण एक बेटा अलग शहर में रहने वाली अपनी माता के साथ जुड़ा रहा, एक विद्यार्थी कक्षा में गए बिना अपने शिक्षक से सीखता रहा, बीमार व्यक्ति ने घर बैठते हुए अपने डॉक्टर से सलाह मशवरा किया और एक व्यापारी दूसरे जगह के उपभोक्ता से जुड़ा रहा।”

कोई टिप्पणी नहीं: