ट्रंप प्रशासन सभी सूचनाएं मुहैया नहीं करा रहा : बाइडन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 30 दिसंबर 2020

ट्रंप प्रशासन सभी सूचनाएं मुहैया नहीं करा रहा : बाइडन

trump-not-sharing-information-biden
विलमिंगटन (अमेरिका), 29 दिसम्बर, अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि देश के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व वाला प्रशासन राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े अहम क्षेत्रों पर उनके सत्ता हस्तांतरण दल को सभी जानकारियां मुहैया नहीं कर रहा है, जो कि ‘‘गैरजिम्मेदाराना है और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा’’ है। डेलावेयर के विलमिंगटन में बाइडन ने सोमवार को कहा कि उनकी टीम को सत्ता हस्तांतरण के लिए आवश्यक जानकारी हासिल करने में रक्षा मंत्रालय और प्रबंधन एवं बजट कार्यालय में ‘‘राजनीतिक नेतृत्व’’ द्वारा उत्पन्न की गईं ‘‘बाधाओं’’ का सामना करना पड़ रहा है। बाइडन ने कहा, ‘‘ अभी हमें निवर्तमान प्रशासन से महत्वपूर्ण सुरक्षा क्षेत्रों से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी नहीं मिल रही है। मेरा मानना है कि यह गैरजिम्मेदाराना रवैया है।’’ उन्होंने आगाह किया कि उनके दल को रक्षा विभाग की बजट प्रक्रिया में ‘‘पूरी पारदर्शिता’’ चाहिए ताकि भ्रम उत्पन्न करने वाले उन सभी स्थितियों से बचा जा सके, जिनका विरोधी फायदा उठा सकते हैं। बाइडन को विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री और गृह मंत्री पद के लिए नामित सांसदों तथा भावी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सहित राष्ट्रीय सुरक्षा टीमों के सदस्यों एवं सलाहकारों ने महत्वूपर्ण जानकारी मुहैया कराने कराई थी, जिसके बाद उनका यह बयान आया है। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी टीम ने पाया कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान ‘‘ हमारी सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण एजेंसियों को भारी नुकसान हुआ है’’। उन्होंने कहा, ‘‘ इनमें से कई में कर्मियों की कमी हो गई है और उनकी क्षमता तथा मनोबल भी कमजोर पड़ गया है....जो हमारी सरकार के लिए अमेरिकी लोगों की रक्षा करना कठिन बनाता है।’’

कोई टिप्पणी नहीं: