बिहार को अधिक से अधिक मदद दिलाने का करूंगा प्रयास : सुशील मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 7 दिसंबर 2020

बिहार को अधिक से अधिक मदद दिलाने का करूंगा प्रयास : सुशील मोदी

will-try-more-help-to-bihar-sushil-modi
पटना 07 दिसंबर, बिहार से राज्यसभा के लिए निर्वाचित सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि वह राज्यसभा में जहां बिहार के मुद्दों को प्रमुखता से उठायेंगे वहीं केन्द्र सरकार और उसके विभिन्न मंत्रालयों से प्रदेश को अधिक से अधिक मदद दिलाने की कोशिश भी करते रहेंगे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री मोदी ने राज्यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचन के बाद सोमवार को बिहार विधानसभा में पटना के आयुक्त से जीत का प्रमाण-पत्र लेने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा, विपक्षी पार्टियों एवं उन सभी का आभार व्यक्त किया जिन सदस्यों ने उनके नामांकन पत्र पर प्रस्तावक के तौर पर हस्ताक्षर किया था। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में वह जहां बिहार के मुद्दों को प्रमुखता से उठायेंगे वहीं केन्द्र सरकार और उसके विभिन्न मंत्रालयों से बिहार को अधिक से अधिक मदद दिलाने की कोशिश भी करते रहेंगे। श्री मोदी ने निर्विरोध निर्वाचन का मार्ग प्रशस्त करने के लिए विपक्ष का भी आभार जताया। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विशेष तौर पर धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने नामांकन और आज प्रमाण पत्र हस्तगत करने के दौरान उपस्थित होकर हौसला बढ़ाया है।  राज्यसभा सदस्य ने कहा कि पार्टी ने उन्हें बिहार विधानसभा में मुख्य सचेतक, विधानसभा और विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष, उपमुख्यमंत्री और भागलपुर से सांसद के तौर पर बिहार की जनता की सेवा करने का जो मौका दिया, उसके लिए वह कृतज्ञ हैं। एक बार फिर पार्टी ने उन्हें देश के उच्च सदन राज्यसभा में भेज कर बिहारवासियों की सेवा का अवसर दिया है। हर क्षण पार्टी और बिहार की जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने का प्रयास करूंगा। 

कोई टिप्पणी नहीं: