भारत में कोविड-19 के 16,311 नए मामले, कुल मामले 1,04,66,595 हुए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 11 जनवरी 2021

भारत में कोविड-19 के 16,311 नए मामले, कुल मामले 1,04,66,595 हुए

16311-covid-in-india
नयी दिल्ली, 11 जनवरी, भारत में पिछले करीब साढ़े छह महीने में 24 घंटे में सबसे कम 16,311 कोविड-19 के नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,04,66,595 हो गए, जिनमें से 1,00,92,909 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार 161 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,51,160 हो गई। आंकड़ों के अनुसार 1,00,92,909 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.43 प्रतिशत हो गई। वहीं कोविड-19 से मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है। देश में उपचाराधीन लोगों की संख्या तीन लाख से कम है। अभी 2,22,526 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 2.13 प्रतिशत है। भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख के पार चली गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवम्बर को 90 लाख और 19 दिसम्बर को एक करोड़ के पार चले गए थे। भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में अभी तक कुल 18,17,55,831 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई, जिनमें से 6,59,209 नमूनों की जांच रविवार को की गई। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में वायरस से अभी तक 1,51,160 लोगों की वायरस से मौत हुई, जिनमें से महाराष्ट्र के 50,061, तमिलनाडु के 12,222, कर्नाटक के 12,140, दिल्ली के 10,678, पश्चिम बंगाल के 9,941, उत्तर प्रदेश के 8,495, आंध्र प्रदेश के 7,129 और पंजाब के 5,445 लोग थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की मौत हुई, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं। मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: