गणतंत्र दिवस समारोह के बाद ट्रैक्टर रैली, पुलिस सहमत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 24 जनवरी 2021

गणतंत्र दिवस समारोह के बाद ट्रैक्टर रैली, पुलिस सहमत

after-republic-day-parade-farmer-tractor-rally
नयी दिल्ली, 24 जनवरी, दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस समारोह के समापन के बाद किसानों की ट्रैक्टर रैली को अनुमति दे दी है। दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त (खुफिया) दीपेंद्र पाठक ने रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली पुलिस ने किसान संगठनों से पांच से छह बार लंबे संवाद के बाद किसानों की इच्छाओं का सम्मान करते हुए गणतंत्र दिवस समारोह के बाद ट्रैक्टर रैली की अनुमति दे दी है। ट्रैक्टर रैली सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर से दिल्ली के अंदर कुछ किलोमीटर तक अंदर आएगी। करीब एक सौ किलोमीटर दूरी तक ट्रैक्टर रैली दिल्ली के अंदर रहेगी। सिंघु बार्डर से ट्रैक्टर परेड चलेगी जो संजय गांधी ट्रांसपोर्ट, कंझावला, बवाना, औचन्दी बॉर्डर होते हुए हरियाणा में चली जाएगी। टिकरी बार्डर से ट्रैक्टर परेड नागलोई, नजफगढ, झरोदा, ढांसा, बादली होते हुए केएमपी पर चली जाएगी। गाजीपुर यूपी गेट से ट्रैक्टर परेड अप्सरा बार्डर गाजियाबाद होते हापुड़ रोड पर परेड पर होगी। श्री पाठक ने कहा कि किसानों की ट्रैक्टर रैली में बाधा उत्पन्न करने के लिए पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान से 308 ट्विटर हैंडल से तरह तरह के संशय पैदा करने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि किसानों की इस रैली में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न ना हो इसके लिए भी पुलिस का पूरा बंदोबस्त किया जाएगा। रैली के मार्ग में आपात चिकित्सा मुहैय्या कराने के साथ पूरी तरह शांति और सौहार्द्र के साथ इसे पूरा किया जाएगा। हर जगह एक पेशेवर तरीके से काम करने के लिये किसानों के साथ बातचीत के बाद अंतिम निर्णय लिया गया है। हरियाणा और उत्तर प्रदेश के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक में निर्णय लिया गया कि नियम काननू को ध्यान में रखकर रैली को शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने पर सहमति हुई है। किसान संगठन पिछले दो माह से कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ और फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को कानूनी दर्जा देने कि मांग को लेकर राजधानी की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। सरकार के साथ किसान संगठनों की ग्यारह दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन कोई निर्णय नहीं हो सका है।

कोई टिप्पणी नहीं: