बिहार : वैक्सीन आने के पहले हमारे स्वास्थ्य कर्मी तैयार हो गये हैं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 जनवरी 2021

बिहार : वैक्सीन आने के पहले हमारे स्वास्थ्य कर्मी तैयार हो गये हैं

bihar-health-worker-ready-for-vaccine
पटना. भारत में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया गया है. बिहार में राजधानी पटना के साथ जमुई और बेतिया में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया गया है. देश के हर राज्य में दो-दो शहरों में ड्राई रन आयोजित किया गया. बिहार के तीन जिले को चुना गया.राजधानी के फुलवारी शरीफ अस्पताल में ड्राई रन हुआ. मॉक ड्रिल के दौरान लगभग 100 स्वास्थ्यकर्मियों पर वैक्सीनेशन किया गया. पहले उनका रजिस्ट्रेशन हुआ.फिर टीका लेने वालों को 30 मिनट तक ऑब्जर्वेशन में रखा गया.इसके लिए ऑब्जर्वेशन कक्ष भी बनाए गए हैं.इस दौरान सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि सभी राज्यों में वैक्सीनेशन के मॉक ड्रिल को प्रमुखता से लिया गया है. दानापुर अनुमंडल अस्पताल में शनिवार को वैक्सीन का ट्रायल रन शुरू हो गया.इसकी शुरुआत स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने किया. यह ट्रायल रन पटना के तीन जगहों पर किया जा गया. इसमें फुलवारीशरीफ, दानापुर और शास्त्रीनगर शामिल हैं. शास्त्रीनगर में अनिता कुमारी नामक ए.एन.एम.से स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने जानकारी मांगी तो उक्त ए.एन.एम.ने सटीक जानकारी दे दी.  प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि यह एक मॉक ड्रिल है.हमारे पास जब वैक्सीन आ जाएगी तब किस-किस तरह की मुश्किल आ सकती हैं, इसके जरिए हम पता लगा सकेंगे. स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि बिहार के हर जिले के लिए हमने तैयारी की है. हमारी टीम पूरी तत्परता के साथ इस चुनौती को ले रही है.बिहार में वैक्सीन आने के पहले हमारे स्वास्थ्य कर्मी को तैयार किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पहले स्वास्थ्य कर्मियों को और उसके बाद नगर परिषद के कर्मचारियों को शामिल किया जाएगा. पहले फेज में उन्हें वैक्सीनेशन में शामिल होने के बाद ही दूसरे फेज में आम लोगों को वैक्सीन दिया जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं: