बिहार : मई तक बन जाएगा गंगा पर तीसरा रेल सह सड़क - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 जनवरी 2021

बिहार : मई तक बन जाएगा गंगा पर तीसरा रेल सह सड़क

till-may-third-bridge-on-ganga
पटना : बिहार के पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने मुंगेर घाट पर रेल सह सड़क पुल का निर्माण कार्य इस साल मई तक पूरा करने का निर्देश दिया है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण 14.51 किलोमीटर लंबे 2 लेन पुल का निर्माण 228 करोड़ की लागत से कर रहा है। मोकामा में राजेन्द्र सेतु और पटना में जेपी सेतु के बाद राज्य में गंगा नदी पर यह तीसरा रेल सह सड़क पुल होगा। पांडेय ने बताया कि प्रधानमंत्री पैकेज में घोषित इस परियोजना के अंतर्गत मुंगेर में गंगा नदी पर नेशनल हाइवे संख्या-80 को एनएच-31 से जोड़ने के लिए मुंगेर घाट पर रेल सह सड़क पुल का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। इस पुल के निर्माण के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा इस पथांश को राष्ट्रीय उच्च पथ संख्या-333 बी पूर्व में ही घोषित किया जा चुका है। पुल का निर्माण कार्य दिसंबर 2018 में प्रारंभ किया गया था। वर्तमान में आधा से अधिक निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। पहुंच पथ के निर्माण के लिए भी लगभग 225 करोड़ की लगात से भू-अर्जन कार्य पूण कर लिया गया है। मुंगेर जिला के कुछ मौजा में असर्वेक्षित भूमि के रैयतीकरणर का कार्य पूरा किया जा चुका है। उन्होंने बतया कि राज्य के मुख्य सचिव ने भी वर्चुअल कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राष्ट्रीय उच्च पथ की महत्वपूर्ण परियोजनाओं के भू-अर्जन कार्य की समीक्षा करते हुए जिला पदाधिकारी, मुंगेर को एक माह के अंदर संपूर्ण कार्यक्षेत्र में बाधा रहित भूमि उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। निर्माण कार्य पूर्ण होने के उपरांत उत्तर बिहार एवं दक्षिण बिहार को जोड़ने के लिए नया सेतु उपलब्ध होगा, जिससे इस क्षेत्र में विकास की नई धारा बहेगी। इस योजना की पाक्षिक समीक्षा कर सभी अवरोधों को ससमय दूर करते हुए कार्य को मई 2021 तक हर हाल में पूर्ण कराने का निर्देश दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं: