गोपनीय सूचना के लीक पर सफाई दें मोदी : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 जनवरी 2021

गोपनीय सूचना के लीक पर सफाई दें मोदी : कांग्रेस

congress-raise-question-on-arnab-gate
नयी दिल्ली, 20 जनवरी, कांग्रेस ने बालाकोट हवाई हमले की सूचना लीक होने को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा बताते हुए इस पूरे प्रकरण की जांच की मांग की और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश की साख पर लगे इस दाग को धोने के लिए सामने आना चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री ए के एंटनी, गुलाम नबी आजाद, सुशील कुमार शिंदे, सलामान खुर्शीद तथा पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने बुधवार को यहां कांग्रेस मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पत्रकार अर्णब गोस्वामी तथा निजी समाचार चैनलों की नियामक संस्था बार्क के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी पार्थो दासगुप्ता के बीच बालाकोट हवाई हमले को लेकर जो वाह्टस एप चैट सामने आए हैं वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है और इस पूरे मामले की तुरंत जांच होनी चाहिए। पार्टी नेताओं ने कहा कि बालाकाेट हवाई हमले की जानकारी एक पत्रकार के पास पहुंचना असामान्य बात है। किसी भी सैन्य कार्रवाई की जानकारी अत्यंत गोपनीय होती है और इसकी जानकारी सिर्फ पांच लोगों प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, रक्षा मंत्री, वायु सेना प्रमुख तथा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के पास ही होती है। इन पांच लोगों के अलावा इस सूचना को लीक करना गंभीर अपराध होता है। बालाकाेट हवाई हमले की जानकारी पत्रकार अर्णब को कैसे मिली और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा यह मामला लीक कैसे हुआ इसकी जांच जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रकरण को पार्टी बजट सत्र के दौरान संसद में उठाएगी और सरकार से इस मुद्दे पर जवाब देने की मांग करेगी। श्री एंटनी ने कहा कि अर्णब गोस्वामी और बार्क के पूर्व सीईओ के बीच हुई बातचीत में जो तथ्य सामने आये हैं वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरे की तरफ इशारा करते हैं। इन दोनों के बीच वाह्टस एप पर जो बातचीत हुई है वह बहुत दुखद और अत्यंत गंभीर है। यह बड़ा सवाल है कि एक पत्रकार को बालाकोट हवाई हमले की जानकारी पहले कैसे और किसके द्वारा दी गयी। 

कोई टिप्पणी नहीं: