बिहार : नीतीश हैं घोटालों के सृजनकार्ता, गिरफ्तार करके दिखाएं : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 22 जनवरी 2021

बिहार : नीतीश हैं घोटालों के सृजनकार्ता, गिरफ्तार करके दिखाएं : तेजस्वी

nitish-creates-scams-tejaswi
पटना : बिहार सरकार द्धारा कल देर रात एक आदेश जारी किया गया कि सोशल मीडिया पर सांसदों, मंत्रियों, विधायकों, सरकारी अफसरों, के खिलाफ यदि अब यदि अभद्र टिप्पणी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं इस आदेश को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जोरदार सियासी हमला बोला है। तेजस्वी यादव ने खुद को तार करने की चुनौती तक दे डाली है। दरसअल तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि 60 घोटालों के सृजनकर्ता नीतीश कुमार भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह, दुर्दांत अपराधियों के संरक्षकर्ता, अनैतिक और अवैध सरकार के कमजोर मुखिया है। बिहार पुलिस शराब बेचती है। अपराधियों को बचाती है निर्दोषों को फँसाती है। CM को चुनौती देता हूँ- अब करो इस आदेश के तहत मुझे गिरफ़्तार। इसके साथ ही उन्होंने एक और ट्वीट करते हुए लिखा कि हिटलर के पदचिन्हों पर चल रहे मुख्यमंत्री की कारस्तानियां प्रदर्शनकारी चिह्नित धरना स्थल पर भी धरना-प्रदर्शन नहीं कर सकते। सरकार के ख़िलाफ लिखने पर जेल। आम आदमी अपनी समस्याओं को लेकर विपक्ष के नेता से नहीं मिल सकते। नीतीश जी, मानते है आप पूर्णत थक गए है लेकिन कुछ तो शर्म किजीए। वहीं विपक्ष द्वारा लगातार इस आदेश का विरोध करने के बाद सरकार को इस आदेश को लेकर बैकफुट पर आना पड़ा है। एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने कहा है कि आर्थिक अपराध इकाई द्वारा जो आदेश जारी किया गया है यह नियम पहले से है और अब इस मामले कि लेकर यहीं कहा गया है कि सोशल मीडिया पर टिप्पणी सही हो, अपमानजनक नहीं हो, आपत्तिजनक नहीं हो। उन्होंने कहा कि अगर इसका उल्लंघन होता है तो जो नियम है उस पर कार्रवाई होगी। इसके आगे एडीजी आर्थिक अपराध नैयर हसनैन खान ने कहा कि यह पत्र लोगों को यह जानकारी देने के लिए जारी किया गया है कि आईटी ऑफेंस के तहत जो मामले आएंगे, उन पर ही कार्रवाई होगी

कोई टिप्पणी नहीं: