राहुल गाँधी ने किसानों की पीड़ा पर जारी की पुस्तिका - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 जनवरी 2021

राहुल गाँधी ने किसानों की पीड़ा पर जारी की पुस्तिका

rahul-gandhi-release-booklet-for-farmer-protest
नयी दिल्ली, 19 जनवरी, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसान आंदोलन को किसानों के संकट से उपजा आंदोलन बताते हुए मंगलवार को किसानों की 'दुर्दशा' को उजागर करने वाली एक पुस्तिका जारी की जिसमें बताया गया है कि सरकार एक प्रक्रिया के तहत किसानों को बर्बाद करने का काम कर रही है। श्री गांधी ने यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में ‘खेती का खून तीन काले कानून’ नाम से प्रकाशित पुस्तिका का विमोचन करते हुए कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन कर रहे हैं और कांग्रेस इस आंदोलन में शामिल किसानों की मांग का समर्थन करती है और उनके साथ खड़ी है। पार्टी किसानों का सम्मान करती है और उन्हें गुलाम बनाने की जो प्रक्रिया चल रही है उसके खिलाफ किसानों के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि देश आज एक त्रासदी से गुजर रहा है। देश के करोडों युवाओं का भविष्य दांव पर लग गया है। वह अकेले किसानों के बारे में नहीं बोल रहे हैं बल्कि उन युवाओं के बारे में भी बोल रहे हैं जो देश का भविष्य है। उनकी लड़ाई सिर्फ किसानों के लिए ही नहीं बल्कि उन करोड़ों युवाओं के लिए भी है जो देश का भविष्य हैं। युवाओं के भविष्य को चौपट किया जा रहा है। कांग्रेस नेता ने कहा “आज देश में डर का माहौल है। अगर आप सरकार के खिलाफ बोलते हैं तो आपका डाराया जाएगा लेकिन मैं डरता नहीं हूं। मैं अकेला खड़ा हो जाऊंगा। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। कारण मैं साफ सुधरा आदमी हूं। मुझे कोई छू नहीं सकता। हां गोली से मार सकते हैं, मगर छू नहीं सकते1 मैं देशभक्त हूं और अपने देश की रक्षा करता हूं। सत्तर अस्सी साल पहले जिस चीज के लिये देश लड़ा था , अब वहीं हो रहा है।” 

कोई टिप्पणी नहीं: