मधुबनी : अखिल भारतीय किसान आंदोलन के समर्थन में रेल रोको आन्दोलन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 18 फ़रवरी 2021

मधुबनी : अखिल भारतीय किसान आंदोलन के समर्थन में रेल रोको आन्दोलन

protest-for-farmers-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) अखिल भारतीय किसान आंदोलन के समर्थन में मधुबनी में 2 बजे से रेल रोको आन्दोलन किया गया । संयुक्त संगठन के बैनर तले , महागठबन्धन  दलों  सीपीआई एवं राजद भी किसान   संगठन के साथ इस आंदोलन कर समर्थन में उतरे । ठीक 2 बजे राजेन्द्र नगर -जयनगर इंटरसिटी को आंदोलनकारियों ने रोका । 45 मिनट तक ट्रेन को रोकने के बाद रेलवे प्रसाशन द्वारा  सभी आंदोलन कारियों को गिरफ्तार किया गया । किसान नेता कृपानंद आजाद , मनोज मिश्रा ,लक्ष्मण चौधरी , राजद के जिला प्रवक्ता इंद्रजीत राय , देवनारायण यादव ,रमानंद बरनैता सीपीआई जिला मंत्री मिथिलेश झा , बिहार महिला समाज कर महासचिव राजश्री किरण , तिरपित पासवान ,परसुराम झा ,सूर्यमोहन झा श्री नारायण मण्डल , जगन्नाथ पंजियार , सहित सैकड़ों  गिरफ्तारियों को  4 बजे रिहाई मिली ।  तीनो कृषि कानूनों को रद्द करने , पेट्रोल-डीज़ल एवं रसोई गैस में हो रहे अप्रत्याशित मूल्य वृद्धि , बेरोजगारी ,निजीकरण सहित अन्य ज्वलंत मुद्दों को किसान आंदोलन का स्वरूप देने की जरूरत है । केंद्र सरकार देश के अर्थव्यवस्था को समाप्त करने पर लगी हुई है । निजीकरण के रास्ते कृषि एवं उद्योगों को बेचने में लगी ये सरकार नौजवान विरोधी तो थी ही , किसान- मजदूरों को भी सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है । प्रधानमंत्री के द्वारा संसद में किसानों को आंदोलनजीवी कहने की निंदा करते हुए आंदोलन कारियों द्वारा मांग किया गया कि अविलम्ब केंद्र सरकार तीनो किसान विरोधी काला कानून रदद् करें ।

कोई टिप्पणी नहीं: