भोपाल : भारतीय जीवन मूल्य और संस्कार वैज्ञानिक: माहेष्वरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 16 फ़रवरी 2021

भोपाल : भारतीय जीवन मूल्य और संस्कार वैज्ञानिक: माहेष्वरी

bhopal-news
भोपाल। 16 फरवरी।  हिन्दू धर्म, जीवन मूल्य और संस्कार पूर्णतः वैज्ञानिक हैं। इन्हीं संस्कारों से मनुष्य नर से नारायण की यात्रा तय करता है। यदि मनुष्य में संस्कार नहीं तो वह पषु के समान है। ऐसा व्यक्ति न तो परिवार के काम आता है, न समाज के काम आता है और न ही देष के काम आता है, यह विचार विद्याभारती मध्य भारत प्रांत के संगठन मंत्री श्री निखिलेष माहेष्वरी ने सरस्वती विद्या मंदिर षिवाजीनगर द्वारा बसंत पंचमी उत्सव के अवसर पर आयोजित विद्यारंभ संस्कार के अवसर पर व्यक्त किये। इस अवसर पर 150 षिषुओं का विद्यारंभ संस्कार कराया गया। उपरोक्त कार्यक्रम में श्री माहेष्वरी ने अपने उद्बोधन में संस्कारों के जीवन में प्रभाव का उदाहरण देते हुये कहा कि पुदुच्चेरी आश्रम में श्री मां ने पौधों के दो समूह पर प्रयोग किया। एक समूह को अच्छा शास्त्रीय संगीत सुनाया तथा पौधों के दूसरे समूह को पाॅप म्यूजिक सुनाया। कुछ समय बाद देखा कि जिन पौधों को शास्त्रीय संगीत सुनाया था उनकी पत्तियाॅ एक समान व पूर्ण विकसित थी तथा दूसरे समूह के पौधों की पत्तियाॅ छिन्न भिन्न कटी व अर्धविकसित पाई गई। इसी प्रकार अच्छे संस्कारों का मनुष्य के जीवन में प्रभाव पड़ता है। इसी उद्देष्य को ध्यान में रखकर सरस्वती शिशु मंदिरों में बसंत पंचमी के दिन तीन से पांच वर्ष के षिषुओं का विद्यारंभ संस्कार का कार्यक्रम किया जाता है। कार्यक्रम में भोपाल विभाग के विभाग समन्वयक श्री गुरूचरण जी गौड़ ने बताया कि प्राचीन गुरू-शिष्य पंरपरा के अनुसार माता-पिता इसी दिन अपने शिशु को गुरूकुल में सौंपते थे। जिस तरह सैनिकों के लिए उनके शस्त्र और विजयादशमी पर्व महत्व है, उसी तरह और उतना ही महत्व विद्यार्थियों के लिए बसंत पंचमी का है। शिशु को बचपन से जो संस्कार दिये जाते हैं, वह उसके सर्वांगीण विकास में सहायक होते हैं। विद्याभारती का लक्ष्य शिक्षा के साथ संस्कार देना है। विद्यालय समिति के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र जी गौतम ने अपने उद्बोधन में कहा कि शिक्षा के साथ संस्कार ग्रहण करने पर ही मनुष्य भावी जीवन में अपने दायित्वों का निर्वहन कर समाज में अपनी पहचान बनाने का काम कर सकता है। कार्यक्रम के अंत में उपरोक्त सभी अधिकारियों ने 150 बच्चों के साथ हवन में भाग लिया, माँ सरस्वती की पूजन की गई और प्रसाद वितरण के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

कोई टिप्पणी नहीं: