मधुबनी : किसान महासभा व महागठबंधन का चक्का जाम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 फ़रवरी 2021

मधुबनी : किसान महासभा व महागठबंधन का चक्का जाम

  • #किसान समन्वय समिति के आवाहन पर राष्ट्रव्यापी सड़क जाम के तहत मधुबनी समाहरणालय के समक्ष किसान महासभा व महागठबंधन के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने 02 बजे से 03 बजे तक किया चक्का जाम।
  • #किसान आंदोलन पर दमन नहीं सकेगा हिंदुस्तान।
  • #मोदी सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानून लागू होने से ,गरीबों को सरकार द्वारा सस्ता अनाज मीलना बंद हो जायेगा।
  • # किसान आंदोलन के साथ दुश्मन जैसा ब्यबहार कर रही मोदी सरकार।

farmer-chakka-jam-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) आंदोलनरत किसानों पर मोदी सरकार द्वारा किए जा रहे दमन के खिलाफ और तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग सहित अन्य मांगों पर आयोजित किसान समन्वय समिति के आवाहन पर राष्ट्रव्यापी पैमाने पर आयोजित सड़क जाम/चक्का जाम आंदोलन के तहत मधुबनी समाहरणालय के समक्ष 02 बजे से 03 बजे तक प्रधान सड़क को जाम किया गया। सड़क जाम स्थल पर ही सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि किसानों के आंदोलन पर दमन बंद करे मोदी सरकार। आज संपूर्ण देश के लाखों करोड़ों किसान मजदूर और जनता सड़क जाम में शामिल होकर दिखा दिया है कि यह सारे देश के सारे जनता का आंदोलन है।आगे कहा कि आंदोलनकारी किसानों, मजदूरों के साथ मोदी सरकार दुश्मन जैसा ब्यबहार कर रही है। आंदोलनरत किसानों के खिलाफ बैरिकेट लगाने के नाम पर कटीली तार एवं सड़क पर किल कांटा गार रही है। और यह अपब्यबहार अपने मालिक अडानी अंम्बानी जैसे दर्जन भर कारपोरेट घरानों के हाथों खेत और खेती को बंधक बनाने के लिए किया जा रहा है। किसान मजदूर जान गयें है कि इस कानून के लागू होने से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किसानों से अनाज खरीद कर,जन बितरण प्रणाली के माध्यम से जो गरीबों को सस्ता अनाज मील रहा है, वह भी बंद हो जायेगा। क्योंकि जब सरकार अनाज नहीं खरीदेगी तो बांटेगी कहां से? उन्होंने आगे कहा कि खेत खेती पर कारपोरेटों का कब्जा होने के बाद किसान अपने खेतों में ही मजदूर बनेंगे और मजदूर बनेगा बेरोजगार। कारपोरेट घरानों को असीमित अनाज भंडारण करने का अधिकार मील जाने से अनाजों का मनमानी रेट तय होगा,जिस कारण अनाज भी बहुत महंगी हो जाएगी। और महंगे अनाज खरीदने के लिए सारे लोग मजबूर हो जायेंगे।यही कारण है कि देश के लाखों करोड़ों किसान मजदूर एवं जनता सारे देश में सड़कों पर उतर आए है। सड़क जाम आंदोलन में स्थानीय राजद बिधायक समीर कुमार महासेठ, माले के अनिल कुमार सिंह, कांग्रेस के शीतलांम्बर झा, सीपीएम के भोगेंद्र यादव, सीपीआई के मिथिलेश झा सहित किसान महासभा के जिला अध्यक्ष महाकांत यादव, गणेश यादव,बिशंम्भर कामत, शंकर पासवान, योगेन्द्र यादव,खेग्रामस के सिंहेश्वर पासवान,राज कुमार पासवान, मिथिलेश पासवान,सुरज मुखिया,सीटू के जिला संयोजक राजेश मिश्रा सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं: