बिहार : प्रदेश अध्यक्ष बदलकर पार्टी बचाने में जुटे चिराग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 17 फ़रवरी 2021

बिहार : प्रदेश अध्यक्ष बदलकर पार्टी बचाने में जुटे चिराग

chirag-changing-in-party
पटना, विधानसभा चुनाव में बिहार एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने के बाद लोजपा सुप्रीमो के समक्ष कई चुनौतियां हैं। सबसे बड़ी चुनौती है लोजपा को एकजुट रखने की। चुनाव परिणाम आने के बाद चिराग के नेतृत्व में सुरक्षित भविष्य नहीं देखने वाले नेता कांग्रेस व जदयू में जाना शुरू कर दिया है। कुछ दिनों पहले लोजपा के कुछ नाराज नेताओं ने कांग्रेस का दामन थामा तो 18 फरवरी को केशव सिंह के नेतृत्व में 60 से अधिक कार्यकर्त्ता जदयू में शामिल होने जा रहे हैं। चुनाव परिणाम आने के बाद संगठन की नाराजगी को भांपते हुए चिराग ने दिसंबर में लोजपा की प्रदेश कार्यसमिति को भंगा कर दिया था। सभी प्रकोष्ठों को भंग करने के बाद यह कहा जा रहा है कि संगठन के अंदर नारजगी को कम करने के लिए चिराग ने ऐसा किया है। लेकिन, ढाई महीने बीतने के बाद अभी तक बात बनती नहीं दिख रही है। चर्चाओं की मानें तो लोजपा इस बार प्रदेश अध्यक्ष परिवार के बाहर के लोगों को बनाना चाहती है। चिराग प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर भूमिहार,राजपूत या कुशवाहा चेहरे की तलाश में हैं। फिलहाल प्रदेश अध्यक्ष चिराग के भाई प्रिंस राज हैं, जो समस्तीपुर से सांसद हैं। वहीं, यह भी कहा जा रहा है कि इस प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति में देरी इसलिए हो रही है, क्योंकि प्रिंस राज को कोई अन्य जिम्मेदारी के लिए तैयार किया जा रहा है। ज्ञातव्य हो कि बिहार विधानसभा चुनाव में लोजपा का सबसे शानदार प्रदर्शन 2005 में रहा, जब पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बिहार सरकार के मंत्री सुमित सिंह के पिता नरेन्द्र सिंह थे। नरेंद्र सिंह के प्रदेश अध्यक्ष रहते, उस चुनाव में लोजपा के 29 विधायक जीते थे। लेकिन, राज्य में कोई सरकार नहीं बनते देख नरेन्द्र सिंह लोजपा के कई विधायकों के साथ जदयू में शामिल हो गए थे।

कोई टिप्पणी नहीं: