केंद्र सरकार काले कृषि कानून को जनता पर थोपना चाहती है : डॉ. उरांव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 फ़रवरी 2021

केंद्र सरकार काले कृषि कानून को जनता पर थोपना चाहती है : डॉ. उरांव

government-forcing-bill-remeshwar-uranv
रांची, 06 फरवरी, झारखंड प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ. रामेश्वर उरांव ने नए कृषि कानून को लेकर केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि पूरे देश में किसानों के तेज हो रहे आंदोलन के बावजूद किन कारणों से केंद्र सरकार इस काले कानून को जनता पर थोपना चाहती है यह किसी के भी समझ से परे है। कृषि कानून के खिलाफ किसान संगठनों के देशव्यापी चक्का जाम प्रदर्शन में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं ने भी आज यहां बढ़कर हिस्सा लिया। इस मौके पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह झारखंड राज्य के वित्त तथा खाद आपूर्ति मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि केंद्र सरकार की हठधर्मी रवैये और तीन नए कृषि कानून के खिलाफ देशभर के किसान आंदोलनरत है। इसके बावजूद किन कारणों से भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार इस काले कानून को जनता पर थोपना चाहती है यह किसी के भी समझ से परे है। डॉ. उरांव ने कहा कि देश के 70 वर्षों के इतिहास में कई कानून बने हैं और कई कानून वापस किए गए हैं और यदि किसानों के लिए बनाए गए इस कानून को किसान ही वापस लेने की मांग कर रहे हैं तो फिर यह कानून से किस का लाभ होगा इसे बताया जाना चाहिए। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यदि इस कानून को वापस ले लिया जाता है तो इससे सरकार की हार नहीं होगी बल्कि देश की जनता इस निर्णय का स्वागत करेंगी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय कृषि मंत्री का यह कहना कि नए कृषि कानून में कुछ भी काला नहीं है, तो उन्हें यह भी बताना चाहिए कि इस कानून को वापस लेने से देश के किसानों को किस तरह का नुकसान होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: