अक्षर का जादू चला, भारत ने श्रृंखला बराबर की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 16 फ़रवरी 2021

अक्षर का जादू चला, भारत ने श्रृंखला बराबर की

india-beat-england-second-test
चेन्नई, 16 फरवरी, अक्षर पटेल और रविचंद्रन अश्विन ने मनमाफिक परिस्थितियों में इंग्लैंड को अपने स्पिन जाल में फंसाकर भारत को दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में मंगलवार को यहां चौथे दिन ही 317 रन से रिकार्ड जीत दिलायी जिससे चार मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबर हो गयी। भारत ने इस जीत से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को जीवंत रखा। इससे वह चैंपियनशिप तालिका में न्यूजीलैंड के बाद दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। भारत को जून में लार्ड्स में होने वाले फाइनल में खेलने के लिये श्रृंखला में अब कम से कम 2-1 से जीत दर्ज करनी होगी। बायें हाथ के स्पिनर पटेल ने 60 रन देकर पांच विकेट लिये। वह नौवें भारतीय हैं जिन्होंने अपने पदार्पण मैच में पांच विकेट लिये। भारत की दूसरी पारी में शतक जड़ने वाले ऑफ स्पिनर अश्विन ने 53 रन देकर तीन विकेट हासिल किये जबकि बायें हाथ के कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव (25 रन देकर दो) ने बाकी बचे दो विकेट लिये। इससे इंग्लैंड की टीम 482 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए चौथे दिन लंच के कुछ देर बाद 164 रन पर ढेर हो गयी। भारत की यह रनों के लिहाज से पांचवीं बड़ी जीत है। इंग्लैंड के खिलाफ उसने अपनी अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज की। इससे पहले उसने 1986 में लीड्स में 279 रन से जीत हासिल की थी। भारत ने अपनी सबसे बड़ी छह जीत में से पांच जीत विराट कोहली की अगुवाई में दर्ज की हैं। चेन्नई की पिच को लेकर इंग्लैंड के खेमे में काफी होहल्ला मचा रहा लेकिन इसी विकेट रोहित शर्मा ने पहली पारी में 161 रन बनाये जबकि आठवें नंबर के बल्लेबाज अश्विन ने दूसरी पारी में 106 रन की पारी खेली। इसके अलावा अंजिक्य रहाणे, ऋषभ पंत और कोहली ने भी अर्धशतक जमाये। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘परिस्थितियां दोनों टीमों के लिये चुनौतीपूर्ण थी लेकिन हमने बल्लेबाजी में बेहतर प्रदर्शन किया। हम टर्न और उछाल देखकर घबराये नहीं। हमने दृढ़ता दिखायी और मैच में 600 से अधिक रन बनाये।’’


इंग्लैंड की तरफ से कोई भी बल्लेबाज अर्धशतक तक नहीं पहुंचा। यह 1995 के बाद पहला मौका है जबकि इंग्लैंड की टीम का दोनों पारियों का कुल योग 300 रन तक नहीं पहुंच पाया। अश्विन ने मैच में आठ विकेट भी लिये और उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा, ‘‘भारत को श्रेय जाता है। उसने तीनों विभाग में हमें पराजित किया। यह हमारे लिये सबक है। आपको इस तरह की परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। हमें इससे सबक लेकर रन बनाने का तरीका निकालना होगा। ’’ इंग्लैंड ने सुबह तीन विकेट पर 53 रन से आगे खेलना शुरू किया। उसके बल्लेबाज शुरू से भारतीय स्पिनरों की बलखाती गेंदों पर चकमा खाते रहे। मोईन अली ने अंतिम क्षणों में तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी करके 18 गेंदों पर 43 रन बनाये और भारत को टेस्ट मैचों की अपनी सबसे बड़ी जीत दर्ज करने से रोका। कुलदीप ने उन्हें स्टंप आउट कराकर इंग्लैंड की पारी का अंत किया। उनके अलावा इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (92 गेंदों पर 33 रन) ही एकमात्र ऐसे बल्लेबाज थे जो स्पिनरों को थोड़ा आत्मविश्वास के साथ खेल पाये। वह लंच से ठीक पहले पवेलियन लौट जाते लेकिन मोहम्मद सिराज ने कुलदीप की गेंद पर उनका आसान कैच टपका दिया। लंच के तुरंत बाद बाद हालांकि पटेल ने उन्हें स्लिप में कैच देने के लिये मजबूर किया। इसके बाद मोईन ने पांच छक्के लगाकर हार का अंतर कम किया लेकिन इंग्लैंड की हार की इबारत मैच के दूसरे दिन ही लिख दी गयी थी जब उसकी टीम भारत के 329 रन के जवाब में 134 रन पर आउट हो गयी थी। भारत ने दूसरी पारी में 282 रन बनाकर बड़ी जीत सुनिश्चित की थी। इंग्लैंड चौथे दिन थोड़ा भी संघर्ष नहीं कर पाया। स्थानीय खिलाड़ी अश्विन ने दिन की अपनी पहली गेंद पर ही डैन लॉरेन्स (26) को पवेलियन की राह दिखायी। ऋषभ पंत ने बड़ी खूबसूरती से उन्हें स्टंप आउट किया। अमूमन आक्रामक बल्लेबाजी करने वाले बेन स्टोक्स ने रक्षात्मक रवैया अपनाया। उन्होंने अश्विन की गेंद पर आउट होने से पहले 51 गेंदों पर आठ रन बनाये। अत्याधिक रक्षात्मक रवैया अपनाने के कारण अश्विन की गेंद उनके बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर हवा में उछल गयी और विराट कोहली ने आगे डाइव लगाकर उसे कैच कर दिया। ओली पोप (12) ने पटेल की गेंद पर स्लॉग स्वीप करके इशांत शर्मा को कैच का अभ्यास कराया। फॉक्स ने लंच से ठीक पहले कुलदीप की गेंद पर गलत टाइमिंग से स्वीप शॉट खेला जिसे पटेल ने आसानी से कैच में बदला। पटेल ने लंच के बाद रूट और ओली स्टोन को आउट करके पारी में पांच विकेट लेने का कारनामा किया। इंग्लैंड ने इसी स्थान पर पहला मैच 227 रन से जीता था। अगले दोनों मैच अहमदाबाद के सरदार पटेल मोटेरा स्टेडियम में खेले जाएंगे। तीसरा टेस्ट 24 फरवरी से शुरू होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: