मिथिला क्षेत्र के पार्यटनिक विकास की अनदेखी निराशाजनक - मनोज झा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2021

मिथिला क्षेत्र के पार्यटनिक विकास की अनदेखी निराशाजनक - मनोज झा

mithila-tourisam-neglegence-disappointed
मिथिला लोकतांत्रिक मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज झा ने बिहार की एनडीए सरकार पर मिथिला क्षेत्र के पर्यटन स्थलों की घनघोर उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मिथिला क्षेत्र में एतिहासिक रुप से मौजूद तमाम कई पर्यटन स्थलों के बावजूद मिथिला क्षेत्र के पार्यटनिक विकास की लगातार अनदेखी निराशाजनक है। जबकि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वर्षों से लगातार  इस बात को दोहराते आ रहे हैं कि मिथिला के विकास के बिना बिहार का विकास अधूरा है। मोर्चा के अध्यक्ष मनोज झा ने कहा कि मिथिला क्षेत्र का संबंध रामायण काल से रहा है इस बात को तमाम सनातनी ग्रन्थ भी उद्धृत करती है। मिथिला क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर जिसके साक्ष्य आज भी हैं। मिथिला का संबंध माता जानकी से रहा है जबकि सीताजन्मस्थली, अहिल्यास्थान, गौतमकुंड, सीता फुलवारी फुलहर, गिरजा मंदिर, विश्वामित्र आश्रम विशौल, श्रृंगीऋषि आश्रम, यज्ञावलक्य तपोभूमि जगवन, सीताकुंड मुंगेर समेत दर्जनों महत्वपूर्ण रामायण कालीन पर्यटक स्थल मिथिला में मौजूद है लेकिन सबके सब उपेक्षित। मिथिला के आधिकारिक विकास की बात आते ही सरकारी योजनाओं का नालंदा और गया मोड में चला जाना मिथिला नगरी की घनघोर उपेक्षा है जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

कोई टिप्पणी नहीं: