बिहार में तानाशाही कायम करना चाहती है नीतीश सरकार: दीपंकर भट्टाचार्य - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 3 फ़रवरी 2021

बिहार में तानाशाही कायम करना चाहती है नीतीश सरकार: दीपंकर भट्टाचार्य

  • प्रदर्शनों में शामिल होने वाले को नौकरी न देने की बात लोकतांत्रिक अधिकारों की हत्या
  • आज राज्य कार्यालय में पटना नगर के नेताओं के साथ बैठक में शामिल हुए माले महासचिव 

nitish-dictatorship-in-bihar-dipankar
पटना 3 फरवरी, भाकपा-माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि मोदी की तानाशाही की तर्ज पर बिहार में तानाशाही का नीतीश माॅडल विकसित हो रहा है. मोदी-योगी सरकार के नक्शे कदम पर चलते हुए कुछ दिन पहले ही नीतीश सरकार ने सोशल मीडिया पर की गई आलोचनाओं को अपराध की श्रेणी में डाल दिया था और अब प्रदर्शनों में हिस्सा लेने वालों को नौकरी नहीं दिए जाने का फरमान जारी कर दिया गया है. यह प्रतिवाद के लोकतांत्रिक अधिकारों को खत्म कर देने की साजिश है. हमारी पार्टी इसकी मुखालफत करती है और ऐसे लोकतंत्र विरोधी निर्देशों को अविलंब वापस लेने की मांग करती है. माले महासचिव ने उक्त बातें आज पटना राज्य कार्यालय में भाकपा-माले के पटना नगर के साथियों के साथ हुई बैठक में कहीं. बैठक में उनके अलावा माले राज्य सचिव कुणाल, पोलित ब्यूरो के सदस्य धीरेन्द्र झा, अमर, पटना नगर के सचिव अभ्युदय, समता राय, मुर्तजा अली, अशोक कुमार, अनय मेहता, नसीम अंसारी आदि नेता उपस्थित थे. माले महासचिव ने आगे कहा कि बिहार चुनाव में रोजगार एक बड़ा मुद्दा था. चुनाव के बाद बिहार के छात्र-नौजवान ठगा महसूस कर रहे हैं. सरकार उनके साथ दुश्मन की तरह व्यवहार कर रही है और उनसे संवाद तक नहीं करना चाहती है. हाल ही में पटना में शिक्षक अभ्यर्थियों पर बर्बर लाठियां चलाई गईं. उनकी मांगों को सुनने और बहाली प्रक्रिया आरंभ करने की बजाए सरकार छात्र-युवाओं और अन्य तबकाई आंदोलनकारियों को धमका रही है.  दरअसल, नीतीश कुमार बिहार में मोदी के काॅरपोरेटपरस्त नीतियों को ही आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं. जहां वे मानदेय आधारित रोजगार की नीति ही चलाना चाहते हैं, जबकि बिहार के युवाओं की लंबे समय से सम्मानजनक व स्थायी रोजगार की मांग रही है. हमारी मांग है कि चुनाव पूर्व भाजपा-जदयू ने जिन 19 लाख रोजगार की घोषणा की थी, उन पदों पर स्थायी बहाली की जाए. उन्होंने आगे कहा कि हमें उम्मीद है कि बिहार में बढ़ती इस तानाशाही के खिलाफ बिहार की लोकतंत्रपसंद जनता मजबूत प्रतिवाद दर्ज करेगी और नीतीश सरकार को ऐसे कदम वापस लेने के बाध्य करेगी.

कोई टिप्पणी नहीं: