दरभंगा : शिक्षकों एवं कर्मचारियों का वेतन एवं पेंशन भुगतान सुनिश्चित हो : प्रोफेसर विनोद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 15 फ़रवरी 2021

दरभंगा : शिक्षकों एवं कर्मचारियों का वेतन एवं पेंशन भुगतान सुनिश्चित हो : प्रोफेसर विनोद

pay-salary-pension-on-time-binod
दरभंगा 15 फरवरी (आर्यावर्त संवाददाता) बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने बिहार के शिक्षा मंत्री से विश्वविद्यालय के शिक्षाकर्मियों को समय पर वेतन एवं पेंशन का भुगतान एक साथ करने की मांग की है। शिक्षा मंत्री को भेजे अपने पत्र में प्रोफेसर चौधरी ने कहा है कि विश्वविद्यालय के शिक्षाकर्मी विभिन्न समस्याओं से लगातार जूक्षते रहे हैं लेकिन इस ओर अब तक किसी ने गंभीरता से ध्यान नहीं दिया। पूर्व सदस्य बिहार विधान परिषद ने कहा कि विश्वविद्यालय ने शिक्षकों एवं कर्मचारियों की प्रोन्नति को जानबूझकर उलझा दिया है तथा इसे ठंडे बस्ते में डाल रखा है। शिक्षकों की प्रोन्नति संबंधी विशेषज्ञों का रिपोर्ट लगभग 1 वर्ष पूर्व विश्वविद्यालय को प्राप्त हो चुका है और बार-बार सिंडिकेट में मामला उठने के बाद भी अब तक इस दिशा में ठोस पहल नहीं किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। प्रोफेसर चौधरी ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रोन्नतिके मामले में अब तक मनमाना करती रही है। कर्मचारियों की प्रोन्नति का भी यही हाल है। मनचाहे लोगों को लगातार प्रोन्नति दी गई और बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जिन्हें 30 वर्षों की सेवा में एक भी पदोन्नति नहीं मिला। प्रोफेसर चौधरी ने शिक्षा मंत्री का ध्यान संबद्ध महाविद्यालयों के शिक्षाकर्मियों की समस्याओं की ओर भी दिलाया है। अपने पत्र में प्रोफेसर चौधरी ने कहा है की समय पर अनुदान का भुगतान आवश्यक है। पूर्व विधान पार्षद ने कहा कि माननीय शिक्षा मंत्री से लोगों को बहुत सारी उम्मीद है तथा भरोसा है कि विश्वविद्यालय को समस्या से मुक्त करने की दिशा में वे सार्थक पहल करेंगे। उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री यदि विश्वविद्यालयों की स्थिति में सुधार एवं पठन-पाठन को सुनिश्चित करना चाहते हैं तो उन्हें बुद्धिजीवियों तथा विभिन्न संघों के प्रतिनिधियों से बातचीत कर समस्याओं का निदान निकालना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: