बिहार : लोगों के पॉकेट पर काफी असर पड़ेगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 फ़रवरी 2021

बिहार : लोगों के पॉकेट पर काफी असर पड़ेगा

sudha-milk-price-hike
पटना. सुधा के दूध, घी, पनीर के साथ-साथ मिठाई भी मंहगे हो गये हैं. इसका असर बिक्री पर तो नहीं दिख रहा है. लेकिन आम आदमी इसको कोरोना संक्रमण काल में बढ़ रहे महंगाई से जोड़ रहे हैं. लोगों का कहना है कि अभी के समय में दूध का दाम बढ़ाना उचित नहीं है. सामान खरीदना मजबूरी है, लेकिन सरकार ने एलपीजी गैस, पेट्रोल-डीजल के साथ-साथ अब दूध भी मंहगा कर दिया है. जिससे हमलोगों के पॉकेट पर काफी असर पड़ेगा. सरकार महंगाई रोकने में विफल है और आम जनता परेशान है. दूध आवश्यक चीज है, खरीदना भी जरूरी है, क्या करें कुछ उपाय नहीं है. कोरोना से ऐसे ही हमलोग परेशान हुए हैं. मंहगाई ने और परेशान कर रखा है. सरकार को कोरोना काल में ऐसा नहीं करना चाहिए. मजबूरी है, दाम बढ़ गया है फिर भी खरीद रहे हैं. ऐसे भी लोगों का रोजी-रोजगार कोरोना ने छीना है. कमाई नहीं है, लेकिन मंहगाई बढ़ रही है. सरकार का इसपर ध्यान नहीं है. "नार्मल दूध पर 2 रुपये प्रति लीटर बढ़ा है. सुधा शक्ति का दाम 3 रुपये प्रति लीटर बढ़ा है. साथ ही घी, पनीर, मिठाई की कीमत भी बढ़ाई गई है. सिर्फ दही और लस्सी के दाम नहींं बढ़ाये गए हैं. इससे बिक्री पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है. हम प्रतिदिन 1500 लीटर दूध बेचते हैं. आज भी सामान्यतः वही बिक्री हुई है. कुछ ग्राहक यहां आते हैं, वो जरूर ये कहते नजर आते हैं कि अभी कोरोना संक्रमण से लोग उबरे भी नहीं हैं. अभी दूध का दाम बढ़ाना ठीक नहीं है. फिलहाल सुधा के सभी प्रोडक्ट अच्छे से बिक रहे हैं"- राजेश कुमार, दूध बूथ संचालक


बिहार में प्रतिदिन 16 लाख लीटर दुग्ध का उत्पादन डेयरी के माध्यम से किया जाता है. जिसमें 11 से 12 लाख लीटर दूध की बिक्री की जाती है. इसके अलावे दूध से मिठाई, पनीर, घी बनाये जाते हैं. दूध के दाम बढ़ाने की वजह कॉम्फेड ने सहकारी समिति की मांग के साथ-साथ प्रोडक्शन में लग रहे ज्यादा खर्च को बताया है. दूध के दाम बढ़ने से लोगों के पॉकेट पर असर पड़ा है. लोग कोरोना संक्रमण काल में इसे बढ़ती मंहगाई से जोड़कर सरकार के नाकामी बता रहे हैं. पहले फुल क्रीम दूध 50 रुपए प्रति लीटर मिलता था अब फुल क्रीम दूध 52 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है. फुल क्रीम हाफ लीटर 25 रुपया वाला फुल क्रीम हाफ लीटर 27 रुपया में मिल रहा है.स्टैंडर्ड मिल्क 43 रुपए प्रति लीटर था जो अब स्टैंडर्ड मिल्क 46 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है.स्टैंडर्ड मिल्क 22 रुपए वाला हाफ लीटर स्टैंडर्ड मिल्क 24 रुपए हाफ लीटर में मिल रहा है.गाय का दूध 41रुपए प्रति लीटर वाला गाय का दूध 43 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है.गाय का दूध 21रुपए आधा लीटर वाला गाय का दूध 23 रुपए आधा लीटर में मिल रहा है.टोंड मिल्क 40 रुपए प्रति लीटर वाला टोंड मिल्क 41 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है.टोंड मिल्क आधा लीटर 20 रुपया वाला टोंड मिल्क आधा लीटर 22 रुपया में मिल रहा है.डबल टोंड मिल्क 35 रुपए प्रति लीटर वाला डबल टोंड 37 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है.आधे लीटर दूध की कीमत 18 रुपया वाला आधे लीटर की कीमत 20 रुपया हो गया है.स्पेशल दूध 38 रुपए प्रति लीटर वाला स्पेशल दूध 40 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है.स्पेशल दूध आधा लीटर 19 रुपया वाला स्पेशल दूध आधा लीटर 21 रुपया में मिल रहा है. पशुपालकों को दी जाने वाली दर भी कम्फेड ने प्रति किलो 1.36 रुपए से 2.43 रुपए तक बढ़ा दी है. दूध उत्पादकों द्वारा लागत मूल्य में वृद्धि करने की लगातार मांग की जा रही थी.अलग-अलग फैट के दूध की नई कीमत तय की गई है, जिसका भुगतान अब पशुपालकों को किया जाएगा. पशुपालकों को नई दर 11 फरवरी से मिलेगी. पशुपालकों को अब 30.74 रुपए प्रति किलो से लेकर 39.57 रुपए किलो की दर से भुगतान किया जाएगा. साथ ही दूध के मूल्य का करीब 0.5 प्रतिशत समिति सचिव के मार्जिन में सशर्त वृद्धि की गई है.

कोई टिप्पणी नहीं: