जनगणना में अपनी मातृभाषा मैथिली लिखें : संजय झा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 10 फ़रवरी 2021

जनगणना में अपनी मातृभाषा मैथिली लिखें : संजय झा

write-mother-toung-maithili
नई दिल्ली (आर्यावर्त संवाददाता) मैथिली साहित्य महासभा (ट्रस्ट) के चेयरमेन श्री संजय झा ' नागदह' ने सोसल मिडिया के माध्य से बताया की बिहार में खास कर मिथिला क्षेत्र में जो लोग जनगणना के समय में या अन्य समय में जब मातृभाषा लिखने और लिखाने की बात हो उस समय सभी मिथिलावासी को अपनी मातृभाषा 'मैथिली' ही लिखबाना चाहिए।  ज्यादातर देखा गया है कि  भाषा का कॉलम भरते समय लोग इसे खाली छोड़ देते है और अधिकारी कर्मचारी इसे खुद मातृभाषा के कॉलम को हिन्दी भर देते हैं।  हिन्दी हमारी देश की भाषा है , हम इसे दिलोंजान से सम्मान करते हैं परन्तु जब बात मातृभाषा की हो तो निश्चित तौर पर मातृभाषा ही लिखबाना चाहिए। चाहे आप देश - विदेश के किसी भी हिस्से रह रहें हो।  तब  जब भाषाई आधार पर कोई बात होंता है इसी पंजीकरण से पता चल पाता है की कौन सी भाषा के कितने लोग भारत में हैं।  और जब भाषा के आधार पर कुछ लाभ मिलना होता है तो राज्यों या देश में अधिक बोली जाने बाली भाषा को उसका फायदा होता है।  आपकी साहित्य - संस्कृति को इसी साक्ष्य के आधार पर सरकार भी मजबूत करने का काम करती है।  अतः सभी भाई, माता - बहनों से आग्रह किया है की अपनी भाषा के प्रति सचेत रहें।  



दरभंगा समाचार, मिथिला समाचार,  samachar mithila, samachar mithila, mithila news

कोई टिप्पणी नहीं: