दरभंगा : सेनेटरी पैड उत्पादन का पहला पायलट प्रोजेक्ट का हुआ उदघाटन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 मार्च 2021

दरभंगा : सेनेटरी पैड उत्पादन का पहला पायलट प्रोजेक्ट का हुआ उदघाटन

  • महिला दिवस के अवसर पर महिलाओं ने कहा "मेरा पैड मेरा अधिकार"

sanetery-pad-darbhanga
दरभंगा। नैबफाउंडेशन, मुम्बई और नाबार्ड, पटना के संयुक्त सहयोग से बिहार में सेनेटरी पैड उत्पादन के लिए पहला पायलट प्रोजेक्ट का उदघाटन आज अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर घनश्यामपुर प्रखंड के देउरी में किया गया। इस अवसर पर माहवारी स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाने के लिए एक जिला स्तरीय स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजान देउरी ग्राम पंचायत के परिसर में किया गया। इस अवसर पर सुधा वर्गीज , वाईस प्रेसिडेंट, नैब फाउंडेशन, मुम्बई, सुनील कुमार पाण्डेय, सहायक महाप्रबंधक, नाबार्ड पटना, आकांक्षा,डी.डी.एम. दरभंगा, प्रखंड प्रमुख श्रीमती मुद्रिका देवी, दीनानाथ कुमार, सी.ओ, सम्स तवरेज आलम, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अजय कुमार, एल.डी.एम, बिनोद मिश्र, डॉ वंदना, सेमीउल हसन, बी.पी.एम. जीविका आदि गणमान्य लोगों ने भाग लिए।  इस पायलेट प्रोजेक्ट के महत्त्व के बारे में विस्तृत जानकारी नाबार्ड के डीडीएम आकांक्षा द्वारा प्रस्तुत किया गया। साथ ही उन्होंने स्थानीय एवं जिला प्रशासन से इसके मार्केटिंग में सहयोग देने का अनुरोध किया। श्रीमती मुद्रिका देवी, सेमीउल हसन, सम्स तवरेज आलम, दीनानाथ कुमार ने नाबार्ड और नैब फाउंडेशन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए इस कार्यक्रम को सफल बनाने में भरपूर सहयोग देने का आश्वासन दिया। बिनोद मिश्र ने कहा की देउरी गाँव का चयन इस प्रोजेक्ट के लिए बिलकुल सही चयन किया गया क्योंकि इस गाँव में पिछड़ी जाति की बहुलता है, जिनको इस कार्यक्रम से बहुत लाभ मिलेगा। सुधा वर्गीज, वाईस प्रेसिडेंट, नैब फाउंडेशन, मुम्बई ने सभा को आश्वस्त किया कि अगर देउरी गाँव के पायलट प्रोजेक्ट सफल होता है तो बिहार के सभी प्रखंडों में इसे लागू किया जाएगा और इसीलिए आपलोगों के ऊपर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने इस बात पर बल दिया की हमारे समाज में अभी भी ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को मासिक रजस्वला के समय व्यक्तिगत स्वच्छता को लेकर कई तरह के भ्रम एवं गलत प्रथा का चलन है। जिससे उन्हें कई तरह की बीमारियों को झेलना पड़ता है। इसीलिए इसमें सुधार की जरुरत समय की मांग है। विदित हो की इस प्रोजेक्ट को स्थानीय स्तर पर मिथिला ग्राम विकास परिषद् द्वारा किया जाएगा। अतिथियों का स्वागत नारायणजी चौधरी द्वारा किया गया एवं कार्यक्रम की समापन नूतन देवी के धन्यवाद ज्ञापन से किया गया। इस कार्यक्रम के आयोजन में स्थानीय स्तर पर बेबी देवी, शीला देवी, अनन्त, शोभा, विमलेश, प्रकाश बंधू, वीरेंद्र और सौरभ द्वारा सहयोग किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: