बिहार : संत जेवियर्स स्कूल के संचालक राजेश माइकल नहीं रहे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 21 मार्च 2021

बिहार : संत जेवियर्स स्कूल के संचालक राजेश माइकल नहीं रहे

  • * लगभग 1 साल से बीमार थे      
  • * ब्लड शुगर के मरीज थे और ब्लड नहीं बन पा रहा था     

st-xevier-principle-died
चौतरवा.  पश्चिम चम्पारण में है शांतिनगर चौतरवा. जो बगहा प्रखंड 1 पड़ता है. शांतिनगर में ही संत जेवियर्स स्कूल है.इस स्कूल के संचालक राजेश माइकल ही हैं.अब इस दुनिया में नहीं रहे. वे 48 साल के थे.चखनी पल्ली के रहने वाले थे.अविवाहित थे. बताया गया कि वे ब्लड शुगर के मरीज थे.ब्लड नहीं बन पा रहा था.  लगभग 1 साल से बीमार थे.इस बीच उनके पैर में एक काटी चुभ गयी थी. ब्लड शुगर के मरीज होने के कारण उनका पैर ज्यादा खराब हो गया था. तीन माह से पटना में इलाज करवा रहे थे. संत जेवियर्स स्कूल के सभी विद्यार्थियों और उनके परिजनों को काफी दुख के साथ संदेश दिया जा रहा है कि हमलोगों के चहेते सर (राजेश माइकल)अब इस दुनिया में नहीं रहे. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना.. जब हमारे शरीर में पैक्रियाज (अग्नाश्य) इंसुलिन का उत्पादन करना बंद कम कर देता है या बंद कर देता है तब हमारे ब्लड में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने लगता है. अगर इस स्तर को कंट्रोल ना किया जाए तो हम शुगर के रोगी बन जाते हैं.डायबिटीज दो तरह की होती है। टाइप-1 और टाइप-2, इनमें टाइप-1 डायबिटीज वह है जो हमें अनुवांशिक तौर पर होती है.यानी जब किसी के परिवार में मम्मी-पापा, दादी-दादा में से किसी को शुगर की बीमारी रही हो तो ऐसे व्यक्ति में इस बीमारी की आशंका कई गुना बढ़ जाती है.

कोई टिप्पणी नहीं: