ऋषिकेश में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव शुरू - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 मार्च 2021

ऋषिकेश में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव शुरू

international-yoga-day-rishikesh
ऋषिकेश (उत्तराखंड), एक मार्च, अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव की सोमवार को यहां औपचारिक शुरुआत हो गयी। उदघाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल उत्तराखंड के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि योग की कई विधाएं हैं। उन्होंने कहा कि योग आत्मा को परमात्मा से तो जोड़ता ही है बल्कि पूरा विश्व भी इससे जुड़ता है। उन्होंने कहा कि योग से सकारात्मकता आती है और सकारात्मकता से मनुष्य में रचनात्मकता आती है। इससे पहले, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेन्द्र गिरी ने कहा कि वास्तविक योग आत्मा को परमात्मा से जोड़ने का काम करता है। बाबा रामदेव के सहयोगी और पतंजलि आयुर्वेद के आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि कोरोना काल ने योग के महत्व को एक बार फिर से सिद्ध कर दिया है। उन्होंने कहा कि योग आपको रोगों से बचने में मदद करता है। इस महोत्सव के आयोजक गढ़वाल मंडल विकास निगम के अध्यक्ष व पूर्व विधायक महावीर सिंह रांगड़ ने कहा कि 1991 से प्रारंभ हुए इस महोत्सव में इस बार करीब 400 प्रतिभागियों ने पंजीकरण कराया है।

कोई टिप्पणी नहीं: