झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 15 मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 16 मार्च 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 15 मार्च

आदिवासी समाज सुधारक समिति की बैठक संपन्न, जिसमे 25 पारा मंडल की पंचायत के सरपंच तड़वी शामिल हुए 


jhabua news
पारा । समिपस्थ ग्राम इच्छापूर्ण हनुमान मंदिर नवापाड़ा पर रविवार को आदिवासी समाज सुधारक समिति कि बेठक का आयोजन किया गया था। जिसमे पारा क्षेत्र कि 25 पंचायतो के तडवी सरपंच सहीत समाज के गणमान्य नागरिक शमील हुवे। आदिवासी समाज सुधारक समिति कि बेठक कार्यक्रम मे अलिरापुर जिले के अपर कलेक्टर राकेश परमार, पटेलिया समाज के प्रदेश अध्यक्ष सोमसिह सोलंकी छितुसिह मेडा व आदीवासी समाज सुधारक समिति के प्रमुख दीपेंद्र जमरा कमल डामोर नगरसिह जमरा, कमलेश मोहनिया ने उपस्थित सभी सरपंच तडवी  पंच व गणमान्य नागरिको को संबोधित करते हुवे कहा कि समाज आजकल दहेज ज्यादा लेने का चलन होगया हे। जिससे समाज का बहुत नुकसान हो रहा हें। दहेज देना वाला आदमी कर्ज मे डुब रहा हे। हम सभी को चाहीए कि समाज मे दहेज परम्परा के अनुसार लेेवे पर अति न करे। जिससे कि किसी का नुकसान न हो व नही दहेज देने वाला आदमी कर्ज डुूबे। समाज मे अपने देवी देवता को शराब कि धार देने कि परम्परा हे। जिसमे केवल महुवे कि बनी शराब कि ही धार दी जावे पर विवाह, मृत्यु भोज मे शराब के सेवन पर पुर्ण रुप से प्रतिबन्ध लगाया जावे ताकि समाज मे लडाई झगडे भी न हो।  सभी गांवो के तडवी व सरपंच को यह जवाबदारी दि गई कि वे अपने अपने गांव इस नियम का पालन करवाए ताकि समाज के किसी भी आदमी का नुकसान न हों। समिति के सभी वक्ताओं ने बताया कीसमिति द्वारा सभी गांव के तडवी सरपंच व वरिष्ठ नागरिको से किगई चर्चा के अनुसार जो दहेज तय किया गया हे वह इस प्रकार से प्रत्येक गांव मे इस प्रकार सर्वमान्य रुप से लिया व दिया जावेगा। जिसमे भिलाला समाज में 51000 हजार रुपए और 1 किलो चांदी देनी होगी। वही भील समाज मे 1 लाख 51000 हजार रुपए का दहेज रहेगा जिसमे से लडकि का पिता 1 किलो चांदी कि रकम बनाकर वापस देंगा। मृत्यु भोज पूर्णतः बंद,,पंच में दारू बंद रहेगी । वही किसी भाी कार्यक्रम मे डीजे साउड एक ही बजाने कि अनुमति रहेगी। एक से ज्यादा डी जे होने पर पुलिस प्रसाशन द्वारा 25 हजार रुपए जुर्माना वसुला जावेगा। भिलाला समाज में लड़की के भाग जाने पर रिपोर्ट के पैसे नहीं लिए जाएंगे जो नियम बनाया गया है वह अरेंज मैरिज और लव मैरिज दोनों में ही मान्य होगा कोई व्यक्ति अगर दूसरी शादी करता है वह परिवार की मर्जी से करता हो तो समान दहेज रहेगा परंतु लेकर भागेगा तो वह निर्णय वहां की पंचायत करेगी सर्व समिति से समाज में पंचायत स्तर पर प्रस्ताव ठहराव बनाया जाएगा। इस अवसर पर डा जितेन्द्र मोरी, शंकर डोडवा कालुसिह जमरा पंकज चोहान अनिल मुझालदा दिलीप डावर, सेकु रावत, शुम्भुसिह वसुनिया बंसत परमार वेस्ता जमरा, खेमसिह सोलंकी शिवम चोहान, शंकर अखाडिया, प्रकाश रावत भारत डोडवा सहीत कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।


रोटला में कलश यात्रा के साथ शुरू हुई भागवत कथा रोटला में 7 दिनों तक बहेगी धर्म की गंगा 


jhabua news
कालीदेवी। ग्राम रोटला में रविवार से भागवत कथा की शुरुआत हुई भागवत कथा की शुरुआत ग्राम टिचकिया से रोटला 3 किलोमीटर तक कलश यात्रा के साथ हुई कलश यात्रा में श्रद्धालु केसरिया रंग के झंडे लेकर भजन कीर्तन करते हुए चल रहे थे बग्गी में पंडित सुभाष शर्मा व कानुराम जी महाराज सेमलिया धाम बैठे श्रद्धालुओं को दर्शन लाभ दे रहे थे । कलश यात्रा का समापन रोटला में कथा स्थल पर हुआ पहले दिन पंडित सुभाष शर्मा गुरु जी ने भागवत का कथा का महत्व समझाया व धर्म के प्रति आस्था के बारे में बताया । श्रीमद भागवत कथा का आयोजन धर्म रक्षक सेवा समिति के तत्वादान मे किया जा रहा हे। जिसमे वृंदावन धाम के महामण्डलेश्वर स्वामी प्रणवानंद सरस्वती सात दिनो तक श्रीमद भागवत कथा करेगे। रविवार को ग्राम टिचकिया से रोटला तक करिब तीन किलोमीटर तक कि विशाल पेदल कलश यात्रा निकाली गई । जिसमे बडी संख्या मे श्रद्धालुओ ने भाग लिया। कलश यात्रा मे गायक कलाकर केशव बघेल व गायीका प्रियंका मण्डलोई भी उपस्थित थी ।  दोने कलाकारो ने डीजे साउड पर कलश यात्रा के दोरान अपनी शानदार प्रस्तुती दी।


रोग-षोक-कष्ट-पीढ़ा आदि को दूर करने वाली है महामांगलिक -ः आचार्य विष्वरत्न सागरजी

मनोभाव एवं आत्म शुद्धिकरण के साथ हजारों समाजजनों और गुरू भक्तों ने किया महा-मांगलिक का श्रवण, चंदन प्रभा श्रीजी ने आचार्य श्री से पद्मावती तीर्थ जोधपुर पधारने की विनती की

  • ख्यातनाम हस्तीयांे ने यषवंत भंडारी ‘यष’ के काव्य संग्रह ‘‘शुभ परिणति के सूत्र’’ का किया भव्य विमोचन

jhabua news
झाबुआ। शहर से सटे कृषि उपज मंडी के सामने जैन तीर्थ श्री गौड़ी पाष्र्वनाथ मंदिर पर 14 मार्च, रविवार को वह स्वर्णिम अवसर रहा, जब यहां तप सम्राट आचार्य नवरत्न सागर सूरीष्वरजी मसा के सुषिष्य हद्रय सम्राट आचार्य विष्वरत्न सागरजी मसा के मुखारविन्द से हजारों की संख्या में देष के विभिन्न राज्यों एवं शहरों से उपस्थित समाजजनों और गुरू भक्तों ने महामांगलिक का श्रवण किया। महा-मांगलिक का श्रवण भक्तांे ने पूरे मनोयोग से शांत वातावरण में किया। इस अवसर पर आचार्य श्रीजी ने कहा कि यह महामांगलिक आपके रोग-षोक-कष्ट-पीड़ा आदि को दूर करने के साथ एक उत्तम जीवन जीने की ओर प्रेरित करेगी। इस दौरान विषेष रूप से पद्म विभूषित 1008 श्री चन्दनप्रभा श्रीजी मसा ने भी उपस्थित होकर आचार्य विष्वरत्न सागरजी से अपने आगे के विहार के दौरान निष्चित रूप से जोधपुर (राजस्थान) के पाष्र्व पद्मावती तीर्थ पर भी पधारने हेतु भावभरी विनती की। जिसे पूज्य आचार्य श्री ने सहर्ष स्वीकार किया। महामांगलिक से पूर्व जिले के वरिष्ठ समाजसेवी एवं वरिष्ठ साहित्यकार यषवंत भंडारी ‘यष’ के पंचम काव्य संग्रह ‘‘शुभ परिणति के सूत्र’’ का भी गरिमायम रूप से ऐतिहासिक माहौल में विमोचन पद्म श्री महेष शर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक सहित अन्य जिले की ख्यातनाम हस्तीयांे द्वारा किया गया। महामांगलिक में षिरकत करने विषेष तौर पर बाम्बे से रमणभाई मुथा, मोंटेक्स पेन कंपनी के चेयरमेन भी पहुंचे। जिन्होंने आयोजनस्थल पर पहुंचते ही सबसे पहले आचार्य श्रीजी से चरणांे में वंदन कर आर्षीवाद प्राप्त किया।


6 वर्ष पूर्व आचार्य नवरत्न सागरजी ने झाबुआ में की थी महामांगलिक

14 मार्च, रविवार को झाबुआ शहर के लिए वह अनुपम एवं अद्भुत पल था, जब एक जैन तीर्थ के प्रांगण में देषभर के विभिन्न राज्यों और शहरों से सकल जैन समाज सहित गुरू भक्तों का दूर-दूर से यहां तांता लगा। पूरा प्रांगण समाजजनों और गुरू भक्तों की भीड़ से खचाखच भर गया। एक ओर श्रावक तो दूसरी ओर श्राविकाएं, विभिन्न संघांे एवं परिषद् परिवार से जुड़े पदाधिकारी-सदस्य अपनी-अपनी गणवेष में आयोजनस्थल पर शोभयमान हुए। सभी का प्रवेष द्वार पर ही समाज का दुपट्टा पहनाकर स्वागत किया गया। संचालन करते हुए आयोजन के सूत्रधार श्री मालवा जैन महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता यषवंत भंडारी ने बताया कि आज से ठीक 6 वर्ष पूर्व तप सम्राट आचार्य भगवंत नवरत्न सागरजी मसा की निश्रा में झाबुआ शहर को महामांगलिक श्रवण करने का अनुपम लाभ प्राप्त हुआ था और अब उनके सुषिष्य पट्टधर आचार्य श्री विष्वरत्न सागरजी मसा के मुखारविन्द से आज फिर हमे सामूहिक रूप से महामंागलिक श्रवण करने का लाभ प्राप्त हो रहा है।


‘‘शुभ परिणति के सूत्र’’ पुस्तक का हुआ विमोचन

कार्यक्रम दोपहर ठीक 12 बजे से आरंभ हुआ। जिसमें सर्वप्रथम मालवा जैन महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता यषवंत भंडारी ‘यष’ के पंचम काव्य संग्रह, जो सकल जैन समाज को समर्पित होकर उसमें जैन शब्दावलियों के साथ जैन आगमांे की व्याख्या और विष्लेषण आदि बखूबी रूप से किया गया है। आचार्य श्रीजी द्वारा पुस्तक की वाक्षेप पूजन एवं आषीर्वाद प्रदान करने के बाद आयोजन में उपसिथत पद्मश्री महेष शर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक, भाजपा कें प्रदेष कार्यकारिणी सदस्य दौलत भावसार, त्रि-स्तुतिक संघ मप्र के उपाध्यक्ष मनोहर भंडारी, श्वेतांबर जैन श्री संघ झाबुआ के व्यवस्थापक संजय मेहता, उपाध्यक्ष सुभाष कोठारी, महामंागलिक आयोजन समिति के अध्यक्ष संदीप जैन ‘राजरतन’, श्री गौड़ी पाष्र्वनाथ मंदिर के अध्यक्ष अनिल राठौर, सिरोही संघ अध्यक्ष मनोहर मोदी, समाज के वरिष्ठजनांे में डाॅ. प्रदीप संघवी, मनोज बाबेल, उत्तम जैन, मनोज मेहता, रोटरी मंडल 3040 के रिजनल चेयरमेन उमंग सक्सेना, सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर, रोटरी क्लब ‘मेन’ अध्यक्ष मनोज अरोरा, अनिल रूनवाल, प्रवीण सुराना, प्रमोद भंडारी, परहित जन सेवा संस्था से श्रीमती अर्चना राठौर आदि ने मिलकर किया। बाद उक्त पुस्तक के बारे में जानकारी श्री भंडारी द्वारा प्रदान की गई।


चंदन प्रभा श्रीजी ने आचार्य श्री के दर्षन-वंदन किए

पद्म विभूषित 1008 आचार्य श्री चंदनप्रभा श्रीजी मसा द्वारा पहुंचने पर पहले उनके द्वारा मंदिर मंे श्री गौड़ी पाष्र्वनाथ भगवान एवं दादा गुरूेदव राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के दर्षन किए। बाद आयोजनस्थल पर आकर आचार्य श्रीजी के दर्षन कर उनके सम्मान में कहा कि आज मालवा की इस धरती पर आचार्य नवरत्न सागरजी के सुषिष्य आचार्य विष्वरत्नजी के चरण पड़े है। निष्चित ही मालवा और विषेषकर झाबुआ की यह धरती पवित्र होकर उनका यषोगान करती है। चंदनप्रभा श्री ने कहा कि आपकी नाम अनुसार ही पूरे विष्व में ख्याति है। दोनो आचार्यद्वयों के मिलन अवसर पर खुषी और आनंद से सराबोर होकर समाजजनों और गुरू भक्तों के साथ आयोजन समिति के पदाधिकारियांे ने भी नृत्य किया। बाद चन्दन प्रभा श्रीजी को स-सम्मान मंच के समीप ही विषेष बैठके व्यवस्था कर विराजित किया गया।


सुआसरा आयोजन में पधारने का दिया आमंत्रण

महामांगलिक का श्रवण करने आयोजन स्थल पर मप्र के झाबुआ जिले सहित राजगढ़, धार, इंदौर, आलीराजपुर के साथ समीपस्थ गुजरात के दाहौद, गौधरा, पालीताणा के अतिरिक्त राजस्थान, उत्तरप्रदेष, महाराष्ट्र से भी अनेक अन्य गुरूभक्त पहुंचे थे। इस बीच ही ‘मोंटेक्स कंपनी’ के सीईओ रमणभाई मुथा द्वारा भी पहुंचने पर उन्होंने आते ही मंच पर विराजमान आचार्य विष्वरत्न सागरजी के दर्षन किए। बाद कहा कि जिस माटी पर विष्व रत्न सागरजी के चरण पड़ जाते है, वह माटी निष्चित ही धन्य हो जाती है। मप्र के झाबुआ में ऐसे महान आचार्य का आगमन हुआ है और महामांगलिक करने का श्रवण प्राप्त हो रहा है, यह निष्चित ही हम सभी के लिए एक गौरवमयी क्षण है। इस अवसर पर उन्होंने आचार्य श्रीजी से राजगढ़ भोपावर तीर्थ के बाद सुआसरा भी पधारने हेतु विनती की।


संकल्प की निष्चित ही होगी पूर्ति

आचार्य विष्वरत्न सागरजी मसा द्वारा पट की मंत्रोच्चार के साथ पूजन करने के बाद महामंागलिक आरंभ की गई। इससे पूर्व आचार्य ने इसके महत्व के बारे में बताया कि आज आद्यप्रेरित, सर्व-संकट हरने वाली, मनोवािंछत मनोकामनाआं को पूर्ण करने वाली, आधि-व्याधि, उपाधि, नाषक, महान चत्मकारिक एवं महान प्रभावषाली मांगलिक हो रहीं है, जिसका आपके द्वारा पूरी आस्था और श्रद्धा, पूर्ण मनोभाव और आत्मा से शुद्ध होकर यदि श्रवण किया जाता है, तो निष्चित ही इस दौरान मन में लिए गए संकल्प या रोग-षोक, दुख-दारिद्र, टेंषन, चिंता, भय आदि का नाष होगा। आपको अत्यंत ही आनंद की अनुभूति होगी। बाद आचार्य श्रीजी एवं मुनि मंडल ने माहमांगलिक की विधि एवं मुद्राएं सभी से करवाकर शब्दावली एवं मंत्रोच्चार के साथ करीब 1 घंटे तक सत्त श्रवण करवाया। पूरे शांत माहौल ओैर वातावरण में सभी ने महामांगलिक का श्रवण कर अनुपम लाभ प्राप्त किया।


इनका रहा सराहनीय सहयोग

बाद सभी को श्री नमस्कार महामंत्र का जाप समाज की एक बालिका द्वारा को करवाया गया। महामांगलिक के दौरान गुरूदेव के हाथांे से वाक्षेप पूजा के लिए चढ़ावे भी बोले गए। पूरे आयोजन का संचालन मुंबई से पधारे गीतकार वाणीभाई गोता ने किया। वहीं आयोजन को सफल बनाने में विषेष सहयोग आयोजन समिति से जुड़े राजेष जैन (उज्जैन), सुरेन्द्र भंडारी पेटलावद, समिति अध्यक्ष संदीप जैन ‘राजरतन’, सुनिल संघवी, राजेन्द्र जैन शुभम, राजेन्द्र आर भंडारी, अर्पित चैधरी, संजय कांठी, योगेन्द्र नाहर, निखिल भंडारी, रिंकू रूनवाल, रितेष कोठारी भल्ला आदि का रहा। अंत मंे आभार आयोजन समिति के अध्यक्ष संदीप जैन ने माना।


जनजाति आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष हर्ष चैहान के प्रथम आगमन पर स्वदेशी जागरण मंच ने किया आत्मीय अभिनंदन, जिले की प्राथमिकताआंे से करवाया अवगत


jhabua news
झाबुआ। स्वदेशी जागरण मंच जिला इकाई झाबुआ ने राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के चेयरमेन हर्ष चैहान का स्थानीय काॅलेज मार्ग स्थित सर्किट हाऊस पर भव्य स्वागत किया। साथ ही उन्हें जिले के शिल्पकारो द्वारा मिट्टी से निर्मित सुरई भी भेंट की गई एवं जिले में ऐसे लघु उद्योग, कुटीर उद्योग एवं स्वयं सहायता समूह द्वारा कार्य की जाने वाली वस्तुओं के बारे में विस्तृत चर्चा कर शासन स्तर से प्रोत्साहित करने हेतु कार्य योजना नीति निर्देश जारी करने संबंधी आग्रह किया गया। श्री चैहान ने शासन की ओर से स्वदेशी वस्तुओं एवं लघु उद्योगों को बढ़ावा देने हेतु कार योजना के बारे में विस्तार से बता कर मंच को जन जागरण अभियान के माध्यम से समाज को प्रेरित करने की बात कही गई। इस अवसर पर स्वदेशी जागरण मंच के जिला संयोजक दिलीप जोशी जी ने मंच द्वारा किए गए कार्यों एवं आगामी गतिविधियों की जानकारी दी। मंच के जिला कार्यकारिणी सदस्य एवं भारती गौ रक्षा वाहीनी के जिला अध्यक्ष राजू धानक थांदला ने गृह उद्योग, बंद हुए बुनकरों, झाड़ू टोकरी बनाने वालों  की दयनीय स्थिति से अवगत कराया।


जिले की वन-उपज को प्रोत्साहित किया जाए

स्वदेशी मंच के वरिष्ठ मार्गदर्शक रुस्तम चरपोटा ने भी अपने विचार व्यक्त कर जिले की वन-उपज को प्रोत्साहित करने की बात कही। इस अवसर पर शिवगंगा के राजाराम कटारा, अटल सामाजिक सेवा संस्थान के संचालक तानसिंह मेड़ा, सहकार भारती के जिला उपाध्यक्ष कैलाश सेहलोत, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के मदन वसुनिया, स्वदेशी जागरण मंच के दिलीप डामोर, कमलेश मचार, अनिल पोरवाल (भूरूभाई), बसंत मकवाना, करण सिंह भूरिया, एडवोकेट विरेंद्रकुमार सकलेचा, डॉ. चंदेलसिंह, जयकरणसिंह बघेल  आदि उपस्थित थे।


पीजी काॅलेज परिसर में उजाड़ हो रहे गार्डन को लेकर एनएसयूआई ने जताया विरोध, जल्द ही कायाकल्प करे काॅलेज प्रबंधक, नहीं तो संगठन करेगा संस्था पर ताला बंदी


झाबुआ। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) के जिलाध्यक्ष विनय भाबोर ने बताया कि स्थानीय शासकीय शहीद चंद्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जो जिले की अग्रणी संस्था है, बावजूद इसके यहां सुव्यवस्थित गार्डन नहीं है। काॅलेज परिसर में पूर्व में एक गार्डन था, किन्तु कॉलेज प्रशासन की लापरवाही एवं देखरेख के अभाव में वर्तमान में पूरी तरह से उजाड़ हो गया है। काॅलेज प्रबंधन द्वारा घास-पोधो के नाम पर लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी उक्त गार्डन में वर्तमान में एक भी जीवित पौधा नहीं है। महाविद्यालय मे आने वाले छात्र-छात्राओं कीे जब क्लास नहीं लगती है, या खाली परेड में गार्डन में बैठ कर अगली क्लास का इंतजार कर सके, लेकिन सुव्यवस्थित गार्डन नहीं होने से छात्र-छात्राओं को बाजार में पैदल घूमने के लिए जाना पड़ता है। ऐसे में उन्हें काफी परेषानी होती है।


ताला बंदी कर दिया जाएगा धरना

जिलाध्यक्ष श्री भाबोर ने आगे बताया कि काॅलेज में जब भी कोई बाहर से टीम निरीक्षण के लिए आती हैं तो प्राचार्य द्वारा बाहर से किराए के पौधे मंगवा कर कॉलेज में रखकर दिखावा कर लिया जाता है। इसके नाम पर हजारों रूपये का बिल भी लगाया जाता है, लेकिन धरातल स्थल पर काॅलेज में ना तो पौधारोपण किया जाता है और ना ही काॅलेज के एकमात्र गार्डन को संस्था प्रबंधन व्यवस्थित करवा रहा है। जिलाध्यक्ष श्री भाबोर ने चेतावनी स्वरूप कहा कि यदि जल्द ही महाविद्यालय मंे उक्त गार्डन का कायाकल्प नहीं किया जाता है, तो एनएसयूआई द्वारा इस संबंध में ताला बंदी कर धरना दिया जाएगा।


कोरोना से रोकथाम के लिए तीसरे चरण में वरिष्ठ नागरिकों और वृद्धजनों को लगाए जा रहे टीके,  प्रत्येक नागरिक को वेक्सीन के दो डोज लगाना अनिवार्य


jhabua news
झाबुआ। कोरोना से रोकथाम के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तीसरेे चरण में जिले के वरिष्ठ नागरिकों और वृद्धजनों को वेक्सीन लगाने का कार्य किया जा रहा है। यह कार्य जिला चिकित्सालय के ट्रामा सेंटर एवं कोविड सेंटर में चल रहा है। प्रत्येक वृद्धजनांे एवं वरिष्ठ नागरिकों को वेक्सीन के दो डोज लगाना अनिवार्य है। जानकारी देते हुए जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. राहुल गणावा ने बताया कि कोरोना महामारी का खतरा अभी टला नहंी है, इसलिए एसएमएस अर्थात सोष्यल डिस्टेनसिंग, मास्क और सेनेटाईजर का उपयोग अभी भी बहुत जरूरी है। कोरोना से बचाव के लिए वेक्सीन लगाने का कार्य गत 17 जनवरी 2021 से जिला चिकित्सालय सहित जिले के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों पर भी जारी है। प्रथम चरण में स्वास्थ्य अधिकारी-कर्मचारियों, चिकित्सकों, द्वितीय चरण में राजस्व, पुलिस विभाग, यातायात पुलिस एवं नगरपालिका के अधिकारी-कर्मचारियों के बाद अब तीसरे चरण में वरिष्ठ नागरिकों और वृद्धजनों को वेक्सीन लगाने कार्य तेज गति से जारी है।


वेक्सीन के लगेंगे दो डोज, दूसरा 27 दिन बाद

जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. गणावा ने बताया कि जिन नागरिकों को वेक्सीन का एक डोज लग गया है, उन्हें 27 दिन बाद दूसरा डोज भी लगाना अनिवार्य है। जिसकी सूचना उन्हें मोबाईल पर एसएमएस के माध्यम से दी जा रही है। वही यदि मैसेज नहीं भी आता है, तो संबंधित व्यक्ति पूर्व में जहां वेक्सीन लगवाया है, जहां पहुंचकर दूसरा डोज भी उक्त अवधि मंे लगवा सकता है। वेक्सीन लगवाने के लिए आधार कार्ड लाना अनिवार्य है। वहीं वेक्सीन लगने के बाद कुछ आवष्यक सावधानियां भी बरतना जरूरी है, जिसकी जानकारी केंद्रों पर टीका लगाने वाले कर्मचारियों द्वारा प्रदान की जा रही है। डाॅ. गणावा ने तीसरे चरण में जिले के सभी सीनियर सीटिजन, पंेषनर्स, वृद्धजन, जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक हो चुकी है, उनसे आवष्यक रूप से स्वास्थ्य केंद्रों पर पहुंचकर वेक्सीन लगवाने की अपील की है।


पद्मश्री महेश शर्मा ने अंकुरम इंटरनेशनल स्कूल के सिटी आॅफिस का फीता काटकर किया शुभारंभ, प्रतियोगिता में विजेताओं को किया पुरस्कृत


jhabua news
झाबुआ। बच्चे प्रकृति के जितने करीब होते है, उतना बेहतर उनका ज्ञान होता है। जिस तरह अंकुरम ने भी अपने स्कूल के बच्चांे को प्राकृतिक रूप से जोड़े रखा है, उससे बच्चों में प्रकृति प्रेम बढ़ने के साथ ही उनमें सीखने और कुछ करने का जज्बा बेहतर होगा। उक्त विचार पद्मश्री षिवगंगा प्रमुख महेष शर्मा ने अंकुरम इंटरनेषनल स्कूल के शहर के राजवाड़ा के समीप जिला थोक उपभोक्ता के पास अंकुरम इंटरनेषन स्कूल के सिटी आॅफिस के शुभारंभ अवसर पर कहीं। पद्मश्री महेष शर्मा ने स्कूल में प्रथम प्रवेष लेने वाले 2 बच्चांे के साथ कार्यालय का फीता काटकर शुभारंभ किया। बाद मां सरस्वतीजी की तस्वीर पर माल्यार्पण कर पूजन की। इस दौरान विषेष रूप से पं. हरिओम दवे, श्रीमती चित्रलेखा दवे, दिलीप दवे, वंदना दवे, सकल व्यापारी संघ के वरिष्ठ संरक्षक राजेन्द्र यादव, अंतिम जैन, विद्यालय की डायरेक्टर डॉ चारुलता लोकेश दवे तथा अन्य गणमान्यजन उपस्थित थे।


बच्चों में छुपी हुई प्रतिभाओं को निखारने का प्रयास किया जा रहा

संस्था की संचालक डॉ चारूलता दवे ने बताया कि अंकुरम इंटरनेशनल स्कूल, माय छोटा स्कूल नई दिल्ली के साथ मिलकर कार्य कर रहा है। ’आठ मल्टीपल स्किल’ जो हर बच्चे में नैसर्गिक रूप से मौजूद होती है, उसे बाहर लाने के लिए कटिबद्ध है। बेहतर माध्यमों के द्वारा पिछले 1 साल से संस्था जिले में कार्य कर रहीं है और उसके बहुत ही सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिल रहे है। स्कूल के बच्चे जहां ’फोनेटिक के माध्यम से सहीं उच्चारण सीख रहे हैं एवं शब्द बनाना भी सीख रहे हैं वहीं इनोवेटिव वर्कशीट के माध्यम से बच्चों की फाइन मोटर स्किल्स के साथ ही कलर पहचानने की क्षमता बढ रहीं है।


आधुनिक सुविधाआंे का भी समावेष

डाॅ. दवे ने आगे बताया कि अंकुरम इंटरनेशनल स्कूल झाबुआ के इतिहास में एक नया अध्याय जोड़ने का प्रयास है, जिसमें हम ‘’वल्र्ड क्लास क्वाॅलिटी एजुकेशन’ आठ मल्टीपल स्किल पर आधारित पढ़ाई के द्वारा बच्चों में छुपी हुई सारी प्रतिभाएं बाहर लाने का कार्य बखूबी कर रहे है। यह एक पूर्ण तरह से परीक्षित वैज्ञानिक पद्धति है। जिसके अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शैक्षणिक कार्य किया जाता है। वही व्यवस्था अब झाबुआ मंे लाने के भी प्रयास किए जा रहे है। शुभारंभ कार्यक्रम बाद ‘‘स्माइलिंग फेस ऑफ झाबुआ कॉंटेस्ट-2021 के विजेता बच्चों को मुख्य अतिथि महेश शर्मा द्वारा प्रमाण-पत्र एवं उपहार प्रदान किए गए। जिसमें प्रथम यषश्री राजेष चैहान, द्वितीय भावी हिमांक शाह के साथ कई अन्य पुरस्कार बच्चांे सहित उनके परिवाजनांे को प्रदान किए गए।


विद्युत डीपी का विधायक वीर सिंह भूरिया ने किया शुभारंभ ।


jhabua news
मेघनगर । थांदला विधानसभा क्षेत्र के विधायक वीर सिंह भूरिया द्वारा मेघनगर विकासखंड के ग्राम डुंडका, ढाढणिया, जामनिया मे क्षेत्रवासियों की  काफी लंबे समय से मांग की थी  वहां पर विद्युत डीपी लगे  जिसको देखते हुए क्षेत्रीय विधायक वीर सिंह भूरिया द्वारा विधायक निधि से अतिरिक्त विधुत डीपी लगाई गई। विद्युत डीपी का शुभारंभ क्षेत्रीय विधायक वीरसिंह भूरिया ने किया। शुभारंभ अवसर पर कांग्रेसी नेता प्रताप ताहेड, वसना डामोर, पटया वसुनिया, कांग्रेस के वरिष्ठ  कालू सिंह भूरिया  सहीत  सैकड़ों कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे । क्षेत्र में डीपी लगने से ग्राम वासियों में खुशी का माहौल है जिसके चलते क्षेत्रवासियों ने विधायक श्री भूरिया का आभार माना। उक्त जानकारी विधायक प्रतिनिधि  अली असगर बोहरा द्वारा दी गई है।


विधायक वीर सिंह भूरिया ने कलेक्टर को पत्र  लिखकर क्षेत्रवासियों की समस्या से अवगत करवाया।


मेघनगर । थांदला विधानसभा क्षेत्र के विधायक वीर सिंह भूरिया ने झाबुआ कलेक्टर रोहित सिंह को थांदला विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 194 के अंतर्गत आने वाले व आस-पास के सभी क्षेत्रों की करीब 30 गांव की सड़के 8  लाइन से प्रभावित होकर टूट चुकी है। ठेकेदारों के लोडेड वाहनों के आने जाने से धूल डस्ट उड़ने से एवं बड़े बड़े गड्ढे होने के कारण ग्रामवासियों राहगीरों को आने-जाने में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है  । साथ ही आम जन के स्वास्थ पर भी धूल उड़ने के कारण प्रभाव पड़ रहा है जिसके चलते श्री भूरिया ने कलेक्टर को लेटर लिख समस्या से अवगत करवाया है और 8 लाइन से प्रभावित सड़को को रिपेयरिंग करवाने हेतू संबंधित विभाग को आदेशित करने को कहां गया है। उक्त जानकारी विधायक प्रतिनिधि अली असगर बोहरा ने दी है।


राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री चैहान द्वारा वन अधिकार अधिनियम की प्रगति की सघन समीक्षा

  

jhabua news
झाबुआ। राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री हर्ष चैहान ने यहां कलेक्टेªट सभा कक्ष में विभिन्न विभागों के जिला अधिकारियों की बैठक ली और आवश्यक सुझाव प्राप्त किए। श्री चैहान ने इस बैठक के आयोजन के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वन अधिकार अधिनियम में आवश्यक सुधार के लिए सुझाव प्राप्त करने हेतु इस बैठक रखी गई है। जिसमें प्राप्त सुझाओं को अनुसंशाओं के साथ शासन को भेजा जाएगा। श्री चैहान ने वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्राप्त दावों के निराकरण की स्थिति की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जिले में 4 हजार 589 सामुदायिक दावे मान्य किए गए हैं। इसके अलावा 437 सामुदायिक दावे अमान्य किए गए हैं। आयोग के अध्यक्ष श्री चैहान ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्राप्त अमान्य दावों की कमियों को दूर करने के लिए प्रयास किए जाए ताकि शासन की मंशा अनुरूप इस वर्ग के लोगों को वन अधिकार अधिनियम का लाभ मिल सके। इस बैठक में श्री चैहान ने कहा कि यह जिला आदिवासी बाहुल्य जिला है। इस अधिनियम के क्रियान्वयन के मामले में यह जिला देश में अव्वल रहे, ऐसे प्रयास किए जाएगें। इस बैठक में श्रमिकों के पलायन को रोकने के लिए मजदूरी बढ़ाने तथा छात्रावास आश्रमों में सीटों की क्षमता बढ़ाने के सम्बन्ध में भी आवश्यक सुझाव प्रस्तुत किए गए। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष गुप्ता, वन मण्डलाधिकारी श्री एम.एल.हरित, कार्यपालन यंत्री जन संसाधन श्री पी.के.खरत, सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग श्री प्रशांत आर्या, जिला शिक्षा अधिकारी श्री जी.पी.ओझा, जिला परियोजना समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान श्री प्रजापत सहित अन्य अधिकारियों ने अनुसूचित जनजाति वर्ग के कल्याण के लिए आवश्यक सुझाव रखे। इस बैठक में जनजाति मंत्रणा परिसद के सदस्य श्री कालू सिंह मुजाल्दे, अपर कलेक्टर श्री जे.एस.बघेल, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व झाबुआ श्री सोहन कनास, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री दिनेश वर्मा, कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग श्री ए.एस.भिन्डे, उप संचालक कृषि श्री एन.एस.रावत, महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र श्री विरेन्द्र सिंह इस्क्या सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी, समस्त जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मौजूद थे।


केवीके्र, झाबुआ द्वारा फसल जैव विविधता संरक्षण अभियान पर कृषक मेला का आयोजन


झाबुआ। विलुप्त प्रजातियों के संरक्षण एवं संग्रहण हेतु देश एवं प्रदेश की विभिन्न फसलों की विलुप्त हो रही विशेष गुणों वाली किस्मों के संरक्षण हेतु कृषि विज्ञान केन्द्र, झाबुआ में चल रही ‘‘जैव विविधता संरक्षण परियोजना‘‘ अंतर्गत गत दिवस ग्राम पंचखेरिया में एक दिवसीय कृषक मेले का आयोजन केवीके प्रमुख डाॅ. आई.एस. तोमर के मार्गदर्शन में किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति थांदला विधानसभा क्षेत्र के लोकप्रिय विधायक माननीय श्री वीरसिंह भूरिया, एवं विशिष्ठ अतिथि जनपद पंचायत अध्यक्ष, थांदला माननीय श्री गेंदालाल डामोर, वठ्ठार सरपंच श्री मांजु डामोर, पंचखेरिया सरपंच श्री मंगलिया कटारिया तथा पंचखेरिया व आस-पास के विभिन्न ग्रामों से 300 कृषक एवं महिलाएं व क्षेत्र के स्व-सहायता समूह उपस्थित थें। कार्यक्रम की शुरूआत सभी उपस्थित अथितियों का अभिनंदन करते हुए केन्द्र, प्रमुख डाॅ. तोमर, ने केन्द्र द्वारा संचालित गतिविधियों की जानकारी के साथ कृषक मेले के आयोजन के उद्देश्य पर चर्चा करते हुए विलुप्त प्रजातियों के संरक्षण एवं संग्रहण की महत्ता पर प्रकाश डाला व इसके लाभ से सबको अवगत कराया। आपने आदिवासी समाज की मेहनती होने की प्रशंसा करते हुए समूह बनाकर फसल उत्पादों का प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन कर उन्हें बेचकर अधिक लाभ कमाया जा सकता सर्वप्रथम कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक माननीय श्री वीरसिंह भूरिया, द्वारा सरस्वती पूजन द्वारा कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इसके साथ ही विधायक महोदय ने परियोजना अंतर्गत प्रदर्शित चने की विलुप्त हो रही किस्मों का अवलोकन किया एवं अपने उद्बोधन में लोगों का आव्हान करते हुए कहा कि वे लोग केवीके द्वारा चलाए जा रहे जागरूकता कार्यक्रम एवं वैज्ञानिकों द्वारा बताए गए उन्नत तरीकों को अपनाकर कृषि को लाभ का व्यवसाय बना सकते है। आपने क्षेत्र में सिंचाई की समस्याओं की चर्चा की एवं उसके निदान हेतु योजना बनाकर दूर करने का आश्वासन दिया जिससे क्षेत्र के किसानों को ऐसी महती प्रयासों हेतु पर्याप्त सिचाई जल प्राप्त हो सके। जनपद अध्यक्ष श्री डामोर ने अपने उद्बोधन में कम जोत वाले किसानों से खेतों की मेड़ों पर फलदार पेड़ लगाने एवं छोटे रूप में विभिन्न प्रकार की सब्जी उत्पादन की बात कहीं साथ ही केवीके द्वारा किये जा रहे कार्याें की सराहना की। श्री मांजु भाई ने कृषि के क्षेत्र में परंपरागत कृषि को त्यागकर नवाचारों को अपनाने की बात कही। डाॅ. वी.के. सिंह ने किसानों से चर्चा करते हुए जैविक खाद उत्पादन एवं कृषि में उसकी महत्ता पर प्रकाश डाला। डाॅ. जगदीश मौर्य ने किसानों से संवाद कर कृषि के क्षेत्र में आने वाली समस्याओं का निराकरण किया। डाॅ. चन्दन कुमार ने कृषि के साथ पशुपालन के महत्व पर प्रकाश डाला एवं पशुओं में आने वाले रोगों एवं उनके उपायों के बारे में बताया। डाॅ. आर.के. त्रिपाठी ने मौसम विभाग से आने वाले निर्देशों एवं सलाहो का लाभ किसान भाई किस प्रकार प्राप्त कर इससे होने वाले नुकसान से सुरक्षित रह सके के बारे में विस्तार से किसानों को बताया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. आर.के. त्रिपाठी ने किया, कार्यक्रम को सफल बनाने में पंचखेरिया ग्राम के किसानों व आई.जी.एस.एस. संस्था के नानसिंह, अरविंद मेंड़ा, के साथ केन्द्र के डाॅ. जगदीश मौर्य, श्री सी.एस. लोखण्डे, श्री राघवेन्द्र भदौरिया का योगदान सराहनीय रहा। कार्यक्रम के अंत में स्थानीय किसान श्री बहादुर कटारा ने समस्त अतिथियो,ं किसानों एवं स्व-सहायता समूहों का आभार प्रदर्शन किया।


नेशनल लोक अदालत का आयोजन 10 अप्रैल 2021 को जिला जज ने अधिवक्ताओं एवं पक्षकारों को संबोधित किया


jhabua news
झाबुआ। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झाबुआ की ओर से गतदिवस जिला न्यायालय परिसर स्थित न्याय सेवा सदन में जिला जज श्री राजेश कुमार गुप्ता जी की अध्यक्षता में आगामी नेशनल लोक अदालत दिनांक 10 अप्रैल 2021 के आयोजन के संबंध में अधिवक्ता एवं पक्षकारों की बैठक ली गई कार्यक्रम में सभी न्यायाधीशगण एवं अधिवक्तागण तथा पक्षकारगण उपस्थित थे। जिजा जज ने आयोजन को संबोधित करते हुये बताया कि आपसी सुलह-समझौते के आधार पर जो भी राजीनामा योग्य मामले निराकृत होते है उनमें कोर्ट फीस पक्षकार को वापिस हो जाती है एवं पक्षकारों के समय एवं धन की बचत होती है आपसी सद्भावना पुनः कायम होकर झगड़ों से दूर हो जाते है लोक अदालत के माध्यम से अधिक-से-अधिक प्रकरणों का निराकरण कराने हेतु अधिवक्ता एवं पक्षकारों को प्रेरित किया गया, विशेष न्यायाधीश श्री महेश कुमार शर्मा ने बताया कि लोक अदालत के माध्यम से मोटर एक्सीडेंट क्लेम प्रकरण, चैक बाउंस के मामले, घरेलू हिंसा एवं पारिवारिक विवाद के प्रकरण, दीवानी दावे एवं अन्य आपराधिक राजीनामा योग्य मामलों तथा बैंक वकाया वसूली, बिजली बिल वसूली, नगरपालिका कर वसूली के मामले भी लोक अदालत में रखे जायेगे नियमानुसार छूट प्राप्त रहेगी। मध्यस्थता जागरूकता कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया जिसके संबंध मे सचिव/अपर जिला जज श्री राजेश देवलिया ने संबोधित करते हुए कहा कि लोक अदालत का है यह नारा दोनों जीते कोई ना हारा जिसका आशय लोक अदालत के माध्यम से राजीनामा के आधार पर निराकरण हुए मामले में दोनों पक्षकार राहत महसूस करते है और उनके आपसी संबंध पुनः कायम हो जाते है जिसका अधिक-से-अधिक लाभ उठाना चाहिए। कार्यक्रम में अपर जिला जज श्री संजय चैहान, मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट श्री गौरव प्रज्ञानन, न्यायिक मजिस्टेªट श्री राजकुमार चैहान, श्री हर्ष ठाकुर, सुश्री प्रतिभा वास्कले, श्रीमती तनवी माहेश्वरी ठाकुर, श्री रवि तंवर, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष श्री बी.एल. सोनी एवं वरिष्ठ अधिवक्ता श्री दिनेश सक्सेना, श्री जगदीश नीमा, श्री हेमेन्द्र अग्निहोत्री, श्री ललित शाह, श्री सचिन सिसौदिया, श्री मनीष कानूनगो, श्री अखिलेश संघवी, श्री दिलीप मालवीय आदि उपस्थित थे।


ई-टेण्डर के माध्यम से मदिरा निष्पादन की कार्यवाही की जावेगी


झाबुआ। ई- टेण्डर के माध्यम से मदिरा समूह का निष्पादन की कार्यवाही की जावेगी। ई-टेण्डर के लिए आॅनलाईन प्रपत्र डाउनलोड एवं ई-टेण्डर आॅफर समीट करने की तिथि 18 मार्च को दोपहर 1 बजे तक रहेगी। ई-टेण्डर प्रपत्र खोलने की तिथि 18 मार्च 2021 को अपरान्ह दोपहर 1.05 बजे है। निष्पादन की जाने वाली मदिरा दुकानों/एकल समूह को लेने के लिए इच्छुक व्यक्ति ूूूण्उचजमदकमतेण्हवअण्पद पर ई-टेण्डर प्रक्रिया में भाग ले सकते हैं। ई-टेण्डर से सम्बन्धित नियमों, दुकानों का विवरण, मादक द्रव्यों की खपत, ड्यूटी दर एवं अन्य आनुषांगिक शर्तो की जानकारी ूूूण्उचजमदकमतेण्हवअण्पद पर एवं कार्यालय जिला आबकारी अधिकारी, जिला झाबुआ से किसी भी दिवस (अवकाश के दिनों सहित) कार्यालयीन समय में प्राप्त किये जा सकते हैं। इच्छुक टेण्डरदाता को ई-टेण्डर की कार्यवाही में भाग लेने के लिए अपना रजिस्टेªशन वेबसाईट www.mptenders.gov.in पर कराना अनिवार्य होगा। विस्तृत जानकारी उक्त वेबसाईट से प्राप्त की जा सकती है।


उद्योग आधार पंजीयन


झाबुआ। सूक्ष्म लघु मध्यम एवं उद्यम विभाग द्वारा इकाईयों को जून 2020 में निवेश सीमा एवं टर्नआॅवर के अधार पर वगीकृत किया है। अब एम.एस.एम.ई इकाईयों के लिए नीवन उद्यम की पंजीयन प्रक्रिया पुर्णतः आॅनलाईन होगी जो स्व प्रमाणीकरण पर आधारित होगी। इसमें इकाई को किसी भी प्रकार के पेपर अपलोड किए जाने की आवश्यकता नहीं होगी। पंजीयन उपरान्त एमएसएमई इकाईयों को एक स्थाई पंजीयन प्राप्त होगा। उक्त पंजीयन के लिए न्कलंउ त्महपेजतंजपवरच्वतजंस;ीजजचेरूध्ध्नकलंउतमहपेजतंजपवदण्हवअण्पदद्ध रहेगा। कोई भी उद्यम एक से अधिक उद्यम पंजीयन प्राप्त नहीं कर सकेगें। 30 जून 2020 से पहले रजिस्टीकृत विद्यमान उद्यम केवल 31 मार्च 2021 तक के लिए विधिमान्य रहेगें। अतः ऐसे सभी उद्यमियों से अनुरोध किया जाता है जिन्होंने 30 जून 2020 के पूर्व पंजीयन कराया है वे उपरोक्त प्रक्रिया अनुसार पुनः उद्यम पंजीयन करायें। उद्यम पंजीयन प्रक्रिया में सहायता के लिए एमएसएमई विकास संस्थान एवं जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, सुविधा केन्द्र, के रूप् में कार्य करेगें। उद्यम पंजीयन प्रक्रिया पूर्णतः निःशुल्क है अधिक जानकारी के लिए उद्योग विभाग से सम्पर्क करें।

कोई टिप्पणी नहीं: