बिहार : आगबबूला नीतीश ने कहा- संख्या बल देख लीजिए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 24 मार्च 2021

बिहार : आगबबूला नीतीश ने कहा- संख्या बल देख लीजिए

nitish-angry-in-assembly
पटना : बिहार विधानसभा में भारी बबाल के बाद अब विधान परिषद में भी माहौल काफी गर्म हो गया है। यहां पक्ष और विपक्ष के विधान परिषद आपस में भिड़ गए। यहां घटना उस वक्त हुई जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विधान परिषद में अपनी बात रख रहे थे। दरअसल , बिहार विधान परिषद में राजद एमएलसी द्वारा अपने विधायकों की पिटाई का विरोध कर रहे थे। राजद एमएलसी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा रखी जा रही बातों को बीच में खड़े होकर कहने लगे कि माननीय विधायक को पीटा गया है। उनका क्या वैल्यू रह जाएगा। इस बीच उनके विरोध पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जदयू एमएलसी नीरज कुमार और संजय सिंह खड़े हो गए और कहने लगे की राजद एमएलसी शब्दों की मर्यादा भूल रहे हैं। वहीं इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आग बबूला हो गया और कहने लगे कि विपक्ष के विधायकों ने गुंडागर्दी की है। वे लोग याद करें की वहां क्या हुआ था उनकी हरकतों को जनता ने भी देखा है। समय आने पर भी विपक्षियों को जनता करारा जवाब देगी। इसके साथ ही नीतीश कुमार ने कांग्रेस विधायकों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह भी राजद के चक्कर में अपने आप को बर्बाद कर रहें हैं। वहीं पक्ष और विपक्ष के नेता इतना गर्म हो गए कि सभापति भी अपनी सीट से उठ गए और उनलोगों को समझाने लगे। उनसे बैठने का आग्रह करने लगे और बोले कि आपलोग बैठ जाइये। नहीं तो जो आजतक नहीं हुआ है, वो करना पड़ेगा। लेकिन इसके बावजूद भी विपक्ष और सत्तापक्ष के हेमंत से अपनी सीटों पर नहीं गए और आपस में उलझने लगे। एक दूसरे को उंगली दिखाने लगे। हालांकि इस दौरान रामचंद्र पूर्वे और सत्ता पक्ष के दिलीप जायसवाल ने नेताओं को समझाकर उन्हें वापस भेजा। इसके बाद नीतीश कुमार ने कहा कि विपक्ष के लोग अटैक करते हैं। सत्ता पक्ष के लोग अटैक नहीं करते हैं। चुपचाप अपने कार्यक्रम में हिस्सा लीजिये और अपनी बात कहिये। आपकी क्या संख्या है ? और इधर यानी कि सत्ता पक्ष की कितनी संख्या है देख लीजिये।

कोई टिप्पणी नहीं: