पीएसएलवी-सी51 ने अमेजोनिया-1 को किया कक्षा में स्थापित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 मार्च 2021

पीएसएलवी-सी51 ने अमेजोनिया-1 को किया कक्षा में स्थापित

pslv-c51
श्रीहरिकोटा 28 फरवरी, ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी)-सी51 ने ब्राजील के उपग्रह अमेजोनिया-1 काे रविवार सुबह सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित कर दिया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने वर्ष 2021 के अपने पहले मिशन के तहत आंध्र प्रदेश में श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सुबह 10:24 बजे पीएसएलवी-सी51 का ब्राजील के उपग्रह अमेजोनिया-1 और 18 अन्य उपग्रहों के साथ प्रक्षेपण किया। उड़ान भरने के 17 मिनट बाद अमेजोनिया-1 प्रक्षेपण यान से अलग होकर 715 किलोमीटर की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित हो गया। इसरो के अध्यक्ष के. शिवन ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि उन्हें यह बताते हुए अत्यंत प्रसन्नता हो रही है कि पीएसएलवी-सी51 ने ब्राजील के उपग्रह को कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया है। इस अवसर पर डॉ. शिवन सहित मिशन से जुड़े सभी वैज्ञानिक उपस्थित थे। इसके बाद चौथे चरण का इंजन बंद हाेगा और दो बार ‘रिस्टार्ट’ होगा। यह इसरो के सबसे लंबे मिशन में से एक है जो लगभग दो घंटे तक चलेगा। चौथे चरण के इंजन के दूसरी बार स्टार्ट होने पर उड़ान भरने के एक घंटा 55 मिनट बाद अन्य 18 उपग्रह अपनी कक्षा में स्थापित किये जाएंगे। पीएसएलवी-सी51 को 22 घंटे 50 मिनट तक चली उल्टी गिनती के बाद प्रक्षेपित किया गया। स्वदेश निर्मित 44.4 मीटर लंबे पीएसएलवी-सी51 के साथ ब्राजील के 637 किलो वजनी अमेजोनिया-1 और 18 अन्य उपग्रह अंतरिक्ष में भेजे गये।

कोई टिप्पणी नहीं: