बेटी को न्याय दिलाने के लिए भटक रहे पिता की सड़क हादसे में मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 मार्च 2021

बेटी को न्याय दिलाने के लिए भटक रहे पिता की सड़क हादसे में मौत

rape-victime-father-died-road-accident
कानपुर,10 मार्च, उत्तर प्रदेश में कानपुर के सजेती इलाके में सामूहिक दुष्कर्म पीड़ित बेटी को न्याय दिलाने के लिए भटक रहे पिता की आज यहां सड़क हादसे में मृत्यु हो गई। पुलिस सूत्रों के अनुसार मंगलवार रात एक व्यक्ति ने सजेती थाने में नाबालिग बेटी के साथ बांदा में तैनात एक दरोगा के बेटे और उसके दोस्त पर गैंगरेप का आरोप लगाते हुए तहरीर दी थी। पिता का आरोप था कि दरोगा के बड़े बेटे पर मुकदमा दर्ज न कराने का दबाव बनाते हुए थानेदार ने उसके साथ गाली गलौज व जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने बताया कि गैंगरेप की जानकारी होते ही मौके पर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) ब्रजेश श्रीवास्तव के साथ सीओ गिरीश कुमार भी थाने पहुंच गए और उन्होंने पीड़िता किशोरी के पिता से बातचीत करते हुए आरोपी दीपू और उसके साथी गोलू की गिरफ्तारी के लिए पुलिस के पांच टीमों का गठन करते हुए जल्द से जल्द गिरफ्तारी के आदेश दिए । पुलिस ने आज सुबह एक आरोपी गोलू यादव को गिरफ्तार भी कर लिया । वही दरोगा का बेटा दीप अभी भी पकड़ में नहीं आया है। पुलिस के अनुसार गैंगरेप पीड़ित बेटी को न्याय दिलाने के लिए भटक रहे पिता की बुधवार सजेती के अनूपूर चौराहे पर तेज रफ्तार ट्रक की चपेट में आने से मौके पर ही मृत्यु हो गई। हादसे की जानकारी गांव पहुंचते बड़ी संख्या में गुस्साए ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे और कानपुर-सागर राजमार्ग जाम कर हंगामा शुरू कर दिया और पीड़ित के परिवार वालों ने आरोपितों व पुलिस की मिलीभगत से किशोरी के पिता की हत्या का आरोप लगाया है। सूचना पर मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ ने एक नहीं सुनी। पुलिस के आला अफसर भी घटनास्थल पर पहुंच गए और बेटे की मौत की खबर मिलते ही उसके वृद्ध पिता भी मौके पर पहुंच गया और कहा कि मेरा बेटा और गैंगरेप पीड़ित किशोरी का पिता मंगलवार रात पुलिस के साथ था। कानपुर में मेडिकल परीक्षण के बाद किशोरी और उसके माता-पिता को पुलिस सजेती थाने ले गई थी। रात को किशोरी को घाटमपुर के सरकारी अस्पताल में लाया गया,जिस समय घटना हुई पुलिस साथ में थी। पुलिस ने दारोगा के दबाव में आकर पीड़िता के पिता को बीच सड़क पर धक्का दे दिया,जिससे ट्रक की चपेट में आने से उसी मौत हो गई। वृद्ध पिता का आरोप है कि उसके बेटे की हत्या की गई है और हादसे का रूप देने का प्रयास किया जा रहा है। इस बीच पुलिस उपमहानिरीक्षक डा0 प्रीतिंदर सिंह डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने आज बताया कि पंजीकृत अभियोग धारा.376डी (ए), 504, 506 आईपीसी व 5 जी/6पॉक्सो अधिनियम के तहत दर्ज मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी गोलू यादव को गिरफ्तार कर लिया जबकि शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित की गयी है। उन्होंने बताया कि जिस ट्रक की चपेट में आने से पीड़िता के पिता की मृत्यु हुई,उसके चालक को गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने बताया कि जिलाधिकारी आलोक तिवारी ने पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के साथ घटना की जांच के लिए प्रशासनिक कमेटी गठित कर दी है। उन्होंने बताया कि दुर्घटना में अपर पुलिस अधीक्षक के अधीन टीमें गठित कर तथ्यो के आधार पर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि कानपुर के थाना सजेती के तहत गैंगरेप का एक मामला मंगलवार को थाने पहुंचा था जिसमें गैंगरेप की पीड़िता किशोरी के पिता ने बांदा में तैनात एक दरोगा के बेटे व उसके दोस्त के ऊपर बेटी के गैंगरेप का आरोप लगाया था और वही दरोगा के बड़े बेटे पर मुकदमा दर्ज न कराने का दबाव बनाते हुए गाली गलौज व जान से मारने की धमकी का आरोप भी लगाया था वही गैंगरेप की जानकारी होते ही मौके पर एसपी ग्रामीण ब्रजेश श्रीवास्तव के साथ सीओ गिरीश कुमार भी थाने पहुंच गए थे। 

कोई टिप्पणी नहीं: