रिचर्ड्स ने भारतीय पिचों के आलोचकों लताड़ा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 मार्च 2021

रिचर्ड्स ने भारतीय पिचों के आलोचकों लताड़ा

richards-criticism-english-for-motera-pitch
नयी दिल्ली, एक मार्च, वेस्टइंडीज के अपने जमाने के दिग्गज बल्लेबाज विव रिचर्ड्स भारत में स्पिनरों की मददगार वाली पिच को लेकर इंग्लैंड के पूर्व और वर्तमान क्रिकेटरों के विलाप से खुश नहीं हैं और उन्होंने कहा कि मेहमान टीम चुनौती के लिये तैयार नहीं थी। अहमदाबाद के मोटेरा की नवनिर्मित पिच तब चर्चा का विषय बन गयी जब भारत ने इंग्लैंड को तीसरे टेस्ट में दूसरे दिन ही 10 विकेट से करारी शिकस्त देकर चार मैचों की श्रृंखला में 2-1 से बढ़त हासिल की। माइकल वान जैसे इंग्लैंड के पूर्व कप्तानों और ब्रिटिश मीडिया के एक वर्ग ने इस पिच की कड़ी आलोचना की थी। यह बहस रिचर्ड्स को अच्छी नहीं लगी जो अपनी बेपरवाह बल्लेबाजी के कारण दुनिया के हर क्षेत्र में सफल रहे थे। रिचर्ड्स ने अपने फेसबुक पेज पर जारी किये गये वीडियो में कहा, ‘‘मुझसे हाल में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गये दूसरे और तीसरे टेस्ट को लेकर सवाल किये गये थे। और मैं वास्तव में सवाल को लेकर थोड़ा उलझन में था क्योंकि ऐसा लगता है कि जिन पिचों पर वे खेल रहे थे उनको लेकर काफी विलाप किया गया। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि जो लोग विलाप कर रहे हैं उन्हें अहसास होना चाहिए कि ऐसा समय भी होता है जबकि हमें तेज गेंदबाजों के लिये अनुकूल विकेट मिलता है। गेंद असल में गुडलेंथ से तेजी से उछाल लेती है और हर कोई तब सोचता है कि यह बल्लेबाजों से जुड़ी समस्या है। ’’ इस 68 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि भारत में खेलने का मतलब है कि आपको अच्छे स्पिनरों का सामना करना होगा और लगता है कि इंग्लैंड ने दौरे से पहले अच्छी तरह से तैयारियां नहीं की। रिचर्ड्स ने कहा, ‘‘लेकिन अब आप दूसरा पक्ष देख चुके हैं और इसलिए इसे टेस्ट मैच क्रिकेट नाम दिया गया है क्योंकि यहां मानसिकता और इच्छाशक्ति के साथ उन सब चीजों की भी परीक्षा होती है जिनसे प्रतिस्पर्धा के समय आप गुजरते हो।’’ उन्होंने कहा, ‘‘तथा शिकायतें हो रही हैं कि विकेट बहुत अधिक स्पिन ले रहा था और इसी तरह की अन्य बातें की जा रही हैं। यह सिक्के का दूसरा पहलू है। लगता है कि लोग भूल जाते हैं कि जब आप भारत दौरे पर जाते हो तो आपको ऐसी उम्मीद रखनी चाहिए। आप ऐसे देश में जा रहे हो जहां पिचें स्पिनरों को मदद करती है। आपको असल में इसके लिये खुद को तैयार करना चाहिए।’’ रिचर्ड्स ने कहा कि इंग्लैंड की श्रृंखला के शुरू में बड़ी जीत के बाद भारत ने उसे उसकी आरामदायक स्थिति से बाहर कर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘पहले टेस्ट मैच से ही इंग्लैंड अपनी आरामदायक स्थिति में था। अभी उन्हें उनके इस आरामदायक क्षेत्र से बाहर कर दिया गया है और उन्हें जिन परिस्थितियों का सामना करना है उससे पार पाने के लिये रास्ता ढूंढना होगा।’’ रिचर्ड्स ने कहा, ‘‘स्पिन भी खेल का हिस्सा है, टेस्ट मैच में यही सब होता है। भारतीय तेज गेंदबाजों ने पिछले कुछ वर्षों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। …. अब आप भारत में हैं आपको इन चीजों का सामना करना होगा और उसके लिये तरीका ढूंढना होगा। ’’

कोई टिप्पणी नहीं: