सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 17 मार्च 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 मार्च

रविवार से बहेगी श्रीराम कथा रूपी गंगा, इंग्लिशपुरा में शुरू होगा भव्य आयेाजन


sehore news

सीहोर। इंग्लिशपुरा कंचन गार्डन के पास स्थित प्रांगण में रविवार 27 मार्च से श्रीराम कथा का शुभारंभ किया जाएगा। अमृतमय श्रीराम कथा का वाचन सिद्धपुर माटी के युवा संत गो क्रांति अग्रदूत कथा व्यास पंडित मोहितरामजी पाठक करेंगे। आयोजन समिति के प्रदीप पाठक के अनुसार श्रीराम कथा दोपहर एक से शाम चार बजे तक आयोजित होगी। परमपिता परमात्मा की असीम कृपा एवं भगवान चिंतामन श्रीगणेश के आशीर्वाद से श्रीराम कथा का आयोजन होगा। आयोजन समिति ने सभी धर्म प्रेमी भाई बंधु माता बहनों से भव्य श्रीराम कथा श्रवण करने की अपील की है।



भारतीय जीवन बीमा निगम में आज रहेगी हड़ताल, कर्मचारियों ने प्रबंधन को दिया हड़ताल का नोटिस  

  • पूंजी पतियों एवं विदेशी पूंजीपतियों के हित में सरकार लेकर आ रही है  आईपीओ

sehore news
सीहोर । भारत सरकार देशव्यापी विरोध के बावजूद आईपीओ लाने पर आमादा है भारतीय जीवन बीमा निगम कार्यालय में शाखा प्रबंधक को कर्मचारियों ने  हड़ताल का नोटिस दियाl एलआईसी के आईपीओ के खिलाफ अखिल भारतीय हड़ताल आयोजित की गई है आईपीओ का पूरे देश में पुरजोर विरोध हो रहा है लेकिन यही पार्टी जो अब सत्ता में है सत्ता से पूर्व निजी करण की नीतियों का विरोध कर रही थी सत्ता में आते ही अपना पासा पलट दिया और चंद् पूंजी पतियों एवं विदेशी पूंजीपतियों के हित में सरकार आईपीओ लेकर आ रही है साथ ही विदेशी पूंजी निवेश को 49% से बढ़ाकर 74% कर दिया गया है । इन सब नीतियों हड़ताली संगठन पुरजोर विरोध कर रहे हैं । साथ ही कर्मचारियों का वेतन निर्धारण लगभग पिछले 4 वर्षों से लंबित है नियमानुसार प्रति 5 वर्ष में कर्मचारियों का वेतन निर्धारण होता है । लेकिन इस सरकार के कार्यकाल में सबसे अधिक विलंब हुआ है एलआईसी अधिकारियों और कर्मचारियों के अंदर अपनी उक्त पूर्णतः न्याय संगत मांग को लेकर भारी रोष है । देशव्यापी हड़ताल के माध्यम से एलआईसी के कर्मचारी अपना रोष प्रकट कर रहे हैं । यूनियन के सचिव गणेश प्रसाद एवं अध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता ने पालिसी धारकों की असुविधा के लिए खेद प्रकट किया है एवं अपील की है कि पार्टी धारकों के हितों के संरक्षण के लिए यह हड़ताल बेहद जरूरी है । आज हड़ताल का नोटिस दिया गया नोटिस देने वालों में प्रमुख रूप से गणेश प्रसाद बलवीर गहलौत राजीव कुमार बृजलाल पटेल योगेंद्र दुबे संतोष परते हेमलता वशिष्ठ सुमित लाल राकेश राठौर सुरेंद्र सिंह यादव रूमाना कुरेशी प्र सेलवेरियश  प्रमुख रूप से मौजूद थे । 


संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के संबंध में नवीन दिशा निर्देश जारी


अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा ने कोविड 19 संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के संबंध में नवीन दिशा निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने बताया है कि भोपाल और इंदौर शहर में रात्रि 10बजे से प्रातः 6 बजे तक समस्त दुकानें एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। केमिस्ट, राशन एवं खानपान की दुकानों पर यह प्रतिबंध लागू नहीं रहेगा। समस्त गैर आवश्यक आवागमन बंद रहेगा,  केवल आवश्यक सेवाएं अस्पताल , एयरपोर्ट , रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड आने-जाने के लिए ही आवागमन की अनुमति रहेगी। रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक  अकारण आवागमन को रोकने के लिए नियमित रूप से पेट्रोलिंग व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश कलेक्टर्स को दिए गए हैं। डॉ.राजौरा ने बताया कि जबलपुर और ग्वालियर शहरों में भी रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक समस्त दुकाने एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रखे जाएंगे। केमिस्ट , राशन एवं खानपान की दुकानों पर यह प्रतिबंध लागू नहीं रहेगा।


सौ से अधिक व्यक्तियों के आयोजन पर पूर्व अनुमति लेना बंधनकारी रहेगा

गृह विभाग द्वारा जारी आदेश में प्रदेश के 10 जिलों में होली, गेर और मेले इत्यादि के आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे। साथ ही सार्वजनिक कार्यक्रमों के पूर्व जिला प्रशासन से अनुमति लेना आवश्यक एवं बाध्यकारी होगा। उन्होंने बताया कि भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन, रतलाम, छिंदवाड़ा, बुरहानपुर, बैतूल और खरगोन में होली के जुलूस, गेर, मेले इत्यादि आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे। उपरोक्त जिलों में खुले मैदान में आयोजित होने वाले समस्त सामाजिक, शैक्षणिक, राजनीतिक, धार्मिक, खेल, मनोरंजन और सांस्कृतिक कार्यक्रम जिनमें 100 से अधिक व्यक्ति शामिल होने वाले हैं, की पूर्व अनुमति जिला प्रशासन से प्राप्त करना बंधनकारी होगा।


मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना लगेगा

भोपाल इंदौर ग्वालियर जबलपुर उज्जैन रतलाम छिंदवाड़ा बुरहानपुर बैतूल और खरगोन में मासिक का उपयोग नहीं करने वाले व्यक्तियों पर जुर्माना अनिरुद्ध करने की प्रभारी प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। डॉ. राजौरा ने बताया है कि दुकानों एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कराने वाले दुकानदारों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। नगरीय निकायों एवं पुलिस के वाहनों के माध्यम से कोविड-19 के बचाव के लिए मास्क का उपयोग करने , सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने-कराने के लिए रोको टोको अभियान भी चलाया जाएगा। डॉ. राजौरा ने 13 मार्च 2021 को जारी निर्देश में संशोधन करते हुए बताया है कि लोगों को होम क्वॉरेंटाइन किया जाएगा, पृथक से क्वॉरेंटाइन सेंटर नहीं खोले जाएंगे।


श्रमोदय आवासीय विद्यालय प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन, अब 25 मार्च तक


मध्यप्रदेश भवन एवं संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल अंतर्गत पंजीकृत  निर्माण श्रमिकों के पुत्र एवं पुत्रियों को शिक्षा देने के लिए संचालित श्रमोदय आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए आवेदन श्रमोदय विद्यालय के पोर्टल पर ऑनलाईन करने की अंतिम तिथि 25 मार्च 2021 है। पूर्व में यह तिथि 12 मार्च 2021 थी। जिसे बढ़ाकर अब 25 मार्च कर दी गई है।


राज्य निर्वाचन आयोग ने बनाया सुश्री सारिका घारू को ब्राण्ड एम्बेसेडर


राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरीय निकायों एवं त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन-2021 में निर्वाचन के प्रति मतदाताओं में जन-जागरूकता लाने के लिये शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सांडिया, पिपरिया जिला होशंगाबाद की अध्यापिका सुश्री सारिका घारू को राज्य स्तरीय ब्राण्ड एम्बेसेडर नियुक्त किया है। सचिव राज्य निर्वाचन आयोग श्री दुर्ग विजय सिंह ने जानकारी दी है कि सुश्री घारू  जिलों में उप जिला निर्वाचन अधिकारी और नोडल अधिकारी (सेन्स) से विचार-विमर्श कर सेन्स की गतिविधियों का क्रियान्वयन करेंगी। उन्होंने बताया है कि सुश्री घारू को आवश्यक सहयोग के लिये सभी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं।


बाल यौन शोषण की रोकथाम एवं पॉक्सो अधिनियम पर होगी वेबिनार श्रृंखला शुरू


बेहतर और सुरक्षित भविष्य हर बच्चे का अधिकार है। इस पर मध्यप्रदेश शासकीय एवं अशासकीय शिक्षकों को बाल हितों के संरक्षण हेतु सक्षम बनाने एवं शोषण एवं हिंसा के बचाव के लिये वेबिनार श्रृंखला शुरू होगी। वेबिनार महिला बाल विकास एवं स्कूल शिक्षा विभाग एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित होगा। शासकीय एवं अशासकीय शालाओं के शिक्षकों का उन्मुखीकरण के लिये 17 मार्च सायंकाल में मध्यप्रदेश बाल संरक्षण नीति के प्रभावी क्रियान्वयन की दिशा में बच्चों एवं किशोरों के लैंगिक विकास एवं शोषण के प्रति दृष्टिकोण विषय के प्रति बच्चों से संवाद कौशल, 19 मार्च सायंकाल बाल शोषण रोकने में शिक्षकों की भूमिका और 20 मार्च शिक्षकों का दायित्व एवं भूमिका पर वेबिनार आयोजित होगा। वेबिनार में प्रमुख सचिव महिला बाल विकास श्री अशोक शाह, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी एवं सुश्री मार्गरेट ग्वाटा यूनिसेफ, मध्यप्रदेश के उदबोधन करेंगे। विशेष वेबिनार श्रृंखला में live link - You-Tube-mpwcd, https://www.facebook.com/MPWCD, Twitter - https://twitter.com/MP_WCD पर भी होगा।


शिक्षा से बच्चों की श्रेष्ठ नैसर्गिक प्रतिभा का प्रगटीकरण होना चाहिए - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • कला से समृद्ध शिक्षा के दो दिवसीय कार्यक्रम अनुगूँज का समापन 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शिक्षा में अध्ययन के साथ विद्यार्थियों की नैसर्गिक प्रतिभा का प्रगटीकरण भी होना चाहिये। नई शिक्षा नीति में इसका प्रावधान किया गया है। विद्यार्थियों की चहुमुँखी क्षमता को विकसित करने के लिए अब प्रत्येक सरकारी शालाओं में प्रतिवर्ष वार्षिक उत्सव आयोजित किए जाएंगे। इसमें कला, संस्कृति, परम्पराओं पर आधारित सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ होंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अनुगूँज कार्यक्रम में सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ देने वाले प्रत्येक छात्र-छात्राओं को 5 हजार रूपए सम्मान निधि दी जाएगी और उन्हें मुख्यमंत्री निवास में पूरी


टीम के साथ सम्मानित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान शासकीय सुभाष उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शिवाजी नगर के प्रांगण में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित नृत्य, संगीत और नाट्य प्रस्तुतियों के दो दिवसीय कार्यक्रम अनुगूंज के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री इन्दरसिंह परमार और मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह भी मौजूद थी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अनुगूंज बच्चों की छिपी प्रतिभा को उभारने का कार्यक्रम है। हर बच्चे में प्रतिभा होती है। प्रतिभा को प्रोत्साहित करने और उभारने की आवश्यकता रहती है। राज्य सरकार का प्रयास है कि बच्चे लिखाई-पढ़ाई में अव्वल तो रहे ही उनकी कला, साहित्य, गायन, संगीत, चित्रकला आदि क्षेत्रों के लिये अन्तर्निहित श्रेष्ठता उभरे। उन्होंने बताया कि मैं भी सरकारी स्कूल में पढ़ा हूँ। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि हर बच्चे में ईश्वर के अंश होते हैं। उनमें अनन्त शक्तियां होती हैं। वे अमृत पुत्र हैं। उनमें बहुत संभावनाएँ छुपी रहती हैं। उचित मौका मिले तो बहुत आगे बढ़ सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महाकवि कालिदास और गोस्वामी तुलसीदास का उदाहरण देते हुये कहा कि दो महाकवियों ने उनके जीवन में घटी घटना से प्रेरित होकर सृजन किया तथा दुनिया को अनूठे तथा दुर्लभ साहित्य दिए। साधारण परिस्थितियों से उपर उठकर वैज्ञानिक, साहित्यकार, अधिकारी, नेता, कवि, आदि हर क्षेत्र में शिखर तक पहुँचा जा सकता है। हमारे समाज में ऐसे अनेक उदाहरण हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जहाँ रूचि हो वहाँ अध्ययन करें। उन्होंने अभिभावकों से कहा कि बच्चों की रूचि पहचाने तथा उस क्षेत्र में उन्हें बढ़ाने में सहयोग करें। प्रदेश के सरकारी स्कूलों की शिक्षा को बेहतर बनाया गया है। उन्होंने बच्चों का आव्हान किया कि वे शासकीय शालाओं में पढ़कर प्रदेश, देश और दुनिया में नाम रोशन करें। कुछ करके दिखायें। यही मेरी हसरत है। उन्होंने कहा कि जब मैं बच्चों के बीच होता हूँ, तो मुझे बहुत प्रसन्नता होती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आप अपने आप को दीन-हीन, असहाय कभी भी न समझें। जैसा विचार होता है, व्यक्ति वैसा ही बन जाता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये हर उपाय करने के लिये प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि बच्चे स्वयं मास्क लगायें और परिवारजनों को भी इसके लिये रोके-टोके। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के अंत में सभी कलाकार बच्चों के बीच मंच पर जाकर उनका उत्साहवर्धन किया। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में अध्ययन के साथ कला और खेलकूद के विकास को शामिल किया जा रहा है। कला, शिक्षा और संस्कृति के आपसी सामंजस्य से विद्यार्थियों को सीखने का अवसर मिलता है और उनमें उत्साह का संचार होता है। एक भारत-श्रेष्ठ भारत की नीति के अंतर्गत विभिन्न प्रांतों की संस्कृति से परिचित होने का अवसर प्रदान किया जा रहा है। नई शिक्षा नीति में अकादमिक कार्य के साथ अन्य गतिविधियों को जोड़ा गया है। उन्होंने बताया अनुगूंज कार्यक्रम में 11 विद्यालयों के 400 विद्यार्थी सम्मिलित हुये और अपनी कला का उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। मध्यप्रदेश में शिक्षा का स्तर उत्कृष्ट हुआ है। उन्होंने बताया कि इंजीनियरिंग और मेडिकल क्षेत्रों में एडमीशन की राष्ट्रीय प्रतियोगी परीक्षाओं में राज्य के सरकारी स्कूलों के छात्र बड़ी संख्या में सफल हुये हैं।


मुख्यमंत्री द्वारा पेंटिंग प्रदर्शनी का अवलोकन

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बच्चों द्वारा बनाई गई पेंटिंग प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि बच्चों द्वारा बनाई गई सभी पेंटिंग बहुत उत्कृष्ट हैं। ऐसा लगता ही नहीं कि यह बच्चों द्वारा बनाई गई हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि बच्चों में प्रतिभा की कमी नहीं होती। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रारंभ में दिव्यांग बच्चियों का पूजन किया ओर उन्हें सहायक उपकरण प्रदान किये।


अनुगूँज

कला से समृद्ध शिक्षा की एक अनूठी परिकल्पना साकार हुई है। इस आयोजन से यह चरितार्थ हुआ है कि सही अवसर, संसाधन और मार्गदर्शन प्रदान किया जाए तो हर प्रतिभा नए आयाम छू सकती है। अनुगूँज के दो दिवसीय कार्यक्रम में प्रथम और द्वितीय दिवस वाद्यवृन्द, समूह गान, भरतनाट्यम, मयूरभंज नृत्य, आडसी तथा कत्थक, समकालीन नृत्य आदि मनमोहक प्रस्तुतियाँ हुई। साथ ही जातक कथा आधारित नाटक निर्द्वन्द्व और मणिपुरी लोक कथा आधारित नाटक्मिजाओगी खोंगचट का मंचन किया गया। केन्द्र सरकार की एक भारत श्रेष्ठ भारत अवधारणा के तहत सांस्कृतिक सम्पदा के आदान-प्रदान के लिए मध्यप्रदेश सरकार को नागालेंड और मणिपुर राज्यों के साथ समूहबद्ध किया गया। इन उत्तर पूर्वी राज्यों की कला एवं संस्कृति की झलक भी इस अनुगूंज 2021 की प्रस्तुतियों और परिकल्पनाओं में देखने को मिली। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयश्री कियावत, संचालक कौशल विकास श्री धनराजू एस. और श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव भी मौजूद थे।


बसों में यात्रियों को मास्क लगाना अनिवार्य : परिवहन मंत्री श्री राजपूत

बसों के परमिट में रखा जाएगा पर्याप्त अंतराल, 2 हजार 640 करोड़ रूपये की राजस्व प्राप्ति के लक्ष्य से दो कदम दूर 

परिवहन एवं राजस्व मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत ने परिवहन विभाग की समीक्षा बैठक में कहा कि प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं के विभिन्न कारणों में से एक बड़ा कारण बसों के समय में पर्याप्त अंतराल नहीं होना भी है। एक-दो मिनट के अंतराल से परमिट जारी होने पर सड़क पर बसों में प्रतिस्पर्धाएँ बढ़ती है, जिससे चालक समय पर पहुँचने के दबाव में गाड़ी तेज गति से चलाते है। इससे दुर्घटना की संभावना निरंतर बनीं रहती है। इसे रोकने के लिये आवश्यक है कि अधिकारी परमिट जारी करने के पूर्व यह सुनिश्चित करें कि बसों के संचालन के बीच आवश्यकतानुसार पर्याप्त अंतराल रखा जाएं।


यात्रियों के लिये मास्क अनिवार्य

मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि कोरोना के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए बस संचालकों को निर्देशित किया गया है कि यात्रियों के लिए मास्क अनिवार्य किया जाए। अब कोई भी यात्री बिना मास्क के यात्रा नहीं कर सकेगा। किसी भी यात्री बस में मास्क के बिना यात्री पाये जाने पर संबंधित वाहन मालिक, चालक, परिचालक के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही की जायेगी। इसके साथ ही मार्ग पर संचालित होने वाली यात्री बसों के बीच पर्याप्त अंतराल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस संबंध में पृथक से दिशा-निर्देश जारी किये जायेगे।


राजस्व प्राप्ति के लक्ष्य से दो कदम दूर

परिवहन मंत्री ने कहा कि वर्ष 2020-21 के लिए 2 हजार 640 करोड़ रूपये राजस्व प्राप्ति लक्ष्य के विरूद्ध अभी तक 2 हजार 554 करोड़ रूपये का राजस्व प्राप्त किया गया है। शेष राशि आगामी 15 दिवस के अंदर प्राप्त करने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों से अवैध परिवहन को रोकने के लिए चलाये व जा रहे अभियान की अदयतन जानकारी प्राप्त की। मंत्री श्री राजपूत ने कहा कि आम जनता की सुरक्षा के लिए बसों की विशेष चैकिंग का अभियान चलाया है, जिसके बहुत अच्छे परिणाम सामने आए हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इस अभियान को निरंतर जारी रखें। इसके साथ ही निर्देशित किया कि चैक पोस्ट पर तैनात सभी अधिकारी एवं कर्मचारियों वर्दी पहनें एवं अपने ऑफिशियल मोबाईल हमेशा ऑन रखें।


महिलाओं को कामर्शियल ड्रायविंग लायसेंस

मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि महिलाओं को आत्म-निर्भर बनाने की दिशा में कामर्शियल ड्रायविंग लायसेंस दिया जाना मध्यप्रदेश शासन का एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में इंदौर में महिलाओं के लिए वाहन चालन प्रशिक्षण केन्द्र खोला गया है। जहाँ महिलायें सुरक्षा के साथ वाहन चालन सीख सकेंगी। इसके अलावा महिलाओं के लिए कामर्शियल ड्रायविंग का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा। महिलाओं के लिए पूरे प्रदेश में वाहन चालन प्रशिक्षण केन्द्र खोले जाने का लक्ष्य है। मंत्री श्री राजपूत ने वाहन सारथी पोर्टल के माध्यम से फेस लेस सुविधा प्रारंभ किये जाने के लिये लर्निंग लायसेंस, डुप्लिकेट लायसेंस, लायसेंस का नवीनीकरण एवं लायसेंस में पता परिवर्तन के कार्य को शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये।


दिव्यांग यात्रियों को 50 प्रतिशत की छूट का प्रावधान

मंत्री श्री राजपूत ने निर्देशित किया कि दिव्यांग यात्रियों के लिये यात्री बसों के किराये में 50 प्रतिशत की छूट दी जाना सुनिश्चित करें। यदि किसी वाहन संचालक द्वारा दिव्यांग यात्रियों को किराये में छूट प्रदान नहीं की जाती तो नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी।बैठक में परिवहन आयुक्त श्री मुकेश जैन, अपर परिवहन आयुक्त श्री अरविन्द सक्सेना सहित पूरे प्रदेश से आए परिवहन अधिकारी उपस्थित थे।


दो अवैध कॉलोनियों के विरूद्ध कार्यवाही


sehore news
जिले में अतिक्रमण हटाने के साथ ही अवैध कॉलोनियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाहियां की जा रही हैं। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी राजस्व अधिकारियों को अवैध अतिक्रमण को चिन्हित कर हटाने तथा अवैध कॉलोनियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं। इन्दौर भोपाल बायपास रोड पर लगभग 2 एकड़, तथा लगभग 7 एकड़ भूमि पर बिना अनुमति विकसित की जा रही कॉलोनियों में बिजली खंबे, बाउन्ड्रीवॉल एवं अन्य निर्माण हटाया। अवैध कॉलोनियों के विरूद्ध एसडीएम श्री रवि वर्मा, तहसीलदार श्री नरेन्द्र बाबू यादव तथा राजस्व एवं पुलिस दल द्वारा यह कार्यवाही की गई।


सामुदायिक स्वच्छता परिसरों का लोकार्पण, 50 प्रधानमंत्री आवास सहित अनेक निर्माण कार्यो का लोकार्पण  


sehore news
स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत जिले के पांचों जनपदों में नव निर्मित सामुदायिक स्वच्छता परिसरों के साथ जिले में निर्मित 50 प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण), 06 शांति धाम, 02 गौशाला, 01 खेल मैदान, एवं 08 पंचायत भवनों का भी लोकार्पण गृहमंत्री भारत सरकार श्री अमित शाह के द्वारा केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तौमर एंव मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में 18 मार्च को प्रात: 11 बजे आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम ग्रामोदय के माध्यम से किया जायेगा। सीईओ जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह ने जानकारी दी कि उल्लखनीय है कि जिले में 5000 से अधिक जन संख्या वाले 200 ग्राम पंचायतों में सामुदायिक स्वच्छता परिसरों का निर्माण किया जा रहा है। इनसे 86 सामुदायिक स्चछता परिसर पूर्णत: बनकर तैयार हो चुके हैं। उन्होन कहा कि इन स्वच्छता परिसरों के बन जाने से गांवों में आयोजित होने वाले धार्मिक, सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही विवाह के आयोजन में उपयोगी होंगे।   स्वच्छ भारत मिशन के जिला समन्वयक विकास वाघाडे ने जानकारी दी कि स्वच्छता परिसर सुंदर एवं आकर्षक रूप में तैयार किये गये हैं।


मिशन ग्रामोदय कार्यक्रम में सवा लाख परिवारों का गृह प्रवेश 18 मार्च को: मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • कार्यक्रम में साढ़े दस हजार से अधिक सामुदायिक निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी
  • सीहोर जिले के 50 प्रधानमंत्री आवास तथा अन्य निर्माण कार्यो का होगा लोकापर्णन

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 18 मार्च को मिशन ग्रामोदय के तहत प्रदेश के सवा लाख परिवारों को प्रधानमंत्री आवास की सौगात दी जाकर गृह प्रवेश कराया जायेगा। मिशन ग्रामोदय का यह मुख्य कार्यक्रम धार जिला मुख्यालय पर उदय रंजन क्लब परिसर में प्रात: 11 बजे मुख्यमंत्री श्री चौहान की विशेष उपस्थिति में होगा। इन सवा लाख आवासों की लागत 1562 करोड़ रूपये है। साथ ही ग्रामीण विकास विभाग के साढ़े 10 हजार से अधिक सामुदायिक निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी होगा। इनमें 6 हजार सामुदायिक स्वच्छता परिसर, 2 हजार खेल मैदान, 2 हजार शांति धाम और 634 पंचायत भवन शामिल हैं। सीहोर जिले के 50 प्रधानमंत्री आवासों में गृह प्रवेश तथा 20 निर्माण कार्यो का लोकापर्ण किया जायेगा। मिशन ग्रामोदय के इस कार्यक्रम में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह और ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर वर्चुअली शामिल होंगे। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया और राज्य मंत्री श्री रामखेलावन पटेल भी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में इतनी बड़ी संख्या में गृह प्रवेश कराये जाने का यह दूसरा बड़ा आयोजन है। इससे पूर्व 12 सितम्बर को भी मध्यप्रदेश के 1 लाख 75 हजार हितग्राहियों को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में गृह प्रवेश कराया जा चुका है। प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीब परिवारों के लिये यह आवास कोरोना काल के दौरान निर्मित हुए हैं। मध्यप्रदेश में कोरोना काल की चुनौतियों से निपटते हुए 3 लाख से अधिक आवास निर्मित किये गये हैं। प्रधानमंत्री मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सन 2022 तक देश के सभी आवासहीन परिवारों को आवास उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया है। 'सबको आवास 2022' का लक्ष्य हासिल करने के लिये मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण लागू की गई है। इस महत्वाकांक्षी योजना में मध्यप्रदेश के लगभग 18 लाख 48 हजार ग्रामीण परिवारों को अपना घर मिल चुका है। यह सभी ऐसे परिवार थे, जिनके पास घर नहीं थे अथवा कच्चे जीर्ण-शीर्ण घरों में रहते थे। इस योजना में हितग्राही को मकान की इकाई लागत मैदानी जिलों में 1 लाख 20 हजार तथा दूरस्थ पहुँच विहीन और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में 1 लाख 30 हजार रूपये शत-प्रतिशत अनुदान के रूप में आवास निर्माण कार्य की प्रगति के आधार पर किश्तों के रूप में दिये जाते हैं। मकान के साथ ही स्वच्छ शौचालय का निर्माण किया जाता है तथा उज्जवला योजना का एलपीजी गैस कनेक्शन भी दिया जाता है। मध्यप्रदेश में समृद्ध पर्यावास अभियान के नाम से योजना के हितग्राहियों को लगभग 27 शासकीय योजनाओं जैसे सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, राशन कार्ड, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, परिवार की महिलाओं को राज्य ग्रामीण आजीविकास मिशन के अंतर्गत स्व-सहायता समूहों के रूप में संगठित करने का लाभ दिलाया गया है, यह इंद्रधनुषी प्रयोग हितग्राहियों सर्वांगीण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है। हितग्राही के खाते में स्वमेव चार किश्तों में आवास सॉफ्ट तथा आवास सॉफ्ट ऐप के माध्यम से जियो टेग, फोटो अपलोड होने पर राशि अंतरित हो जाती है। हितग्राही को अब किसी शासकीय कार्यालय अथवा अधिकारी, कर्मचारी के चक्कन लगाने की आवश्यकता नहीं हैं। इस प्रक्रिया से हितग्राहियों को बड़ी राहत मिली है। एक लाख हितग्राहियों के खातों में 1 लाख 20 हजार के मान से लगभग 1562 करोड़ रूपये से अधिक की राशि प्रदाय की गई थी। आवास को पूर्ण करने का अधिकतम समय 12 माह है, परन्तु मध्यप्रदेश में यह आवास कोविड-19 के चुनौतीपूर्ण समय में अत्यंत कम अवधि में तेजी से पूर्ण किये गये हैं। राष्ट्रीय स्तर पर आवासों की पूर्णता की अवधि 114 दिन है। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना के 5 लाख हितग्राहियों को 2 हजार करोड़ राशि की विमुक्ति की प्रक्रिया भी शुरू की जायेगी। प्रधानमंत्री आवास के अलावा ग्रामीण क्षेत्र में ग्रामीण विकास विभाग की विभिन्न योजनाओं में निर्मित 10 हजार 634 अन्य सामुदायिक निर्माण कार्य जैसे स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत 180 करोड़ की लागत के 6 हजार सामुदायिक स्वच्छता परिसर, 86 करोड़ 96 लाख की लागत के 634 पंचायत भवन, मनरेगा में निर्मित 2 हजार खेल मैदान तथा 2 हजार शांतिधामों का लोकार्पण भी इस कार्यक्रम में किया जायेगा।


उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग कर बुधनी को बनाया जायेगा आत्मनिर्भर

  • बुधनी विधानसभा क्षेत्र को आत्मनिर्भर बनाने गहन मंथन, नसरूल्लागंज में बैठक में आयोजित

sehore news
आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत बुधनी को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिले के अधिकारियों की अटल बिहारी बाजपेयी इन्स्टीट्यूट ऑफ गुड गवर्नेंस के विशेषज्ञों के साथ नसरूल्लागंज में बैठक आयोजित कर विकास की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह, एसडीएम श्री डी.एस.तोमर सहित सभी जिलाधिकारी एवं अटल बिहारी बाजपेयी इन्स्टीट्यूट ऑफ गुड गवर्नेंस के डायरेक्टर श्री गिरीश शर्मा सहित सभी विभागों के जिला अधिकारी शामिल थे।   बैठक में  बुधनी को आत्मनिर्भर बनाने के लिए चहुंमुखी विकास का खाका तैयार किया जा रहा है। इसमें स्वास्थ्य, शिक्षा तथा रोजगार के साथ ही उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग कर लोगों को आत्मनिर्भर बनाकर उनके जीवन में बदलाव लाने के लिए मंथन किया गया । कृषि क्षेत्र में कुछ क्षेत्र में परंपरागत फसलों  के साथ ही उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के साथ ही फूड प्रोसेसिंग उद्योग लगाने के लिए सभी आवश्यक पहलुओं पर विचार किया गया । इसी प्रकार उपलब्ध सिंचाई क्षमता का बेहतर उपयोग करने, वानिकी एवं जल संग्रहण करने विशेषज्ञों के साथ चर्चा की गई। बैठक में इस बात पर खास जोर दिया गया कि लघु एवं कुटीर उद्योग लगाये जायें ताकि अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके। इसके साथ ही बुधनी विधानसभा क्षेत्र की जलवायु के अनुरूप फसल चक्र में परिवर्तन और खेती के उन्नत तकनीक एवं बीजों की उपलब्धता तथा किसानों को प्रशिक्षण के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई।


वर्ष की प्रथम लोक अदालत को सफल बनाने के लिए बैठक आयोजित, 10 अप्रेल 2021 को होगा नेशनल लोक अदालत का आयोजन  


sehore news
प्रथम लोक अदालत को सफल बनाने के लिए जिला न्यायाधीश श्री राजवर्धन गुप्ता द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से जिला एवं तहसील न्यायालय के न्यायाधीशों को दिशा निर्देश दिये। यह लोक अदालत 10 अप्रेल को आयोजित की गई है। श्री राजवर्धन गुप्ता ने समस्त न्यायाधीशगण को अधिक से अधिक प्रकरण नेशनल लोकअदालत में रखे जाने के लिए निर्देश दिये। तहसील विधिक सेवा समिति आष्टा, नसरूल्लागंज, बुधनी एवं इछावर को लोक अदालत के प्रचार-प्रसार के लिए संबंधित विभागों के साथ बैठक आयोजित करने के भी निर्देश दिये। श्री एस.के नागोत्रा सचिव जिला प्राधिकरण द्वारा नेशनल लोकअदालत में रैफर्ड प्रकरणों की जानकारी तत्काल जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया ताकि अधिक से अधिक प्रकरणों का नेशनल लोक अदालत के माध्यम से निराकरण हो सके।


आज 06 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई, वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 60


पिछले 24 घंटे के दौरान 06 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। रेंहटी के वार्ड न.30, इछावार के मोलका तथा श्यामपुर अंतर्गत मोयापानी से 01-01, सीहोर के चाणक्यपुरी से 03  व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि वर्तमान में जिले में एक्टिव/पॉजिटिव की संख्या 60 है। 08 रिकवर हुए अब तक कुल रिकवर की संख्या 2804  है। 48 संक्रमितों की उपचार के दौरान मृत्यु हुई है। आज 252 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 51,  नसरूल्लागंज 30 , आष्टा से 80, इछावर से 05, श्यामपुर से 25,  बुदनी से 61 सैम्पल लिए गए है । आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2912 है जिसमें से 48 की मृत्यु हो चुकी है 2804 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 60 है। आज 252 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 78966 हैं जिनमें से 74831 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 113 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1152 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। आज पॉजिटिव मिले नये कन्टेनमेंट झोन सहित समस्त कन्टेनमेंट एवं बफर जोन मे स्वास्थ्य दलों द्वारा स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है वहीं पॉजिटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्ये कन्टेनमेंट जोन मे सर्वे के लिए जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-07562 226470 है एवं 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती हैं। जिला स्तर पर मोबाइल नंबर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होन कारोन्टाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हल्पलाईन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम कारान्टाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकॉलोजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते है।


पेयजल के लिए 1841 करोड़ की जलप्रदाय योजनायें मंजूर, सीहोर सहित 35 जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों की हैं जल संरचनायें   


लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने प्रदेश के 35 जिलों में 1841 करोड़ 20 लाख 88 हजार रूपये लागत की 2168 जलप्रदाय योजनाओं की स्वीकृति जारी की है। ग्रामीण क्षेत्र की पेयजल व्यवस्था के लिए जल जीवन मिशन के अन्तर्गत विभाग ने पहली बार इतनी बड़ी संख्या में एकजाई जलप्रदाय योजनाओं की स्वीकृति जारी की है। जल जीवन मिशन के अन्तर्गत जल गुणवत्ता प्रभावित ग्रामों, सांसद आदर्श ग्रामों तथा अनुसूचित जाति एवं जनजाति बाहुल्य ग्रामों को प्राथमिकता में रखा जाता है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने चालू वित्तीय वर्ष में ग्रामीण आबादी को कुल 26 लाख 26 हजार नये नल कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा था। इस लक्ष्य में से 18 लाख से अधिक नल कनेक्शन दिए भी जा चुके हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा इस स्वीकृति के अनुरूप भोपाल, राजगढ़, सीहोर, विदिशा, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, धार, झाबुआ, अलीराजपुर, खरगोन, बड़वानी, खण्डवा, उज्जैन, नीमच, शाजापुर, आगरमालवा, भिण्ड, सागर, दमोह, टीकमगढ़, जबलपुर, कटनी, मण्डला, नरसिंहपुर, बालाघाट, डिण्डौरी, छिन्दवाड़ा, सिवनी, रीवा, सतना, सीधी, अनूपपुर तथा शहडोल जिलों में नवीन जलप्रदाय योजनाओं के साथ ही विभिन्न ग्रामों में पूर्व से र्निमित पेयजल अधोसंरचनाओं को नए सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग के अन्तर्गत कार्य किये जायेंगे। प्रदेश की समूची ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और जल निगम द्वारा निरंतर जल-संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किये जा रहे हैं। प्रदेश में अब तक करीब 35 लाख नल कनेक्शन देकर ग्रामीण परिवारों की पेयजल व्यवस्था की जा चुकी है। विभाग द्वारा पहलीबार 2168 जलप्रदाय योजनाओं की एकजाई दी गई मंजूरी पर विभाग का मैदानी अमला लक्ष्य के अनुरूप जलप्रदाय योजनाओं को पूरा कर ग्रामीण आबादी को नल कनेक्शन के माध्यम से पेयजल उपलब्ध करवाना सुनिश्चित कर सकेगा।


नागरिकों को मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग की सतत सलाह दें - मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह

  

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा है कि सभी नगरीय निकायों में निकाय के वाहनों के माध्यम से मास्क लगाने एवं सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने की सलाह सतत रूप से दी जाये। प्रत्येक दुकान में सोशल डिस्टेंसिंग एवं उपभोक्ताओं द्वारा मास्क के उपयोग संबंधी व्यवस्था सुनिश्चित हो। ट्रेफिक चौराहों पर लाउडस्पीकर से मास्क का उपयोग करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के संबंध में उद्घोषणा की व्यवस्था की जाये। प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री नीतेश व्यास ने इन निर्देशों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश सभी नगर निगम आयुक्तों, संभागीय संयुक्त संचालकों और मुख्य नगर पालिक अधिकारियों को दिये हैं।


वृद्धावस्था के कारण हुई गायों की मृत्यु


लसूड़िया कांगर गौशाला में  गाय की मृत्यु की जानकारी मिलने पर इछावर जनपद सीइओ आयुषी गोयल ने गौशाला का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि गौशाला में गायों के लिए पेयजल, एवं चारे की पर्याप्त व्यवस्था है।  यह व्यवस्थाऐं सुचारू रूप से चल रही हैं। पशु चिकित्सक द्वारा सप्ताह में दो से तीन दिन गायों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाता है। गौशाला की नियमित साफ सफाई होती है। तथा गौशाला में चौकीदार के रहने की व्यवस्था है, जो हर समय उपलबध रहता है। इस वर्ष कुल 11 गायों की मृत्यु हुई है, जो वृद्धावस्था के कारण प्राकृतिक रूप से हुई है। भूख अथवा प्यास से किसी भी गाय की मृत्यु नहीं हुई है।





live news, livenews, live samachar, livesamachar

कोई टिप्पणी नहीं: