विपक्ष पांच साल तक करेगा सदन का बहिष्कार : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 24 मार्च 2021

विपक्ष पांच साल तक करेगा सदन का बहिष्कार : तेजस्वी

tejaswi-attack-nitish-on-assembly-attack
पटना : नीतीश सरकार द्वारा लाया गया बिहार विशेष सशस्त्र विधेयक भारी हंगामे के बीच मंगवार को विधानसभा में पास हो गया है। वहीं, इसको लेकर अभी भी विरोध-प्रदर्शन जारी है। विपक्ष के तमाम सदस्य सदन से वाकआउट किये हुए हैं। इस पत्रकारों से बात करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि मेरा नाम तेजस्वी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके कठपुतली अधिकारियों को अच्छे से पता होना चाहिए कि कोई भी सरकार स्थायी नहीं होती है। हमारे पास सभी का फ़ुटेज है। जनतंत्र में जनता मालिक होती है। सत्ता किसी की बपौती नहीं है। तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को निर्लज्ज कुमार की संज्ञा देते हुए कहा कि उनको कल बड़ा मजा आ रहा होगा, जब सदन में महिला विधायकों की साड़ी उतारी जा रही थी, उनके ब्लाउज में हाथ डाला जा रहा था। विधायकों की मां-बहन को गाली दिलवाया जा रहा था और वे नृत्य-संगीत में व्यस्त थे। बिहार की जनता इस वाक्ये को कभी नहीं भूलेगी। बिल का उदहारण देते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि विधायकों को बर्बर तरीके से पीट कर पुलिस बिल पास कराया गया। इसके खामियाजा उन्हें भी भुगतना पड़ेगा। कभी ऐसा दिन भी आएगा जब यही पुलिस उनके घर में घुसकर उनके साथ जोर जबरदस्ती करेगी। उस समय नीतीश कुमार को एहसास होगा कि उन्होंने किस निर्लज्ज परंपरा की शुरुआत की है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि विधानसभा के अंदर माननीय विधायकों के साथ जिस तरह का दुर्व्यवहार और मारपीट की गई वह पूर्णत: अलोकतांत्रिक है। इन्होंने एक असंसदीय परंपरा स्थापित की है। यदि दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई और मुख्यमंत्री इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए माफी नहीं मांगते हैं, तो हम यानी पूरा विपक्ष शेष कार्यकाल के लिए विधानसभा का बहिष्कार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने और विपक्ष के सभी विधायकों ने यह तय किया है कि जब तक बर्बर पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों एवं अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होगी तथा मुख्यमंत्री सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं मांग लेते तब तक पूरा विपक्ष पांच वर्ष तक सदन का बहिष्कार करेगा। श्री यादव ने बुधवार यहां कहा कि कल जो कुछ भी विधानसभा में हुआ वह सिर्फ और सिर्फ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर हुआ। इसके लिए देश श्री कुमार को कोस रहा है लेकिन उनको शर्म नहीं आ रही है। उन्हें मजा आ रहा होगा जब उनकी पुलिस महिला विधायकों की साड़ी खोल रही थी और अभद्र भाषा के साथ ही महिलाओं को बाल पकड़कर घसीटा जा रहा था। प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि विपक्षी विधायकों को बर्बर तरीके से पीटकर पुलिस के सहारे पुलिस विधेयक पारित कराया गया। श्री कुमार की सरकार ने जो कलंक की परंपरा शुरू की है उसका खामियाजा उन्हें भी भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि विधानसभा में महिला विधायकों की बर्बर पिटाई गालियां और उनके साथ दुर्व्यवहार को वक्त कभी भी नहीं भूलेगा। 

कोई टिप्पणी नहीं: