सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 4 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 अप्रैल

उपार्जन में कृषकों की समस्याओं के निराकरण करने जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम स्थापित, मो. नं.- 9826774286, 9827612742


समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के समय कृषकों को आने वाली समस्याओं के निराकरण के लिए  कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम स्थापित  करने के निर्देश दिये हैं। खरीदी के समय आने वाली  समस्याओं, शिकायतों के  त्वरित निराकरण के लिए कन्ट्रोल रूम में अधिकारी,कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है। श्री रामस्वरूप गौर  ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी मो- 9826774286 प्रात: 08 बजे से दोपहर 02 बजे तक। तथा श्री चित्रेश सांवले फील्ड सहायक मार्केटिंग मो- 9827612742 दोपहर 02 बजे से रात्रि 08 बजे तक । यह अधिकारी कर्मचारी निर्धारित पंजी में समस्याओं, शिकायतों का संधारण करेंगे। शिकायत प्राप्त होते ही यथा संभव शिकायतों का निराकरण संबंधित अधिकारियों से करवायेंगे। संबंधित शिकायतों को लिखित में जिला स्तर पर श्री डीसी जैन सहकारिता निरीक्षक मो-9893876578 तथा श्री विनय कनिष्ट आपूर्ति अधिकारी मो-9425012747 को प्रस्तुत कर सकते हैं। उपार्जन में परिवहन, बारदाना से संबंधित प्राप्त होने वाली शिकायतों का निराकरण के लिए नगरिक आपूर्तिनिगम के प्रतिनिधि श्री रवि वर्मा मो-9200205651 से संपर्क करें। नियंत्रण कक्ष जिला प्रबंधक मध्यप्रदेश स्टेट सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन सीहोर में स्थापित रहेगा। इसका दूरभाष क्रमांक-07562-490922 रहेगा। तत्काल निराकृत की जाने वाली समस्याओं को दूरभाष पर ही संबंधित अधिकारियों की जानकारी में लायेंगे तथा निर्देश प्राप्त करेंगे । विशेष आगजनी, बारिश से संबंधित जानकारी भी तत्काल संबंधितों, विभाग को सूचित करेंगे। कानून व्यवस्था बिगड़ने की सूचना पर संबंधित अनुविभागीय अधिकारी, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी को सूचिवत करेंगे तथा निर्देश प्राप्त करने के निर्देश दिये । नियंत्रण कक्ष  उपार्जन समाप्ति  तक क्रियाशील  रहेगा।


भोपाल संभाग मे आज से जल संचयन अभियान, 1239 जल संरचनाओं के निर्माण और जीर्णोद्वार की मुहिम-75 करोड़16 लाख से अधिक की प्रशासकीय मंजूरी


जल संचयन अभियान भोपाल संभाग में अब 5 अप्रैल, सोमवार से चलाया जाएगा  जिसमें संभाग में करीब 1239 जल संचयन जल संरचनाओं के निर्माण और जीर्णोद्वार का विशेष अभियान चलाया जाएगा। संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत  जल संचयन अभियान को सफल बनाने के लिए स्वयं अनेक ग्रामीण क्षेत्रों में जाएंगे और टीम की हौसला अफजाई करेंगे। कमिश्नर श्री कियावत ने संबंधित अधिकारियों को अपने जिलों के लिए निर्धारित लक्ष्य अनुसार व्यापक अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। "जल संचयन" अभियान के अंतर्गत जिलों द्वारा जल संचयन गतिविधियों के तहत भोपाल में 147, सीहोर में 120, रायसेन 162, विदिशा 388 और राजगढ़ में 422 तालाबों के जीर्णोद्धार हेतु स्थल चयनित किए गए हैं । भोपाल के लिये 7करोड़ 58 लाख 53 हज़ार,सीहोर 4 करोड़ 38 लाख,22 हज़ार,राजगढ़ 32 करोड़ 68 लाख 36 हज़ार ,रायसेन 9 करोड़ 52 लाख 11 हज़ार तथा विदिशा के लिए 20 करोड़ 99 लाख 12 हज़ार की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है। कमिश्नर ने कहा कि "जल संचयन" अभियान हेतु सभी जिलों के लिए निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति हेतु अभी काफी कार्य किया जाना शेष है। इसलिए स्थलों का चिन्हांकन, कार्यों की तकनीकी/प्रशासकीय स्वीकृति, कार्यो का ले-आउट प्लान आदि सभी कार्य अद्यतन हों। श्री कियावत ने कहा हैं कि  कि देश के आर्थिक, सामाजिक तथा सांस्कृतिक विकास के लिये जल संरक्षण अत्याधिक महत्वपूर्ण है। जल संरक्षण जरूरत भी है और कर्तत्व भी। इसी पृष्ठभूमि में मनरेगा योजना से जल संरचनाओं के नवीन निर्माण व पुरानी जल संरचनाओं के जीर्णोद्धार हेतु समयबद्ध कार्रवाई की जाएगी । मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायतों से कहा गया है कि जिलों में जीर्णोद्धार एवं नवीन जल संरचनाओं व अनुपयोगी और बंद खदानों को जल संचयन रचना में परिवर्तित किये जाने योग्य सभी चिन्हाकिंत कार्यों को संपूर्ण संभाग में एक ही दिन प्रारंभ कराया जाए। इससे जल संरक्षण के प्रति एक सार्थक संदेश समाज में प्रसारित होगा। जल संचयन अभियान अंतर्गत यथा संभव प्रत्येक ग्राम पंचायत में कम से कम एक जल संचयन संबंधी कार्य किया जाएगा। अभियान को व्यापकता प्रदान करने के उददेश्य से संभाग के पांचों जिलों में न्यूनतम एक हजार जल संरचनाओं के नवीन निर्माण एवं जीर्णोद्धार तथा बंद खदानों को जल संरचनाओं में परिवर्तित करने का कार्य एक साथ प्रारंभ किया जाएगा।


मुख्यमंत्री श्री चौहान वाहन द्वारा सड़कों पर जाकर खुद करेंगे मास्क लगाने का आव्हान, जन-जागरूकता के लिए राजनीतिक दलों, धर्मगुरुओं और स्वैच्छिक संगठनों को किया जुड़ने का आव्हान 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जन- जागरूकता का कार्य निरंतर कर रहे हैं। इस क्रम में वे 5 अप्रैल को भोपाल शहर की सड़कों पर वाहन से निकल कर उद्घोषणा करते हुए आमजन को फेस मास्क के उपयोग का आह्वान करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज स्मार्ट पार्क में पौधारोपण के बाद मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत में कहा कि यह मानवता पर आया संकट है जिससे मिलकर ही लड़ा जा सकता है।


त्रि-आयामी उपाय

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना को काबू में करने के लिए तीन मोर्चों पर सक्रिय है। सबसे महत्वपूर्ण आम जनता द्वारा फेस मास्क का उपयोग, दूसरा सोशल डिस्टेंसिंग का समुचित पालन और तीसरा बेहतर उपचार व्यवस्था और टीकाकरण। मुख्यमंत्री ने बताया कि वे प्रतिदिन इन सभी कार्यों की समीक्षा भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आम जनता को भी इस लड़ाई में जुड़ना पड़ेगा। कोरोना का बढ़ता संक्रमण एक चुनौती है। इससे निपटने के लिए आम जनता का उत्साह बढ़ाएंगे। जो व्यक्ति फेस मास्क का उपयोग कर रहे हैं उन्हें प्रोत्साहित करेंगे और जो फेस मास्क का उपयोग नहीं कर रहे उन्हें समझाने का प्रयास होगा।


छत्तीसगढ़ से सामान्य आवाजाही बन्द करने पर विचार

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अधिक संक्रमित सीमावर्ती प्रांतों से सामान्य आवाजाही रोकने पर विचार किया जा रहा है। महाराष्ट्र के बाद छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के मामले अधिक आ रहे हैं। छत्तीसगढ़ से मध्यप्रदेश आने वाले लोगों की सामान्य आवाजाही बंद करने पर विचार किया जा रहा है। इन राज्यों से आवश्यक कार्यों से आने-जाने वालों पर प्रतिबंध नहीं होगा, लेकिन उनकी चिकित्सा जाँच के बाद उन्हें आइसोलेशन में रखने की व्यवस्था होगी। यह संक्रमण रोकने में मददगार उपाय होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संक्रमण रूकने तक इन उपायों पर अमल जारी रहेगा।


सीमित लॉकडाउन की व्यवस्था

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे लम्बा लॉकडाउन नहीं चाहते। वर्तमान में जिन नगरों में रविवार को लॉकडाउन की व्यवस्था है, वह जारी रहेगी। छिंदवाड़ा और बैतूल जिले जहाँ संक्रमण अधिक है वहाँ दो अथवा तीन दिन का लॉकडाउन किया गया है। पूरे प्रदेश में लॉकडाउन लागू नहीं होगा। गरीबों की रोजी-रोटी चलना चाहिए।


नए स्लोगन होंगे मददगार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि फेस मास्क के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कुछ स्लोगन लोकप्रिय हो सकते हैं। जैसे "मास्क नहीं तो बात नहीं" और "मास्क नहीं तो सामान नहीं" का पालन उपभोक्ता और दुकानदार दोनों ही करेंगे और मास्क के माध्यम से संक्रमण को रोकने के इस महत्वपूर्ण उपाय का महत्व लोगों को बताया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि नागरिक आत्मानुशासन से सुरक्षित रहेंगे। कोरोना को नियंत्रित करेंगे।


राजनीतिक दल सहयोगी बनें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजनीतिक दलों और सामाजिक संगठनों का कोरोना संक्रमण को समाप्त करने में सहयोग लेने के लिए आव्हान किया गया है। प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस सहित अन्य दल आम जनता के हित में संक्रमण को रोकने में सहयोगी बनें और जन- जागरण अभियान में भागीदारी करें।


वैक्सीन की कमी नहीं है

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। भारत सरकार से पर्याप्त डोज प्राप्त हुए हैं। कुछ जिलों ने वैक्सीनेशन के लक्ष्य में डेढ़ गुना और दो गुना उपलब्धि अर्जित कर दिखाई है। जिलों में आवश्यक व्यवस्था और कोविड केयर सेंटर भी कार्य करते रहेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निश्चित ही हम मिले-जुले प्रयासों से विजयी होंगे और कोरोना परास्त हो जाएगा।


जहाँ भी गिरे, जब भी गिरे, वर्षा का पानी इकट्ठा करें

  • "जल शक्ति अभियान : कैच द रेन" का मध्यप्रदेश में प्रभावी क्रियान्वयन हो, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिलों को दिए निर्देश 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 'जल शक्ति अभियान : कैच द रेन' का मध्यप्रदेश के सभी जिलों में प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व जल दिवस पर इस अभियान की शुरूआत कर कहा कि भारत की आत्म-निर्भरता जल संसाधनों और जल सम्पर्क पर निर्भर है। हमारे पूर्वज हमारे लिए जल छोड़कर गए, अब हमारी जिम्मेवारी है कि हम आने वाली पीढ़ियों के लिए जल का संरक्षण करें। भारत में वर्षा का अधिकतर जल बह जाता है। हम जितना बारिश का पानी बचाएंगे, उतना हमारी भू-जल पर निर्भरता कम होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के आव्हान पर हमें वर्षा जल के संग्रहण के लिए हरसंभव प्रयास करना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 'जल शक्ति अभियान : कैच दरेन' कार्यक्रम के तहत वर्षा जल संचयन अभियान देश भर में ग्रामीण और शहरी इलाकों में चलाया जाएगा और इसका नारा होगा 'जहाँ भी गिरे, जब भी गिरे, वर्षा का पानी इकट्ठा करें'।


छोटी नदियों एवं जल स्त्रोतों को पुनर्जीवित करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जल संरचनाओं एवं उसके आस-पास किए गए अतिक्रमणों को हटवाएँ और उसके बाद इनकी मरम्मत एवं जीर्णोद्धार का कार्य किया जाए। समुदाय को साथ लेकर छोटी नदियों एवं जल स्त्रोतों को पुनर्जीवित किया जाए।


जल संरक्षण की कार्य-योजना बनाकर लागू करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिले में उपलब्ध जल स्त्रोतों एवं भूमि के स्वरूप के आधार पर जल संरक्षण की कार्य-योजना बनाकर लागू की जाए। प्रदेश की सभी जल संरचनाओं की जी.आई.एस. मैपिंग की जाए तथा इनकी सूचियाँ जिलेवार तैयार की जाएँ।


जिला मुख्यालयों पर जल शक्ति केन्द्र

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिला मुख्यालय पर जल शक्ति केन्द्रों की स्थापना की जाए। ये केन्द्र जल संरक्षण एवं संवर्धन के विषय में सूचना, जागरूकता एवं ज्ञान के प्रसारण केन्द्र के रूप में कार्य करेंगे।


सभी ग्राम पंचायतों के लिए जी.आई.एस. आधारित वाटरशेड डेव्हलपमपेंट प्लान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मनरेगा के अंतर्गत जल संरक्षण के लिए वॉटरशेड विकास के कार्य लिए जाए और सभी ग्राम पंचायतों के लिए जी.आई.एस. आधारित वॉटरशेड डेव्हलपमेंट प्लान बनाया जाए।


पानी की जाँच के लिए महिलाओं की ट्रेनिंग

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आजादी के बाद देश में पहली बार सरकार जल परीक्षण पर गंभीरता से काम कर रही है। देश में कोविड महामारी के दौरान 4.5 लाख महिलाओं को जल की जाँच के लिए ट्रेंड किया गया। पानी के जाँच के इस अभियान में गाँव में रहने वाली बहनों-बेटियों को जोड़ा जा रहा है। प्रदेश में भी इस दिशा में प्रभावी कार्रवाई हो।


ये भी निर्देश दिए

वृक्षारोपण आदि के माध्यम से कैचमेंट एरिया का ट्रीटमेंट किया जाए।वित्त आयोग से प्राप्त अनुदान को ग्राम पंचायत स्तर पर जल संरक्षण कार्यों में आवश्यकतानुसार उपयोग किया जाए। देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के आयोजनों के साथ जल शक्ति अभियान को भी जोड़ा जाये। जिले के सरकारी भवनों जैसे- आंगनवाड़ी भवन, पंचायत भवन, स्कूल भवन, स्वास्थ्य केन्द्र आदि में 'रूफ टॉप रेन वाटर हार्वेस्टिंग' की व्यवस्था की जाये। प्रत्येक ग्राम एवं ग्राम पंचायत स्तर पर जल शपथ ली जाए और जल शक्ति अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा


करीब 517 करोड़ की 513 जलप्रदाय योजनाओं के कार्य प्रारम्भ


प्रदेश की ग्रामीण आबादी शुद्ध पेयजल के लिए परेशान न हो इस दिशा में सरकारी प्रयास तेजी से जारी हैं। जहाँ जलस्त्रोत हैं, वहाँ उनका समुचित उपयोग कर आसपास के ग्रामीण रहवासियों को पेयजल प्रदाय किया जायेगा। जिन ग्रामीण क्षेत्रों में जलस्त्रोत नहीं हैं वहाँ यह निर्मित किए जायेंगे। समूची ग्रामीण आबादी के लिए यह व्यवस्था चरणबद्ध तरीके से अगले तीन सालों (2023 तक) में पूरा करने का लक्ष्य है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्वालियर-चम्बल संभाग के ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर दतिया, मुरैना तथा भिण्ड जिले में 513 ग्रामीण जलप्रदाय योजनाओं हेतु 516 करोड़ 79 लाख 21 हजार रूपये की स्वीकृतियाँ दी जा चुकीं हैं। विभाग के मैदानी अमले द्वारा जल जीवन मिशन के मापदण्डों के अनुसार कार्य भी प्रारम्भ कर दिये गए हैं। राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश की समग्र ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जल संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किए जा रहे हैं। इनमें ग्वालियर जिले की 104, गुना 127, शिवपुरी 48, दतिया 17, अशोकनगर 55, मुरैना 79 तथा भिण्ड की 83 जलसंरचनायें शामिल हैं। इन जिलों के विभिन्न ग्रामों में पूर्व से निर्मित पेयजल अधोसंरचनाओं को नये सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग के अन्तर्गत भी कार्य किया जा रहा है।


रोको टोको अभियान अंतर्गत प्रतिकात्मक जेल में भेजे गये लोग, कोविड-19 गाइडलाईन का पालन न करने पर होगी कड़ी कार्यवाही –कलेक्टर 


तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर पूरे जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए रोको-टोको अभियान चलाया जा रहा है । इसमें मास्क नहीं लगाने वाले लोगों के चालान बनाए जा रहे है । इसके साथ ही लापरवाही बरत रहे लोगों को कुछ घंटों के लिए प्रतीकात्मक जेल में रखा जा रहा है। राजस्व, पुलिस तथा नगर पालिका के संयुक्त अमले द्वारा रोको टोको अभियान के तहत मास्क नहीं लगाने वालों तथा शासन की गाइडलाइन का पालन नहीं करने वालों पर चालानी कार्यवाही की गई।  जनप्रतिनिधियों एवं समाजसेवीयों द्वारा कोरोना से बचाव के लिए कोरोना  गाइडलाइन का पालन करने की अपील की जा रही है।


मास्क नहीं लगाने वालों पर की गई गई कार्यवाही, 10 हजार रूपये से अधिक का वसूला फाइन


sehore news
कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए संक्रमण को रोकने के लिये राजस्व, पुलिस तथा नगर पालिका के संयुक्त अमले द्वारा मास्क नहीं लगाने वालों तथा शासन की गाइडलाइन का पालन नहीं करने वालों पर चालानी कार्यवाही की । एसडीएम रवि वर्मा तथा सीएमओ नगरपालिका द्वारा अनेक दोपहिया और चार पहिया वाहनों पर नियमों का पालन नहीं करने के कारण चालानी कार्यवाही कर लगभग 10 हजार रूपए वसूल किए गए ।


जिले में 40 व्यक्ति कोरोना पाजिटिव मिले, 01 व्यक्ति की मृत्यु हुई,  वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 224


पिछले 24 घंटे के दौरान 40 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 23 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। यह सभी व्यक्ति दांगी स्टेट, चाणक्यपुरी, केन्द्रीय विद्यालय परिसर, शुगर फेक्ट्री चौराहा, आरएके कॉलेज, रेल्वे कॉलोनी, अमर टॉकीज चौराहा, बडियाखेडी, गल्लामण्डी, न्यू आरटीओ कार्यालय, रानी मोहल्ला, पलटन एरिया, कस्बा, इंग्लिशपुरा, भोपाल नाका निवासी हैं । इसी तरह श्यामपुर अंतर्गत तकीपुर तथा छपरीकाल से 05, इछावर के दीवडिया एवं इछावर वार्ड नं.-2 से 02, आष्टा के चाचखेड़ी से 01, तथा बुधनी के वार्ड नं-01, 09, 04, 08, 02 तथा ग्राम उंचाखेड़ा से कुल मिलाकर 09 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोट पॉजिटिव प्राप्त हुई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि वर्तमान में जिले में एक्टिव-पॉजिटिव की संख्या 224है।  आज 18 व्यक्ति रिकवर हुए। अब तक कुल रिकवर की संख्या 2914  है। जिला चिकित्सालय सीहोर स्थित डीसीएचसी में शनिवार रात 01 कोविड संक्रमित बुजुर्ग महिला की उपचार के दौरान मत्यु हुई। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 49 हो गई है । आज 403  सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 109,  नसरूल्लागंज विकासखण्ड से 23 , आष्टा विकास खण्ड  से 82, इछावर विकासखण्ड से 25, श्यामपुर विकासखण्ड से 66,  बुदनी विकास खण्ड से 98 सैम्पल लिए गए है । जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 3187 है जिसमें से 49 की मृत्यु हो चुकी है 2914 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 224 है। आज 403 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 84901 हैं जिनमें से 80014 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 338 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1629 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-226470 है। 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन  सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं। 


हर व्यक्ति मास्क लगाए, इसके लिए सीख के साथ सख्ती भी जरूरी, सघन जन-जागरूकता अभियान चलाया जाए

  • प्रतिदिन दी जाए जनता को बेड्स की उपलब्धता की जानकारी, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए मास्क लगाना आवश्यक है। हर व्यक्ति मास्क लगाए इसके लिए लोगों को सीख दिए जाने के साथ सख्ती भी जरूरी है। प्रदेश में सभी वर्गों के सहयोग से सघन जनजागरूकता अभियान चलाया जाए। सभी माध्यमों से इसका प्रचार-प्रसार किया जाए। ऐसा माहौल बने कि हर व्यक्ति मास्क लगाने के लिए स्वत: प्रेरित हो। साथ ही मास्क न लगाने पर जुर्माना लगाया जाए एवं कुछ समय के लिए ओपन जेल में भी रखा जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जिलों में कोरोना के उपचार के लिए पर्याप्त संख्या में बेड्स की उपलब्धता के साथ ही प्रतिदिन इसकी जानकारी मीडिया, सोशल मीडिया आदि के माध्यम से जनता को दी जाए। साथ ही वैक्सीनेशन संबंधी जानकारी भी दी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा उपस्थित थे।


प्रदेश में 20369 एक्टिव प्रकरण

मध्यप्रदेश में 20 हजार 369 एक्टिव प्रकरण है। प्रदेश की गत 7 दिनों की औसत पॉजिटिविटी रेट 10.1 प्रतिशत है। तुलनात्मक रूप से संक्रमण में देश में मध्यप्रदेश आठवें स्थान पर है।


इन जिलों में 20 से अधिक नए प्रकरण

जिला वार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर में 708, भोपाल में 502, जबलपुर में 205, ग्वालियर में 120, उज्जैन में 89, रतलाम में 79, खरगोन में 74, बड़वानी में 72, छिंदवाड़ा में 71, बैतूल में 65, कटनी में 50, झाबुआ में 47, शाजापुर में 47, विदिशा में 44, अनूपपुर में 40, सागर में 38, नीमच में 37, धार में 36, बालाघाट में 34, देवास में 34, रायसेन में 29, खंडवा में 28, नरसिंहपुर में 27, शिवपुरी में 27, गुना में 25, शहडोल में 25 तथा होशंगाबाद में 23 कोरोना के नए प्रकरण आए हैं।


गरीबों का निशुल्क इलाज सुनिश्चित हो 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्पष्ट निर्देश दिए कि प्रत्येक गरीब मरीज का नि:शुल्क इलाज सुनिश्चित किया जाए। उन्हें आयुष्मान कार्ड के आधार पर नि:शुल्क चिकित्सा दें। साथ ही आवश्यकतानुसार जिन निजी अस्पतालों में बेड्स खाली हैं, उनके साथ अनुबंध कर बेड्स की संख्या बढ़ाएँ।


गलत तथ्य प्रकाशित/ प्रसारित नहीं होना चाहिए

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना आदि के संबंध में गलत तथ्य प्रकाशित/प्रसारित नहीं होने चाहिए। परंतु सही तथ्य प्रकाशित/ प्रसारित होने पर तत्परता के साथ कार्रवाई की जाए।


रविवार को भी होगा वैक्सीनेशन

जिन स्थानों पर रविवार को लॉकडाउन है, वहाँ रविवार को भी वैक्सीनेशन का कार्य किया जाएगा। बताया गया कि 45 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में वैक्सीन लगवा सकेंगे।


गणगोर का त्यौहार घर पर ही मनाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी गणगोर आदि त्यौहार घर पर ही मनाएँ। सार्वजनिक रूप से त्यौहार मनाने तथा मेलों आदि की अनुमति नहीं होगी।


होम आइसोलेशन की गाइडलाइन जारी करे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि स्वास्थ्य विभाग होम आइसोलेशन संबंधी गाडलाइन जारी करे। कमांड कंट्रोल सेंटर के माध्यम से इनकी निरंतर मॉनीटरिंग की जाए।


10 हजार बेड्स सुनिश्चित करें

इंदौर जिले की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि कोरोना उपचार के लिए 10 हजार बैड्स की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। निजी अस्पताल कोरोना उपचार के लिए शासन द्वारा निर्धारित फीस ही लें, यह भी सुनिश्चित किया जाए।


छिंदवाड़ा मेडिकल कॉलेज में हो इलाज की श्रेष्ठ व्यवस्था

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि छिंदवाड़ा मेडिकल कॉलेज में कोरोना के उपचार की श्रेष्ठ व्यवस्था हो। महाराष्ट्र बॉर्डर सील किया जाए तथा गुड्स के वाहन, आवश्यक सेवाओं के वाहन और आपातकालीन आवागमन छोड़कर आवाजाही न हो।


वैक्सीनशन की गति बढ़ाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीनशन की गति बढ़ाई जाए।


उपार्जन केंद्रों का भी निरीक्षण करें प्रभारी अधिकारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि कोरोना नियंत्रण के लिए जिलों के लिए नियुक्त प्रभारी अधिकारी अपने प्रभार के जिले में भ्रमण के दौरान उपार्जन केंद्रों का निरीक्षण कर व्यवस्थाएँ देखें। उपार्जन केन्द्रों पर कोरोना संबंधी सभी सावधानियों का पालन सुनिश्चित किया जाए।


यह भी निर्देश दिए

होम आइसोलेशन की सख्त मॉनिटरिंग की जाए। गाइडलाइन का पालन न करने पर कार्रवाई की जाए। जिन जिलों में अधिक संक्रमण है, वहाँ माइक्रो कंटेंटमेंट जोन बनाए जाएँ। कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट समय पर आ जाए। जिन जिलों में आवश्यकता हो कोविड केयर सेंटर्स बनाए जाएँ। जो जिले संडे लॉक डाउन की अनुमति चाहते हैं, उन्हें अनुमति दी जाए। फीवर क्लीनिक पर अच्छी व्यवस्था हो। ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण न फैले इस पर भी पूरा ध्यान दिया जाए।

कोई टिप्पणी नहीं: