बिहार : “लू” और “कोरोना” से बचाव के संदर्भ में जागरूक अभियान चलाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 7 अप्रैल 2021

बिहार : “लू” और “कोरोना” से बचाव के संदर्भ में जागरूक अभियान चलाया

awareness-to-save-covid-and-loo
पटना. विश्व स्तर पर बुधवार को विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया गया.इस साल का विश्व स्वास्थ्य दिवस 2021 का विषय है ‘एक निष्पक्ष और स्वस्थ दुनिया का निर्माण'.गैर सरकारी संस्था सेव द चिल्ड्रन द्वारा विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर पटना के विभिन्न स्लमों में रहने वाले लोगों को “लू” और “कोरोना” से बचाव के संदर्भ में जागरूक अभियान चलाया. सनद रहे कि हर साल 7 अप्रैल के दिन विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है. इसकी शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने की थी. साल 1948 को 7 अप्रैल के दिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की पहली बैठक में विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था. जिसके बाद साल 1950 से हर साल इसे मनाया जाने लगा. इस साल दुनियाभर में 71वां विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाएगा. विश्व स्वास्थ्य दिवस के लिए हर बार एक विषय तय किया जाता है और इसी क्षेत्र में फिर विश्व स्वास्थ्य दिवस काम करता है. विश्व स्वास्थ्य दिवस 2021 का विषय ‘एक निष्पक्ष और स्वस्थ दुनिया का निर्माण’ है. दुनिया स्वास्थ्य संबंधी कई सारी समस्याओं से जूझ रहा है, ऐसे में बहुत जरूरी है कि आगे चलकर स्वस्थ दुनिया का निर्माण हो इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन इस ओर कार्य करेगा. दुनियाभर में लाखों की संख्या में लोग आज कई बड़ी बीमारियों से जूझ रहे हैं. जिसमें मलेरिया, हैजा, टीबी, पोलियो, कुष्ठ, कैंसर और एड्स जैसी घातक बिमारी शुमार हैं. दुनियाभर के लोगों को शारीरिक, मानसिक और सामाजिक रूप से स्वस्थ बनाने के लिए जागरुक करना ही इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है. विश्व स्वास्थ्य दिवस के जरिए लोगों को अपने स्वास्थ्य की देखभाल और इसके लिए जागरुक रहना सीखाया जाता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से इस दिन स्वास्थ्य क्षेत्र में काम कर रहे पेशेवर और अन्य संगठन जो स्वास्थ्य क्षेत्र में काम कर रहे हैं उन्हें सहयोग प्रदान किया जाता है. वहीं सेव द चिल्ड्रन द्वारा विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर पटना के विभिन्न स्लमों में रहने वाले लोगों को “लू” और “कोरोना” से बचाव के संदर्भ में जागरूक अभियान चलाया.इस कार्यक्रम की शुरुआत आर. ब्लॉक स्लम, रोड नं. 6 से पपेट शो के माध्यम से किया गया. इस दौरान लोगों को गर्मी के मौसम में चलने वाली गर्म हवाओं से बचने के उपाए बताए गए. साथ ही साथ कोरोना के बढ़ते खतरों से बचाव के प्रति भी लोगों को जागरूक किया गया.  राणा रणजीत ने कहा कि यह कार्यक्रम 07 अप्रैल को आर.ब्लॉक स्लम तथा कमला नेहरू नगर स्लम में किया गया तथा 8 अप्रैल को यारपुर मुसहरी, यारपुर डोमखाना, अदालतगंज स्लम आदि मुहल्लों में किया जाएगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अपने स्थापना दिवस के अवसर पर दुनिया भर में लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक एवं संवेदनशील बनाने के लिए प्रत्येक वर्ष 7 अप्रैल को “विश्व स्वास्थ्य दिवस” मनाया जाता है। वर्ष 2021 में विश्व स्वास्थ्य दिवस की थीम “सभी के लिए स्वच्छ और स्वस्थ दुनिया का निर्माण” है। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुये विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस थीम के तहत दुनियाभर में स्वास्थ्य जागरूकता के साथ-साथ विभिन्न देशों के सरकारों को समुचित नीति व कार्यक्रम लागू करने के लिए अनुसंशा किया जाता है।  राणा रणजीत ने कहा कि सेव द चिल्ड्रन बच्चों की सुरक्षा और सर्वांगीण विकास के लिए काम करने वाली एक अंतराष्ट्रीय संस्था है, जो पिछले 100 वर्षों से दुनिया भर में काम कर रही है. समावेशी और समुत्थानीक शहर के निर्माण के लिए संस्था द्वारा पटना नगर निगम के विभिन्न वार्डों में काम किया जा रहा है.शहर के स्लमों में रहने वाले लोगों को आग, भूकंप, बाढ़, लू, शीतलहर आदि जैसे विभिन्न प्रकार के आपदाओं से बचाने के लिए काम किया जा रहा है. इसी क्रम में संस्था द्वारा लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता पैदा करने तथा ‘लू’ और ‘कोरोना’ से बचाओ के उपायों के बारे में बताने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है.इस दौरान लघु बैठक, पपेट शो, डोर-टू-डोर संपर्क जैसे कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. कार्यक्रम में कोरोना को ध्यान में रखते हुये पूरी सावधानी बरती जा रही है तथा लोगों को भी इसके लिए प्रेरित किया जा रहा है. इस पूरे अभियान को स्थानीय स्तर पर बच्चों और युवाओं ने संचालित किया.उन्होंने कार्यक्रम में लोगों को संदेश पहुंचाने के लिए नारे/ स्लोगनों का भी प्रयोग किया गया जो निम्नलिखित है- गर्मी में जब निकलो घर से, पानी बोतल रखना साथ.पेट भरा हो, सर ढंका हो, छतरी का तुम करो इस्तेमाल.सुबह का चूल्हा 8 से पहले, शाम का चौका 6 के बाद,पानी की बाल्टी चूल्हा के पास, रहो सुरक्षित सपरिवार.आग लगे तो ना घबराना, 101 पर फोन लगाना.नमक- चीनी का घोल पिलाएँ, पानी की कमी को दूर भगाएँ.आम-पन्ना, बेल का शर्बत लू का है उपचार भाई.ओ आर एस का घोल पिलाएँ, उल्टी दस्त को दूर भगाएँ.बच्चे-बूढ़े हैं परिवार की शान, लू, डायरिया, आग से रखें इनका विशेष ध्यान. जागरूकता अभियान के दौरान सेव द चिल्ड्रन के जयप्रकाश कुमार, इबराना नाज़, मंजुला डुंगडुंग, राजीव कुमार, राणा रणजीत ने आम पन्ना के बारे में विशेष जानकारी देने के दरम्यान कहा कि यह एक उत्तर भारतीय ठंडा पेय है.इसे कच्चे आम के गूदे से बनाया जाता है. यह गर्मी में पीने के लिए बहुत ही मज़ेदार और पाचक पेय है.यह बच्चों और बड़ों दोनों का ही मनपसंद पेय है.

कोई टिप्पणी नहीं: