बिहार : ऑक्सीजन युक्त बेड की व्यवस्था में सरकार है नाकाम, स्थिति हो रही गंभीर : धीरेन्द्र झा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 28 अप्रैल 2021

बिहार : ऑक्सीजन युक्त बेड की व्यवस्था में सरकार है नाकाम, स्थिति हो रही गंभीर : धीरेन्द्र झा

  •  बेड, आॅक्सीजन, वेंटिलेटर व कोविड जांच के सवाल पर माले का राज्यव्यापी मांग दिवस.
  • पटना में कई स्थानों पर कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए प्रदर्शन किया.

government-fail-dhirendra-jha-cpi-ml
पटना 28 अप्रैल, सभी कोविड मरीजों के लिए आॅक्सीजन युक्त बेड की गारंटी करने, पटना के निजी सहित सभी सरकारी अस्पतालों में 50 प्रतिशत बेड कोविड मरीजों के लिए आरक्षित करने, जिला अस्पतालों में 100 वेंटिलेटर सहित 500 बेड की व्यवस्था करने, अस्थाई अस्पतालों को खड़ा करने, डाॅक्टर व अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की अविलंब बहाली अथवा वैकल्पिक व्यवस्था करने तथा कोविड की जांच में गति लाने के सवाल पर आज भाकपा-माले पूरे राज्य में मांग दिवस आयोजित कर रही है. राजधानी पटना में कई स्थानों पर माले कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों से संबंधित पोस्टरों के साथ प्रदर्शन किया. चितकोहरा में माले पोलित ब्यूरो के सदस्य धीरेन्द्र झा, ऐपवा की राज्य सचिव शशि यादव, खेग्रामस नेता दिलीप सिंह, मुर्तजा अली, आबिदा खातून सहित मुहल्लों के लोगों ने कोविड नियमों का पालन करते हुए अपनी मांगें बुलंद की. इस मौके पर धीरेन्द्र झा ने कहा कि नीतीश कुमार की सरकार लोगों को राहत देने में फेल साबित हो रही है. इस सरकार ने विगत एक साल में स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने के लिए किसी भी प्रकार के प्रयास नहीं किए. उलटे नकारे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को एक बार फिर से स्वास्थ्य मंत्री बना दिया. विपक्ष की राय को भी सरकार नहीं मान रही है. हम लगातार मांग कर रहे हैं कि पटना के निजी सहित सभी अस्पतालों में 50 प्रतिशत बेड कोविड मरीजों के लिए आरक्षित किए जाएं. लेकिन सरकार किसी की नहीं सुनती. इससे स्थिति लगातार गंभीर होते जा रही है. सामान्य गति की बजाए सरकार को युद्ध स्तर पर काम करना होगा.


वहीं, कंकड़बाग में ऐक्टू के राज्य सचिव रणविजय कुमार के नेतृत्व में मांग दिवस आयोजित किया गया. इसमें पन्नालाल, संतोष कुमार सहित कई माले कार्यकर्ता मौजूद थे. माले व ऐक्टू नेताओं ने कहा कि वेदांता की बनी बिल्डिंग में अविलंब आॅक्सीजन व बेड की व्यवस्था करके मरीजों का इलाज प्रारंभ किया जाए. आखिर इस तरह के हाॅस्पीटल कब काम आयेंगे? उन्होंने सरकार से मांग की है कि कोरोना जांच की गति तेजी से बढ़ाई जाए. जांच की प्रक्रिया काफी धीमी व जटिल है. उन्होंने पाटलिपुत्र इंडोर स्टेडियम में कोविड मरीजों के लिए बन रहे अस्थायी अस्पताल का भी जायजा लिया. उन्होंने अस्थाई अस्पताल के निर्माण की धीमी गति पर चिंता जाहिर की. आशियाना नगर में माले व ऐक्टू के नेता जितेन्द्र कुमार के नेतृत्व में दर्जनों माले कार्यकर्ताओं ने हाथों में प्लेकार्ड लेकर आज मांग दिवस का आयोजन किया. आरा के क्रांति पार्क में माले विधायक सुदामा प्रसाद व अन्य माले कार्यकर्ताओं ने भी बेड व आॅक्सीजन की आपूर्ति हेतु आज के पोस्टर प्रदर्शनी में हिस्सा लिया. संदेश प्रखंड कार्यालय में भी यह कार्यक्रम लागू हुआ. जिले के तरारी प्रखंड के खुटहां कार्यालय में काॅमरेड कामता प्रसाद सिंह, कृष्णा प्रसाद गुप्ता, जनेश्वर सिंह, चांदकेश्वर राम, मंटू राम, कलामुद्दीन व रंजन पासवान के नेतृत्व में मांग दिवस आयोजित किया गया. गया में माले जिला सचिव निरंजन कुमार व ऐपवा की नेता रीता वर्णवाल केे नेतृत्व में आइसा के कार्यकर्ताओं ने जिला कार्यालय में कोविड के नियमों का पालन करते हुए पोस्टरों के साथ अपनी आवाज बुलंद की. जहानाबाद में पार्टी के राज्यव्यापी आह्वान पर जिला कार्यालय में घोषी विधायक रामबलि सिंह यादव के नेतृत्व में मांग दिवस आयोजित किया गया. इनौस राज्य परिषद सदस्य योगन्द्र यादव, अमरजीत कुमार, प्रवीण कुमार व पिंटू कुमार के नेतृत्व में मोदनगंज पंचायत के दयाली बिगहा गांव में गरीबों के लिए वेंटिलेटर युक्त अस्पताल की व्यवस्था करने तथा दवाइयों की कालाबाजारी पर रोक लगाने की मांग के साथ प्रदर्शन किया गया. मखदुमपुर पंचायत में भी आइसा-इनौस नेताओं ने प्रदर्शन किया. अरवल में भी माले विधायक महानंद सिंह के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने धरना दिया. पटना जिले के पुनपुन में नागेश्वर पासवान के नेतृत्व में धरना दिया जा रहा है.

कोई टिप्पणी नहीं: