बिहार : फेफड़े में संक्रमितों के मामले बढ़े, संक्रमित युवाओं के भी आ रहे फोन. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 27 अप्रैल 2021

बिहार : फेफड़े में संक्रमितों के मामले बढ़े, संक्रमित युवाओं के भी आ रहे फोन.

  • कोविड हेल्प सेंटर में आॅक्सीजन सिलेंडर की मांग बढ़ी, वेंटिलेटर कहीं नहीं उपलब्ध.
  • भाकपा-माले, आइसा-इनौस के प्रयास जारी; कई मरीजों का उपलब्ध करवाया बेड

cpi-ml-covid-helpline-center
पटना 27 अप्रैल, पटना के छज्जूबाग में कोविड मरीजों के लिए चल रहे कोविड हेल्प लाइन सेंटर में अब फेफड़ों के संक्रमण के शिकार मरीजोें के फोनकाॅल ज्यादा आ रहे हैं. सबसे चिंताजनक यह है कि इसमें युवाओं की भी अच्छी खासी संख्या है. आईसीयू की डिमांड लगातार बढ़ रही है, लेकिन अभी पटना के किसी भी अस्पताल में आईसीयू खाली नहीं है. कोविड हेल्प सेंटर की ओर से माले की राज्य कमिटी की सदस्य समता राय ने बताया कि हम चाहकर भी मरीजों की बहुत सेवा नहीं कर पा रहे, क्योंकि सरकार न तो बेडों की संख्या बढ़ा रही है और न ही आईसीयू की. हमारे प्रयास से आज एम्स में एक मरीज को बेड हासिल हुआ. 25 वर्षीय अविनाश को सत्यम अस्पताल में जगह उपलब्ध हो सकी है. 25 लोगों को हमने आॅक्सीजन रिफील करने की जगह बताई, लेकिन आॅक्सीजन सिलेंडर का घोर अभाव दिख रहा है. आइसा नेता दिव्यम ने कहा कि पटना में फेफड़े से संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, उसी के अनुसार फोन काॅल भी बढ़ रहे हैं, लेकिन बढ़ नहीं रहे हैं तो मेडिकल सुविधायें. पटना में अनुपलब्धता के बाद हमारी टीम मसौढ़ी व अन्य जगहों पर मरीजों को भर्ती होने की सलाह दे रही है, जहां अभी कुछ बेड खाली हैं. कोविड के कारण मौत के शिकार लोगों के अंतिम संस्कार किए जाने के लिए भी लगातार फोन काॅल आ रहे हैं. 102 पर काम करने वाली एंबुलेस सेवा लगभग काम नहीं कर रही है. लोग परेशान हैं. चारों तरफ हाहाकार की स्थिति मची हुई है. मृतकों को घाटों तक पहुंचाने के लिए सरकार ने अभी तक किसी भी प्रकार की व्यवस्था नहीं की है. जिससे कोरोना का संक्रमण और तेजी से फैल रहा है. हमारी हेल्प लाइन टीम के पास ऐसे भी फोन आ रहे हैं, जिसमें मरीज कह रहे हैं कि निजी अस्पताल बीच में ही आॅक्सीजन खत्म होने की घोषणा करके मरीजों को डिस्चार्ज कर दे रहे हैं. कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें अचानक डिस्चार्ज करने से मरीज की मौत तक हो गई है. स्थिति बहुत ही गंभीर हो चुकी है. हेल्प लाइन केंद्र लगातार सक्रिय है. इसमें समता राय, दिव्यम के अलावा नीरज, रवि, मासूम जावेद आदि युवा साथी सक्रिय हैं. वहीं, एनएमसीएच में आइसा नेता रामजी प्रसाद के नेतृत्व में और एम्स में शाश्वत के नेतृत्व में हेल्पलाइन केंद्र लगातार चल रहा है. कोविड हेल्प लाइन सेंटर ने केंद्र व राज्य सरकार से लगातार गंभीर होती जा रही स्थितियों के मद्देनजर बेड, आॅक्सीजन, वेंटिलेटर आदि की व्यापक व्यवस्था करने की मांग करती है.

कोई टिप्पणी नहीं: