दिल्ली के कुछ सरकारी, निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 21 अप्रैल 2021

दिल्ली के कुछ सरकारी, निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई

delhi-hospital-get-oxygen
नयी दिल्ली, 21 अप्रैल, दिल्ली के कुछ बड़े सरकारी और निजी अस्पतालों को बुधवार की सुबह ऑक्सीजन की नयी खेप मिल गयी है। अधिकारियों के मुताबिक, समय रहते ऑक्सीजन की आपूर्ति होने से बड़ा संकट टल गया। गंगाराम अस्पताल को निजी विक्रेताओं से तड़के तीन बजे से पहले 4,500 घन मीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। एक अधिकारी ने बताया कि अस्पताल को बाद में एक अन्य विक्रेता से 6,000 घन मीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। यह भंडार बृहस्पतिवार सुबह नौ बजे तक चलने की संभावना है। अस्पताल में सभी 132 आईसीयू बेड पर मरीज हैं। गैर आईसीयू के 487 बेड में से सिर्फ तीन खाली हैं। गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि एक कंपनी से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक देर रात करीब डेढ़ बजे उनके पास पहुंचा। लोकनायक जयप्रकाश नारायण (एलएनजेपी) अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ सुरेश कुमार ने कहा कि एक विक्रेता से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक तड़के तीन बजे अस्पताल पहुंचा। एलएनजेपी और जीटीबी में 400-400 बेड हैं और सभी पर मरीज हैं। आंबेडकर अस्पताल को सुबह पांच बजे ऑक्सीजन की ताजा आपूर्ति हुई। अधिकारियों का कहना है कि यह आपूर्ति 24 घंटे तक चलेगी। दिल्ली में मंगलवार को कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 28,395 मामले सामने आए और 277 लोगों की मौत के बाद महामारी की भयावह होती स्थिति सामने है। वहीं संक्रमण की दर 32.82 प्रतिशत हो गई और शहर में “ऑक्सीजन का गंभीर संकट” खड़ा हो गया है।


मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ‘‘हाथ जोड़कर” मंगलवार को केंद्र से दिल्ली में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने की अपील की थी और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि अगर बुधवार सुबह तक ऑक्सीजन की नये सिरे से आपूर्ति नहीं की गई तो शहर में हाहाकार मच जाएगा। सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली में अधिकतर अस्पतालों में केवल अगले 8 से 12 घंटे के लिए ही ऑक्सीजन उपलब्ध है। हम एक हफ़्ते से दिल्ली को ऑक्सीजन आपूर्ति बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, जो कि केंद्र सरकार को करना है। अगर कल सुबह तक पर्याप्त मात्रा में अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं पहुंची तो हाहाकार मच जाएगा।’’ उन्होंने ट्विटर पर विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन के भंडार पर नोट भी साझा किया। इस नोट के मुताबिक, लोक नायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल, दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल, बुराड़ी अस्पताल, आंबेडकर अस्पताल, संजय गांधी अस्पताल, बी एल कपूर अस्पताल और मैक्स अस्पताल पटपड़गंज उन अस्पतालों में शामिल हैं जहां केवल आठ से 12 घंटे तक की ऑक्सीजन बची है। दिल्ली के अस्पतालों में आईसीयू बेड तेजी से भर रहे हैं। दिल्ली सरकार के कोरोना ऐप के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी के सरकारी और निजी अस्पतालों में सिर्फ 28 बेड कोरोना वायरस के मरीजों के लिए उपलब्ध हैं। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को रात 10 बजकर 20 मिनट पर आपात संदेश भेजकर बताया था कि जीटीबी अस्पताल में ऑक्सीजन का भंडार चार घंटे से अधिक नहीं चल पायेगा। उन्होंने मंगलवार की रात ट्वीट किया, ‘‘कोरोना वायरस से संक्रमित 500 से अधिक मरीज ऑक्सीजन पर हैं। बड़े संकट को टालने के लिए पीयूष गोयल कृपया ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल करें।’’

कोई टिप्पणी नहीं: