कोरोना से पूरी ताकत के साथ लड़ रहे हैं स्वास्थ्यकर्मी : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 20 अप्रैल 2021

कोरोना से पूरी ताकत के साथ लड़ रहे हैं स्वास्थ्यकर्मी : मोदी

health-worker-fighting-with-covid-modi
नयी दिल्ली 19 अप्रैल, कोरोना महामारी के कहर के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज डाक्टरों के साथ स्थिति से निपटने के बारे में बात की और कहा कि सभी स्वास्थ्यकर्मी पूरी ताकत के साथ महामारी का मुकाबला कर रहे हैं और लाखों लोगों का जीवन बचा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेन्स के माध्यम से देश के विभिन्न हिस्सों में काम कर रहे डाक्टरों के साथ संवाद किया और कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति तथा टीकाकरण प्रक्रिया के बारे में चर्चा की। उन्होंने देश की सेवा में जुटे डाक्टरों , चिकित्सा तथा अर्द्ध चिकित्सा कर्मियों की सराहना की। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष इस समय हमारे डाक्टरों के अथक परिश्रम और देश की रणनीति से हमने कोरोना वायरस पर काबू पाया था। अब देश कोरोना महामारी की दूसरी लहर का सामना कर रहा है और सभी डाक्टर तथा स्वास्थ्यकर्मी आगे बढकर पूरी ताकत से लोगों की जान बचाने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने हाल ही में आवश्यक दवाओं , इंजेक्शनों और आक्सीजन की आपूर्ति के बारे में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये हैं । राज्य सरकारों को भी इस बारे में आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि इस लड़ाई टीकाकरण सबसे बडा हथियार है और डाक्टरों को अधिक से अधिक लोगों को टीका लेने के लिए प्रोत्साहित कर चाहिए। साथ ही डाक्टरों को कोरोना के उपचार से संबंधित अफवाहों के बारे में भी समाज को जागरूक करना चाहिए । उन्होंने कहा कि यह जरूरी है कि लोग अफरा तफरी से बचें इसके लिए रोगियों को सही परामर्श दिया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि डाक्टरों को अन्य रोगों से ग्रसित लोगों को भी टेली मेडिसिन से सलाह देनी चाहिए। श्री मोदी ने कहा कि महामारी टियर 2 और टियर 3 श्रेणी के शहरों में भी तेजी से फैल रही है और इन शहरों में संसाधनों को बढाये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि डाक्टरों को इन शहरों के डाक्टरों को भी ऑनलाइन सलाह देनी चाहिए। डाक्टरों ने भी इस मौके पर अपनी ओर से स्थिति से संबंधित सुझाव दिये और उपचार तथा स्वास्थ्य ढांचागत सुविधाओं के बारे में चर्चा की। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री और विभिन्न मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

कोई टिप्पणी नहीं: