झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 10 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 11 अप्रैल 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 10 अप्रैल

टेस्ट नही फिर भी रिपोर्ट पोजेटिव आ गई, थांदला में कोविड आरटीपीसीआर किट को लेकर भ्रष्टाचार की आशंका


jhabua news
थांदला। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थांदला में चल रही कोविड 19 की जाँच सन्देह के घेरे में है। विगत 1 अप्रेल 2020 को उक्त केंद्र पर अपनी जाँच करवाने मित्र वासुदेव नागर के साथ पहुँचे स्थानीय निवासी सतीश लालशंकर उपाध्याय (51 वर्ष)  का कहना है कि उन्हें निजी कारणों से बाहर जाना है इसलिए कोविड कि जाँच करवा कर साथ ले जाना चाहते है, लेकिन जब उन्हें पता चला कि कोविड टेस्ट रिपोर्ट आने में 3 से 5 दिन तक लग सकते है तो उन्होंने अपनी जाँच का विचार त्याग दिया व बिना जाँच करवाये ही निकल गए। ऐसे में उन्हें उक्त केंद्र से 9 दिन बाद फोन आता है कि आप कोरोना पोजेटिव है 10 दिन होम आइसोलेशन में रहे। उक्त खबर सुनकर सतीश को काफी हैरानी हुई। जबकि 7 अप्रेल को उन्होंने अपनी पत्नी के साथ इसी केंद्र पर कोविड का वैक्सीन भी लगवाया था तब भी किसी ने भी उन्हें यह बात नही बताई। उन्होंने अन्य जन के साथ इस तरह की लापरवाही न हो इस उद्देश्य से सबसे पहले उक्त केंद्र के बीएमओ को बताई लेकिन जब वे भी इस बात को स्वीकार नही करते हुए संतोषप्रद जवाब देने में असमर्थ रहे तो स्थानीय मीडिया को बताया। मीडिया ने इसे केंद्र की घोर लापरवाही मानते हुए सम्बन्धित अधिकारी व एसडीएम से चर्चा की। आपको बता दे कि जब सतीश उपाध्याय ने कोविड के सेम्पल ही नही दिए तो उनकी रिपोर्ट पोजेटिव कैसे आई वह भी 9 दिन बाद जब तक तो होम आइसोलेशन की अवधि ही लगभग समाप्त हो जाती है। वही उनके साथ उस दिन जाँच करवाने वालो को 5 अप्रेल को ही मैसेज द्वारा सूचना प्राप्त हो जाती है जबकि इनके पास महज फोन द्वारा ही सूचना मिलती है। इनकी आरटीपीसीआर टेस्ट किट का क्या हुआ इन्हें रिपोर्ट कॉपी भी क्यो उपलब्ध नही करवाई गई। इन सब सवालों से उक्त केंद्र पर कोविड किट को लेकर बड़ा भ्रष्टाचार होने की आशंका लगती है। यदि ऐसे ही अनेक लोगों को बिना जाँच के ही रिपोर्ट पोजेटिव अथवा नेगेटिव बताई जा रही है तो उक्त किट को ये आर्थिक लाभ कमाने के लिए अन्य लेब वालों को भी बेच सकते है। स्थानीय पत्रकारों ने भी उक्त सतीश की बात को गम्भीरता से लेते हुए एसडीएम से जाँच की मांग की है। वही जिला सीएमएचओ को भी दूरभाष से सम्पर्क करना चाहा लेकिन उन्होंने फोन उठाने तक नही उठाया।


जिम्मेदार बोलें

उन्होंने फार्म भरवा दिया होगा जिससे हो सकता है उनके पास मैसेज चला गया हो। लेकिन जब उन्होंने कोविड की जाँच ही नही करवाई तो फिर उन्हें कोई कॉल कैसे गया। यह मामला संगीन है और घोर लापरवाही का है। में पूरा मामला दिखवाने के बाद ही कुछ कह पाऊंगा : जयपाल सिंह ठाकुर (सीएमएचओ - झाबुआ)


लॉक लगते ही सारे शहर में छा गई वीरानी, प्रशासन ने सब्जी व्यवसायियों को भी हटाया

एसडीएम, एसडीओपी, तहसीलदार थाना प्रभारी ने बन्द कराया बाजार

थांदला। शासन के निर्देशों के परिपालन में प्रातः 11 बजे शांति समिति की बैठक के बाद शाम 4 बजे लॉक डाउन का एनाउंसमेंट करवाया गया उसके बाद शाम 5 बजे से ही एसडीओपी एम एस गवली ने पूरे नगर में सभी व्यापारी वर्ग को 6 बजे अपना व्यापार बन्द करने के स्प्ष्ट निर्देश दिये अन्यथा 5 हजार के दण्ड के प्रावधान की बात कही। एसडीएम ज्योति परस्ते, तहसीलदार एस एस चैहान, नायब ललिता गडरिया, थाना प्रभारी अनिल बामनिया आदि प्रशासनिक अमला पूरे नगर में हर गलियों में 6 बजे से घूमता दिखाई दिया जिसका असर रात 7 बजे देखने को मिला जब इक्के दुक्के दुकानदारों व कुछ अड़ियल लोगों को छोड़ दिया जाए तो सारा बाजार पूरी तरह से बंद दिखाई दिया।   पूरे नगर के अतिव्यस्ततम मार्ग स्थानीय आजाद चैक, पिपली चैराहा, कुम्हार वाड़ा,  आदि सभी पूरी तरह बंद दिखाई दिए और चारों तरफ लॉक डाउन का व्यापक असर देखने को मिला व वीरानी सी छा गई। आपको बता दे यह लॉक डाउन अब सोमवार प्रातः 6 बजे ही खुलेगा। इस दौरान दवाई व अन्य आवश्यक सेवाओं को इससे दूर रखा गया है हालांकि इस दौरान किराना व्यापार भी बंद ही रहेगा।


प्रशासन ने सब्जी व्यवसायियो की भी नही लगने दी दुकानें

लॉक डाउन में शासन ने अनेक तरह की छूट प्रदान की थी बावजुद इसके निम्न व मध्यम वर्गीय दैनिक सब्जी व फल विक्रेताओं पर प्रशासन की सख्ती देखने को मिली। स्थानीय प्रशासन ने लॉक डाउन से मुक्त सब्जी व्यवसायियो को भी हटाकर सख्ती दिखाई। उनकी सख्ती से कुछ व्यापारियों ने तो दुकान ही नही लगाई वही कुछ व्यापारी इसका चाह कर भी विरोध नही कर सके।


मप्र के मुख्यमंत्री श्री चैहान ने एक बार फिर वीडियांे कांफ्रेसिंग के माध्यम से प्रदेष के 52 जिलांे के सामाजिक-व्यापारिक प्रतिनिधियांे से की चर्चा, झाबुआ से नीरजसिंह राठौर, मनोज अरोरा एवं मनोज बाबेल ने की सहभागिता


jhabua news
झाबुआ। 10 अप्रेल, शनिवार को मप्र की राजधानी भोपाल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने कहा कि प्रदेश वासियों को स्वास्थ्य की सर्वोत्तम सेवाएं देने के लिए प्रदेश सरकार कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि मप्र के प्रत्येक जिले में दवाइयों की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने एक बार फिर 52 जिलों के सामाजिक, व्यापारिक एवं अन्य प्रतिनिधियांे से कोरोना वायरस रोकने संबंधित किए जा उपायों पर चर्चा की। इस दौरान झाबुआ जिले से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भाग लेते हुए सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चैहान को अवगत करवाया कि झाबुआ में सभी लोग कोरोना से लड़ाई में सरकार एवं प्रशासन का भरपूर सहयोग कर रहे है, लेकिन कोरोनाकाल में लॉकडाउन के दौरान होने वाली शादियों पर प्रतिबंध लग गया है इससे असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इस हेतु मांग की कि लॉकडाउन के दौरान होने वाली शादियों के लिए कम से कम 50 लोगों की अनुमति देकर लोगों को राहत पहुंचाई जाए, क्योंकि शहरी इलाकों में शादियों की तैयारियां आयोजकों ने कर ली है और अब सरकार की ओर से लॉकडाउन भी लगा दिया है। ऐसे में शादियों का आयोजन करने या ना करने को लेकर असमंजस की स्थिति निर्मित हो गई है। प्राइवेट सेक्टर एवं अन्य जगह में काम करने वाले लोगों के लिए भोजन पार्सल एवं होम डिलीवरी की अनुमति भी देने की मांग मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गई।


सामाजिक लोगों ने तैयार किया ब्लू प्रिंट

सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष श्री राठौर ने बताया कि कोरोना जन-जागृति के लिए झाबुआ में सामाजिक स्तर एवं प्रशासनिक स्तर पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। इस बात से भी मुख्यमंत्री श्री सिंह को अवगत करवाया। प्रदेश की अर्थव्यवस्था के लिए झाबुआ के सामाजिक लोगों ने एक ब्लू प्रिंट तैयार किया है, जो मुख्यमंत्री के आदेश के बाद उसे भोपाल में अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा। आत्मनिर्भर मप्र बनाने के लिए अर्थव्यवस्था को मजबूत किए जाने पर भी नीरजसिंह राठौर ने बल दिया।


झाबुआ शहर मंे स्थानीय निकाय के माध्यम से फिर से सेनेटाईज का हो कार्य

इस अवसर पर रोटरी क्लब ‘मेन’ झाबुआ के अध्यक्ष मनोज अरोरा ने जिले में सरकारी चिकित्सालयों मंे सिटी स्केन मशीन प्रदान करने की भी मांग की। श्री अरोरा ने झाबुआ शहर में पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी स्थानीय निकाय की ओर से सेनेटाईज करवाने की मांग रखी। साथ ही जिला चिकित्सालय में रेमडेसीविर इंजेक्शन उपलब्ध करवाने की भी मांग की। जिससे आम आदमी को कोरोनाकाल में आने वाली परेशानियों से बचाया जा सके। वीडिया कांफ्रेसिंग में अपर कलेक्टर जुवानसिंह बघेल, जिला केमिस्ट एसोसिएशन अध्यक्ष मनोज बाबेल एवं सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु त्रिवेदी आदि भी उपस्थित थे


जंगल में कड़ी धूप में तड़पते असहाय बुजुर्ग को पहुंचाया सामुदायिक स्वास्थ केंद्र

  • राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग तथा पुलिस प्रशासन ने मानवता की मिसाल की पेष

jhabua news
झाबुआ। पिछले 3 दिनों से सेमलिया से 2 किलोमीटर दूर रोकडिया हनुमान मार्ग पर जंगल में तेज धूप में बिलख रहे एक असहाय बुजुर्गख् जो एक गड्ढे में गिरा हुआ था। जिसको ग्रामीणों ने खाना और पानी की व्यवस्था तो की, लेकिन वह खाना खाने एवं पानी पीने में असमर्थ था। जिसको देख मुकेश बर्फा सेमलिया ने राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट (जैन) को उक्त जानकारी देते हुए बताया कि उक्त बुजुर्ग मुख से बोलने में भी असमर्थ ह।ै वह कुछ भी नाम पते बता नहीं पा रहा है। जिसके बाद श्री कुमट ने झकनावदा चैकी प्रभारी जीएस मावी एवं एएसआई बीएस बिलोरे से इस विषय पर चर्चा की। साथ ही पेटलावद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर एमएल चोपड़ा से उक्त अज्ञात बुजुर्ग की हालत के बारे में अवगत करवाया। जिसके बाद 108 डायल कर वाहन बुलवाया एवं सेमलिया ले जाया गया। वहां सूचना देने वाले मुकेश बर्फा को बुलवाकर उक्त बुजुर्ग जहां गड्ढे में लेटे थे, वहां पहुंचे।


पूरी टीम पहुंची मौके पर

वहां पहुंचकर मनीष कुमट (जैन), एएसआई बीएस बिलौरे, गोपाल विश्वकर्मा, योगेश पंवार, आईएमटी कैलाश अहिरवाल, पायलट सुरेंद्रकुमार आदि ने उक्त बुजुर्ग को गड्ढे से बाहर निकाला तो देखा कि वह बोलने में तो सक्षम था, लेकिन शरीर से पूरा लाचार होने के कारण कुछ बोल नहीं पा रहा था। जिसके बाद बुजुर्ग को पानी पिलाया।


पेटलावद स्वास्थ्य केंद्र पर करवाया उपचार

तत्पश्चात उपस्थित ग्रामीण कुंवर राज बहादुरसिंह राठौर, मुकेश बर्फा, दिनेश लछेटा, भेरूलाल कोटवाल, गोपाल बर्फा, राहुल मारु, बंटी लाल बर्फा, मांगीलाल चैधरी आदि की मदद से 108 में बैठा कर झकनावदा पदस्थ आरक्षक जितेंद्र के साथ पेटलावद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इलाज हेतु भेजा गया, जहां उपचार बाद उन्हें भर्ती किया गया।


युवा आचार्य पं. जैमिनी शुक्ल बता रहे कोरोना महामारी से बचाव के आध्यात्मिक एवं आयुर्वेदिक नुस्खे, दुर्गा सप्तषती का करे नियमित पाठ, नियमित योग के साथ नीम का पत्तियांे का सेवन बढ़ाएगा इम्यूनिटी पाॅवर, पढ़े पूरी खबर ... !


झाबुआ। भारत सहित संपूर्ण विष्व में एक बार फिर कोरोना महामारी का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। जिस से बचाव के उपाय शासन-प्रशासन स्तर पर तो किए जा रहे है। साथ ही कुछ ऐसा भी है जो हमारे शास्त्रों में बताया गया है। जिसके अंतर्गत आगामी 13 अप्रेनल से चैत्र नवरात्रि प्रारंभ होने जा रही है। जानकारी देते हुए श्री सत्यनारायण मंदिर (ज्योतिष कार्यालय,) राजवाड़ा झाबुआ के युवा आचार्य प. जैमिनी शुक्ल ने बताया कि सभी जिलेवासी इस महामारी से बचने के प्रयास में अपने घर पर भगवान के सामने बैठकर घी का दीपक जलाकर घी, गूगल, कपूर आदि से युक्त धूप सुबह-शाम अपने घर में देवे और माताजी के सामने बैठकर इस महामारी से बचने के लिए ‘‘श्री दुर्गा सप्तशती’’ का पाठ नित्य करे। दुर्गा सप्तशती के पाठ में जो श्लोक दिए गए हैं ’‘सर्वा बाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय’’। इस मंत्र की अथवा ’‘शूलेन पाहि नो देहि पाहि खड्गेन चाम्बिके, घंटास्वनें नः पाहि चापज्यांनी स्वनेंन च‘‘ की कम से कम 1 माला प्रतिदिन करे। दुर्गा सप्तशती में कवच अर्गला किलक देवी सूक्त आदि सूक्तों का पाठ करे। इनमे इतनी शक्ति है कि वह हमें किसी भी प्रकार की महामारी से बचाने में सक्षम है।


नियमित योग करने से बढ़ेगी शरीर की इम्यूनिटी, करे नीम की पत्तियों का सेवन

इसी कड़ी के अंतर्गत पाठ के साथ धूप एवं नित्य सुबह उठकर योग का अभ्यास करे। अनुलोम विलोम करे, जिससे हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़़गीे और हम किसी भी प्रकार की बिमारी से ग्रस्त ना होंगे। आयुर्वेद के अनुसार चैत्र महीने में नीम की पत्तियों का शरबत पीने से या नीम की पत्तियों कों कोरा चबाने से भी हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जिससे वर्ष पर्यंत हम बीमारियों से दूर रहे सकते है। चैत्र नवरात्रि गुड़ी पड़वा से शुरू करके कम से कम 10 दिनों तक नित्य नीम की पत्तियों का सेवन किया जाए, अथवा उनका शरबत बना कर भी पी सकते हैै। अधिक जानकारी के लिए आचार्य पं. श्री शुक्ल के मोबाईल नंबर पर 94259-64691 पर भी संपर्क किया जा सकता है।


सिंधी भाषा दिवस पर सिंधी समाज झाबुआ ने कंेद्र सरकार से इसे राष्ट्र भाषा का दर्जा देने की मांग की, आगामी चेटीचंद पर्व सादगीपूर्ण तरीके से मनाया जाएगा


झाबुआ। 10 अप्रेल सिंधी भाषा दिवस पर सिंधी समाज झाबुआ ने भारत के समाज के सभी लोगों को शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए इस महान भाषा, जिसे सिंधी समाज में मीठी भाषा कहा जाता है। इस भाषा को कंेद्र सरकार से राष्ट्र भाषा का दर्जा देने अर्थात राष्ट्र भाषा मंे सम्मिलित करने की मांग की है। सिंधी समाज के वरिष्ठ हरि सावलानी, श्याम सावलानी, शंकर गोलानी, सुभाष गिधवानी, महादेव गोलानी, किषोर चावला, राकेष वतनानी आदि ने बताया कि सिंधी भाषा देष का गौरव है। वर्तमान मे ंभारत में सिंधी समाज के करोड़ो लोग निवासरत है। यह भाषा प्रायः बोली में मीठी  होकर हर किसी को प्रिय लगती है। सिंधी भाषा का वर्चस्व बना रहे और यह भाषा समाज के प्रत्येक घर मंे बोली जाए, ऐसा आव्हान सिंधी समाज झाबुआ की ओर से किया गया। साथ ही केंद्र सरकार से मांग की गई है कि इसे राष्ट्र भाषा का दर्जा देकर समाज के गौरव में अभिवृद्धि की जाए।


सादगीपूर्ण तरीके से मनाया जाएगा चेटीचंद पर्व

समाज की महिलाआंे में श्रीमती गायत्री सावलानी, लक्ष्मी गोलानी, कविता सावलानी, रूक्मणी गोलानी, मोहीनी गिधवानी, रीना चावला, मोहीनी गिधवानी, कविता गोलानी, श्रीमती आहूता ने बताया कि आगामी दिनों में सिंधी समाज का प्रमुख त्यौहार चेटींचद भी आ रहा है। इस वर्ष कोरोनाकाल में समाजजनों द्वारा यह त्यौहार सादगीपूर्ण तरीके से एवं शासन-प्रषासन के कोविड के नियमांे का पालन करते हुए मनाया जाएगा। सिंधी भाषा दिवस की भारत सहित संपूर्ण विष्व मंे निवासरत समाजजनों को सिंधी समाज झाबुआ के सुरेष सावलानी, श्रीचंद गोलानी, अषोक सावलानी, मोहन गोलानी, जवारहभाई गुरनानी, लोकेष सावलानी, मनोज गुरनानी, हेमेन्द्र गोलानी, हिमांषु गोलानी, नरेन्द्र गोलानी, सुरेष वतानी, दौलत गोलानी, पंकज गोलानी, दीपक गोलानी, भूमिका, दुर्गा, जिया, मनीषा, विद्या गोालानी, गुंजन सावलानी आदि ने शुभकामनाएं प्रेषित की है।


नगरीय क्षेत्रों में प्रति शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक ही लाॅक डाउन रहेगा नगरीय क्षेत्रों में प्रतिदिन रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे का रात्रिकालीन लाॅक डाउन रहेगा


झाबुआ, । जिला दण्डाधिकारी ने अवगत कराया कि कोविड-19 महामारी के रोकथाम एवं बचाव के लिए 8 अपै्रल को जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार ही जिले में नगरीय क्षेत्रों में प्रतिदिन रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे का रात्रिकालीन लाॅकडाउन रहेगा। नगरीय क्षेत्रों में शुक्रवार सायं 6 बजे से सोमवार प्रातः 6 बजे तक लाॅकडाउन प्रभावी रहेगा। जिला दण्डाधिकारी ने जिले के नागरिकों से अपील की है  िक वे अफवाहों से सावधान रहे। अफवाहों पर ध्यान न दें। यदि कोई अफवाह फैलाएगा तो प्रशासन उनके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही करेगा।


जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों को सेनेटाइज करने का कार्य युद्ध स्तर पर जारी


jhabua news
झाबुआ। प्रभारी कलेक्टर श्री सिद्धार्थ जैन के निर्देशानुसार जिले के नगरी क्षेत्रों में कोरोना वायरस के संक्रमण के बचाव एवं रोकथाम के लिए टीमों का गठन कर विभिन्न वार्डों में ट्रैक्टरों द्वारा सैनिटाइजर का छिड़काव का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। झाबुआ, राणापुर, मेघनगर, थांदला, पेटलावद में मुख्य नगर पालिका अधिकारियों के मार्गदर्शन में अपने-अपने क्षेत्र को सेनेटाइज किया जा रहा है। साथ ही इन नगरीय क्षेत्रों में सफाई व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है। परियोजना अधिकारी श्री एल.एस.डोडिया ने अवगत कराया कि झाबुआ में वार्ड नंबर 12, वार्ड नंबर 9 में कुरैशी कंपाउंड, वार्ड नंबर 18 सिद्धेश्वर कॉलोनी वार्ड के नंबर 4 5 6 7 8 में ट्रैक्टर एवं गलियों में सफाई मित्रों द्वारा सेनेटाइज किया गया है। दो दिवसीय लॉकडाउन के प्रथम दिवस में नगर पालिका कोरोना योद्धाओं द्वारा पूरे शहर को सेनेटाइज किया जा रहा है। सेनेटाइज के लिए स्वच्छता प्रभारी श्री कमलेश जायसवाल, स्वच्छता दरोगा टोनी द्वारा अपने पर्यवेक्षण में 3 दलों का गठन कर पूरे शहर को सैनेटाइज किया जा रहा है। जिसमें 20 कर्मचारियों का एक दल द्वारा विभिन्न वार्डों की गलियों को कवर किया जा रहा है। साथ ही दो ट्रैक्टर मशीनों का भी छिड़काव के लिए उपयोग किया जा रहा है। रविवार को भी सैनेटाइज करने का कार्य सतत जारी रहेगा।


कोविड-19 टीकाकरण महोत्सव, 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक मनाया जाएगा

  

झाबुआ। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान के आव्हान पर 11 से 14 अप्रैल तक कोविड-19 टीकाकरण महोत्सव मनाया जा रहा है। प्रभारी कलेक्टर श्री सिद्धार्थ जैन ने अवगत कराया कि जिले को प्रतिदिन 5500 व्यक्तियों को टीके लगाने का लक्ष्य दिया गया है। कोविड सत्रों का आयोजन जिला अस्पताल, सिविल अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, चिन्हित हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर, सी एच ओ पदस्थ उप स्वास्थ्य केंद्र पर सूची अनुसार किया जावेगा। श्री जैन ने निर्देश दिए हैं कि समस्त अधिकारीगण पूर्व की भांति पूरी निष्ठा व कर्तव्य परायणता से नियमित रूप से उक्त अवधि जिसमें 11 अप्रैल रविवार को भी अपनी-अपनी फील्ड में रहकर लक्ष्य प्राप्त करे।ं साथ में अन्य नवीन स्थानों के लिए भी नोडल मानीटरिंग दल का गठन प्रक्रिया में है जिसके संबंध में शीघ्र अवगत कराया जावेगा। श्री जैन ने जिले के समस्त अनुविभागीय अधिकारियों राजस्व को निर्देश दिए हैं कि वह अपने-अपने अनुभाग क्षेत्र में शत-प्रतिशत सफलता अभियान  दिवसों 11 से 14 अप्रैल की अवधि में अनिवार्य रूप से प्राप्त करवाना सुनिश्चित करें

कोई टिप्पणी नहीं: