बिहार : कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर नीतीश ले सकते हैं सख्त निर्णय - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 15 अप्रैल 2021

बिहार : कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर नीतीश ले सकते हैं सख्त निर्णय

nitish-may-take-tough-decision
पटना : बिहार में कोरोना के दूसरे लहर का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। बिहार को कोई ऐसा क्षेत्र नहीं बचा है जहां कोरोना का संक्रमण न हो। बिहार में पिछले कुछ दिनों में कोरोना से संक्रमित रोग की मृत्यु दर भी तेजी से बढ़ा है। वहीं इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना वैक्शिन का दूसरा डोज लेने के बाद बिहार में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए बड़ा फैसला लेने का संकेत दिया है। आईजीआईएमएस में कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि ’17 अप्रैल को राज्यपाल की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक बुलाई गई है। उन्होंने कहा कि इस बैठक के बाद सभी लोगों द्वारा जो सुझाव दिए जाएंगे और हालातों को देखते हुए यह निर्णय लिया जाएगा की लॉकडाउन लगाया जाए या नहीं। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी हम लोग एक – एक चीज पर नजर गड़ाए हुए हैं। बिहार में बढ़ते प्रोकोप को देखते हुए हमारे पदाधिकारी भी लगातार बाहर से आने वाले लोगों पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा जो भी लोग बाहर से बिहार आना चाहते हैं जल्द से जल्द बिहार आ जाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना के रोकथाम के लिए बस हमलोगों को जागरूक रहने की जरूरत है । उन्होंने की बिना किसी जरूरी काम के घर से बाहर नहीं निकलें , मास्क और सेनीटाइजर का भी उपयोग करें। साथ ही साथ शक होने पर जांच भी करवाएं। जानकारी हो कि 30 अप्रैल तक बिहार सरकार ने कोरोना से बचाव को लेकर कई पाबंदियां पहले से ही लगा रखी हैं। लेकिन स्कूलों को बंद रखे जाने का फैसला 18 अप्रैल तक ही है। सूत्र बता रहे हैं कि जिस तरह से बिहार में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं उसको लेकर राज्यपाल फागू चौहान की अध्यक्षता वाली बैठक में कड़ा फैसला भी लिया जा सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं: