राजनीति से प्रेरित पत्र लिखना दुर्भाग्यपूर्ण : गहलोत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 19 अप्रैल 2021

राजनीति से प्रेरित पत्र लिखना दुर्भाग्यपूर्ण : गहलोत

political-letter-disappounting-gahlot
जयपुर 19 अप्रैल, राजस्थान के मुख्यमन्त्री अशोक गहलोत ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन के पूर्व प्रधानमंत्री डा मनमोहन सिंह को लिखे पत्र को दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय बताते हुए कहा है कि कोई भी व्यक्ति या राजनीतिक पार्टी केन्द्र सरकार को सुझाव देता है तो वह इसे आलोचना समझकर बर्दाश्त नहीं कर पाती। श्री गहलोत ने सोशल मीडिया के जरिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन के पूर्व प्रधानमंत्री डा मनमोहन सिंह को लिखे पत्र पर आज यह बात कही। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री द्वारा राजनीति से प्रेरित होकर जिस तरह डा मनमोहन सिंह को पत्र लिखा है वह दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय है। उन्होने कहा कि कोई भी व्यक्ति या राजनीतिक पार्टी केन्द्र सरकार को सुझाव देता है तो वे इसे आलोचना समझकर बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं।ऐसा लगता है कि ये जानते हैं कि इनसे गलतियां हुईं हैं और अपराध बोध से ग्रसित हैं। उन्होंने कहा कि डा. मनमोहन सिंह ने जनहित में सरकार को वैक्सीन को लेकर सकारात्मक सुझाव देते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। इसमें सरकार की कोई आलोचना नहीं थी। उल्लेखनीय है कि डा सिंह ने कोरोना प्रबंधन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। इसके बाद डा हर्षवर्धन ने डा सिंह को पत्र लिखकर कहा था कि डा मनमोहन सिंह का पत्र तैयार करने वाले लोगों ने उनकी साख को नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने आरोप लगाया कि वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के लिए कांग्रेस शासित राज्य जिम्मेदार हैं जो लोगों के टीकाकरण के बजाय टीकों पर कथित संदेह जताने में व्यस्त थे।

कोई टिप्पणी नहीं: