सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 17 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 अप्रैल

श्यामपुर के पास ऑक्सीजन से भरा टैंकर पलटा, कोई जन हानि नहीं


sehore news
दिल्ली से गोविंदपुरा इंडस्ट्रीयल भोपाल जाते समय ऑक्सीजन टैंकर सीहोर जिले के श्यामपुर के पास हाईवे पर पलट गया। इसमें लगभग 40 टन ऑक्सीजन थी। सूचना मिलते ही कलेक्टर श्री अजय गुप्ता एवं एस पी एस एस चौहान घटनास्थल पर पहुंचे और रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया। 8 क्रेनों  की मदद से इसे सीधा किया गया। अच्छी बात यह है कि इस टैंकर से ऑक्सीजन लीक नहीं हुई  और कोई भी जनहानि नहीं हुई।

कोरोना की लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं ग्राम कोटवार


sehore news
ग्राम कोटवार ग्रामवासियों और प्रशासन के बीच की पहली और बुनियादी कड़ी है। राजस्व संबंधी कार्यों एवं विशेष अवसरों पर विशेष पुलिस की भूमिका निभाने के साथ ही सरकारी सूचनाओं को ग्रामवासियों तक पहुंचाने का महत्वपूर्ण कार्य कोटवारों द्वारा ही किया जाता है। जरूत पड़ने पर शहरों में भी कानून व्यवस्था में योगदान दिया जाता है। छोटे से बड़े, कोई भी प्रशासनिक अधिकारी हों या किसी भी संस्थान के प्रमुख हो, गांव पहुंचने पर सबसे पहले ग्राम कोटवार ही स्वागत के लिये आयेगा और ग्रामवासियों को आने का कारण बताएगा।  वर्तमान समय में अन्य विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ ही साथ ग्राम कोटवार भी कोरोना महामारी से लड़ने में अपना योगदान दे रहे हैं। ग्राम कोटवार वर्तमान में कारोना कर्फ्यू, धारा 144 के तहत किये लगाये जाने वाले प्रतिबंधों की जानकारी ग्रामवासियों के देने के साथ ही कोरोना के प्रति लोगों को जागरूक करने में महती भूमिका निभा रहे हैं। कोटवार स्तर पर सतत मास्क लगाने और शोसल डिस्टेंसिंग का पालन करने और बिना वजह घर से बाहर नहीं निकलने की अपील की जा रही है।  इसके साथ में अनेक संस्थाओं द्वारा कोरोना को लेकर चलाये जा रहे जन जागरूकता अभियानों में भी सक्रिय योगदान दिया जा रहा है। बुधनी तहसील के ग्राम ग्वाड़िया के ग्राम कोटवार दिलीप कुमार रोज ग्रामवासियों को कोरोना महामारी के बारे में आगाह करते हुए घर पर रहने, बिना मास्क, बिना काम घर से नहीं निकलने के लिए कहते हैं। वे कोरोना कर्फ्यू के बारे में लोगों बता रहे हैं और जागरूक कर रहे हैं। दिलीप कुमार कहते हैं कि ये मेरी डयूटी तो है ही लेकिन मैं इसे सेवा मानकर अपना कर्तव्य निभा रहा हूं। जिले के सभी ग्राम कोटवार द्वारा कोरोना की जंग में सक्रिय योगदान दिया जा रहा है।

आजीविका समूह की महिलाओं द्वारा किया जा रहा है जागरुक, कोरोना संक्रमण से बचाव एवं मास्क लगाने की दी जा रही जानकारी  


sehore news
मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन  इछावर द्वारा कोविड-19 से सुरक्षा के लिए निरंतर गतिविधियां संचालित की जा रही है जिससे कि कोरोना से सुरक्षा हेतु ग्रामीण एवं शहरी समुदाय जागरूक हो सके। इसी श्रंखला में कोरोना कर्फ्यू के दौरान ग्राम भाऊखेड़ी से ग्राम संगठन की दीदियों द्वारा रोको-टोको अभियान के तहत विभिन्न स्थानों पर पहुंचकर ग्रामीणों  से मास्क लगाने एवं सोशल डिस्टेंसिंग बनाने की अपील की जा रही है। दीदियों द्वारा वाहनों को रोककर राहगीरों को मास्क लगाने का महत्व समझाते हुए उन्हें मास्क लगाने की सलाह दी जा रही है। ब्लॉक प्रबन्धक धर्मेंद्र उपाध्याय ने बताया कि अब इन आजीविका समूह की दीदियों द्वारा पुनः मास्क निर्माण का कार्य भी शुरू किया जा रहा है।

कोरोना संक्रमण को रोकने वॉलेंटियर भी दे रहे हैं अपना योगदान

इसी प्रकार जन अभियान परिषद द्वारा वालेंटियर भी योगदान दे रहे हैं। वालेंटियर अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जनजागरुकता अभियान चला रहे हैं इसके साथ ही कोविड टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित कर रहे हैं और टीकाकरण केन्द्र पहुंचाने में मदद भी कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि जिले में 2980 वॉलिंटियर द्वारा पंजीयन कराया गया है, यह सभी वॉलिंटियर जन अभियान परिषद के मार्गदर्शन में अपने अपने स्तर पर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं।


उचित मूल्य दुकान के विक्रेताओं को कोरोना से बचाव के लिये मास्क एवं सेनीटाइजर उपलब्ध कराने के निर्देश


खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के प्रमुख सचिव ने उचित मूल्य दुकान के विक्रेताओं को कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा के लिये सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के माध्यम से निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र से दो बॉटल सेनीटाइजर, दो मास्क एवं दो जोड़ी सर्जिकल मास्ट उपलब्ध कराने के लिये कहा है। साथ ही सभी विक्रेताओं में यदि कोरोना के प्रारम्भिक लक्षण पाये जाते हैं तो प्राथमिकता के आधार पर उनका परीक्षण कर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये।  


यह लॉकडाउन नहीं, कोरोना कर्फ्यू है, ऐसी व्यवस्था करें जिससे लोगों का काम-धंधा, रोज़ी-रोटी चलती रहे-मुख्यमंत्री श्री चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में लॉकडाउन नहीं कोरोना कर्फ्यू है। ऐसी व्यवस्था करें, जिससे लोगों का काम-धंधा व रोज़ी-रोटी चलती रहे। गाँवों में पंचायतें एवं शहरों में रहवासी संघ, मोहल्ला समितियाँ स्वयं कन्टेनमेंट क्षेत्र बनाएँ। अनावश्यक रूप से लोग घर से बाहर न निकलें। एक-दो व्यक्ति बाहर जाकर सभी के लिए आवश्यकता की वस्तुएँ ले आएँ। स्व-प्रेरणा से इस प्रकार का संयम रखकर हम शीघ्र कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण कर सकते हैं। जन-जागरण से ही संक्रमण की चेन टूटेगी। मंत्रीगण अपने-अपने प्रभार के जिले में इस कार्य में जी-जान लगा दें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जिलों में कोरोना के इलाज के लिए पर्याप्त बिस्तर, ऑक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन, दवाओं आदि की व्यवस्था है। कोरोना संबंधी व्यवस्थाओं में पैसे की कमी नहीं आने दी जाएगी। आस्पतालों में हो अच्छा प्रबंधन- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि सभी जिलों में आस्पतालों में अच्छे से अच्छा प्रबंधन हो। बड़े अस्पतालों में लिक्विड ऑक्सीजन संयंत्र तथा एयर सेपरेशन यूनिट की व्यवस्था और हर जिले में सीटी स्केन मशीन की व्यवस्था भी की जा रही है। सेवानिवृत्ति की अवधि बढ़ाएँ- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि चिकित्सकों, पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवानिवृत्ति अवधि बढ़ाएँ, जो सेवानिवृत्त हो गए हैं यदि वे चाहें तो उन्हें संविदा पर रखा जाए। सभी अस्पतालों में स्टाफ की पर्याप्त व्यवस्था हो। प्रधानमंत्री की 4 बातें याद रखें- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना नियंत्रण के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की चार बातें "ईच वन वैक्सीनेट वन" (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति को टीका लगवाने में मदद करे), "ईच वन ट्रीट वन" (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति का इलाज करवाने में मदद करे), "ईच वन सेव वन" (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति को मास्क लगवाए और उसे कोरोना से सुरक्षित करे) तथा कोरोना संक्रमण रोकने के लिए "स्व-प्रेरणा से माइक्रो कन्टेनमेंट जोन" बनाएँ। सामान्य सर्दी, जुकाम, बुखार के लिए भी दवाओं की किट दें- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में सामान्य सर्दी जुखाम बुखार आदि के लिए भी दवाओं की किट देने की व्यवस्था की जाए। इंदौर एवं भोपाल में सर्वाधिक प्रकरण- जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर में  1552 और भोपाल में 1456 नए प्रकरण आए हैं। ग्वालियर में 576, जबलपुर में 552, उज्जैन में 317, बड़वानी में 237, शाजापुर में 193, सागर में 188, बैतूल में 173, झाबुआ में 173, रीवा में 166, विदिशा में 156, कटनी में 155, राजगढ़ में 149, नरसिंहपुर में 141 और रतलाम में 130 नए प्रकरण आए हैं। ज़रूरी हो तब ही रेमडेसिविर दिया जाए-अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य श्री सुलेमान ने कहा कि मरीजों को डॉक्टर की सलाह अनुसार ज़रूरी हो तब ही रेमडेसिविर इंजेक्शन दिया जाए। कम संक्रमण में डॉक्टर की सलाह अनुसार टेमी फ्लू या अन्य दवा दी जा सकती है। 1075 कॉल सेंटर को प्रभावी बनाएँ-हर जिले में 1075 कॉल सेंटर को प्रभावी बनाया जाए। सेंटर पर जिले में बिस्तरों आदि की व्यवस्था की अद्यतन जानकारी हो। यह कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का नंबर है, जिसके माध्यम से होम आइसोलेशन की मॉनिटरिंग की जाती है। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की भी अच्छी देखभाल सुनिश्चित किए जाने के निर्देश मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिए।   


कोरोना वायरस से निपटने में खर्च हो सकेगी विधान सभा, निर्वाचन क्षेत्र विकास योजना की राशि, विधायकों की अनुसंशा होगी जरूरी, निर्देश जारी


कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिये अब विधायकों की सिफारिश पर निर्वाचन क्षेत्र विकास योजना की राशि का उपयोग कोरोना वायरस से निपटने के लिये जरूरी चिकित्सकीय उपकरणों की खरीदी एवं अन्य चिकित्सकीय व्यवस्थाएँ करने में किया जा सकेगा। योजना आर्थिक सांख्यिकी विभाग ने इस संबंध में सभी कलेक्टरों को दिशा-निर्देश जारी कर दिये हैं। निर्देशों के अनुसार डॉक्टरों और मेडिकल अमले की सहूलियत के लिये जिला कलेक्टर अब इन्फ्रारेड थर्मोमीटर, कोविड नियंत्रण में जुटे मेडिकल अमले के लिये पीपीई किट, कोरोना टेस्टिंग किट, आईसीयू वेंटीलेटर, आइसोलेशन या कोरेंटाइन वार्ड स्थापित करने, पैरा मेडिकल अमले के लिए मास्क, दस्ताने और सेनीटाइजर और भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सुझाये गये अन्य मेडिकल उपकरण या मशीन उपलब्ध कराने में खर्च कर सकेंगे। जिस विधानसभा क्षेत्र में ऐसी व्यवस्थाएँ करना जरूरी होगा वहाँ के संबंधित विधायकों की अनुसंशा इसके लिये जरूरी होगी। यह व्यवस्था सिर्फ वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिये की गई है। व्यय की अनुमति एक बार के लिये होगी। किसी भी परिस्थिति में कोई भी व्यय वर्ष 2022-23 के अंतर्गत नहीं किया जायेगा। राज्य शासन ने इस प्रकार की व्यवस्थाएँ करने के लिये उपयोग में आने वाली राशि की शर्ते एवं मापदंड लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण की अनुमति मदों के अनुसार होंगी। शर्तों के अनुसार स्वीकृत राशि और इसके खर्च करने एवं सामग्री खरीदने के बाद अभिलेख संधारण की जिम्मेदारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की होगी। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन कोविड संक्रमण से निपटने के लिये सभी उपलब्ध वित्तीय एवं अधोसंरचनात्मक संसाधनों का अधिकतम उपयोग कर रही है।    


नवीन खसरे में समाविष्ट की गई हैं बहुत सी जानकारियां


शासन द्वारा नवीन खसरा का प्रारूप जारी किया गया है। जिसमें अनेक जानकारियां समाविष्ट की गयी हैं। नवीन खसरे के कॉलम नंबर एक में भूमि के भाग की यूनिक आईडी, कॉलम नंबर दो में भूमि के भाग का प्रकार, कॉलम नंबर तीन में भू-खण्ड  संख्यां क, कॉलम नंबर चार में क्षेत्रफल, भूमि उपयोग जिसके लिए निर्धारण किया गया है, भू-राजस्वू, भू-भाटक, कॉलम नंबर पांच में भूमि स्वा मी का नाम तथा निवास का पता तथा इसी में शासकी य भूमि दर्ज होगा। कॉलम नंबर छ: में प्रत्येक भूमि स्वामी का अंश, कॉलम नंबर सात में सरकारी पट्टेदार का नाम तथा निवास का पता, पट्टे की अवधि पट्टे के अधीन क्षेत्र, कॉलम नंबर आठ में अधिकारी कृषक (यदि कोई हो) का नाम तथा निवास का पता, कॉलम नंबर नौ में भूमि पर विल्लंगत तथा प्रभार, कॉलम नंबर दस में फसल खरीफ, रबी, जायद, अन्य, कॉलम नंबर ग्यारह में फसल के अधीन क्षेत्रफल तथा कॉलम नंबर बारह में भूमि के सिंचाई संबंधी प्रास्थिति भूमि पर संरचना/ वृक्ष अन्यल अभ्युाक्तियां वर्ष के दौरान कॉलम संख्या  एक से नौ तक में प्रविष्टियों में सुधार के आदेश शामिल है।


मध्यप्रदेश के ऐतिहासिक स्मारकों पर आधारित फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन, प्रविष्टियाँ 22 अप्रैल तक आमंत्रित


संस्कृति विभाग के संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय द्वारा ''''आजादी के अमृत महोत्सव'''' के अवसर पर मध्यप्रदेश के ऐतिहासिक स्मारकों पर आधारित फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता में चयनित छायाचित्रों को प्रथम पुरस्कार के रूप में 1 लाख रूपये, द्वितीय पुरस्कार 50 हजार रूपये, तृतीय पुरस्कार 25 हजार रूपये एवं तीन छायाचित्रों को सांत्वना पुरस्कार  के रूप में 10-10 हजार रूपये  प्रदान कर सम्मानित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त प्रतियोगिता में प्राप्त छाया चित्रों में से श्रेष्ठ छाया चित्रों की राज्य संग्रहालय भोपाल में प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। इच्छुक प्रतिभागी मध्यप्रदेश के किसी भी ऐतिहासिक स्मारक का स्वयं द्वारा छायांकित नवीनतम छायाचित्र (जिसकी अवधि अंतिम तिथि से 1 माह से अधिक न हो) 22 अप्रैल 2021 तक संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय भोपाल में या ईमेल द्वारा जमा करा सकते हैं। मध्यप्रदेश के स्मारकों पर आधारित फोटोग्राफी प्रतियोगिता में प्राप्त छायाचित्रों की सॉफ्टकॉपी में से जूरी के सदस्यों द्वारा प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना पुरस्कार के लिए चयन किया जाएगा। प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र भी प्रदान किए जाएंगे।  इच्छुक प्रतिभागी संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय मध्यप्रदेश भोपाल में कार्यालयीन दिवस एवं समय में 22 अप्रैल तक वरिष्ठ छायाचित्रकार श्री नगेन्द्र वर्मा के पास सॉफ्ट कॉपी में भी जमा करा सकते हैं। प्रतियोगिता से संबंधित अन्य शर्तों को विभागीय वेबसाइट  http://archaeology.mp.gov.in/en-us/  पर देखा जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए पुरातत्व अधिकारी डॉ. रमेश यादव  मोबाइल नंबर 98260 96679 और वरिष्ठ छाया चित्रकार श्री नगेंद्र वर्मा  मोबाइल नंबर 9893 565141 से संपर्क कर सकते हैं।  प्रतिभागी अपने छायाचित्र की सॉफ्ट कॉपी विभागीय ईमेल mparchaeology@gmail.com पर भी अपलोड कर सकते है।    


यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा 18 अप्रैल को 43 केंद्रों पर 15 हजार 773 परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे,संभागायुक्त श्री कियावत ने समुचित व्यवस्था के दिए निर्देश


संघ लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा रविवार 18 अप्रैल को 43 परीक्षा केंद्र पर आयोजित की जाएगी। परीक्षा में 15 हजार 773 परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे। सभी प्रमुख बस स्टॉप, रेलवे स्टेशन और विमानतल पर बनाये गए सुविधा केंद्र पर परीक्षार्थियों को उनके केंद्र आदि की जानकारी दी जाए। सभी 43 परीक्षा केंद्रों पर तैनात सुपरवाइजर, अधीक्षक और परीक्षक को निर्देश दिए हैं कि आयोग की निर्देश पुस्तिका में दिए गए अनुदेशों के अधीन ही परीक्षा सम्पन्न करायें। उक्ताशय के निर्देश संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने बैठक में विभिन्न केन्द्राध्यक्षों को दिए।  श्री कियावत ने कहा कि यूपीएससी परीक्षा के लिए सभी केंद्रों पर पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध किए जाए। उन्होंने भोपाल जिले में कोरोना कर्फ्यू के दौरान परीक्षार्थियों के लिए ट्रांसपोर्ट (बीसीसीएल) भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड को निर्देशित किया है कि यूपीएससी परीक्षा के दौरान भोपाल जिले में बनाए गए परीक्षा केन्द्र पर रूट वार लगभग 100 बसों का संचालन किया जाए ताकि परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र तक पहुँचने के लिए सुगमता हो।  श्री कियावत ने बताया कि कोविड-19 के दृष्टिगत परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों को ई-प्रवेश पत्र में आवंटित केंद्र पर परीक्षा आरम्भ होने के एक घंटा पूर्व पहुँचने के निर्देश प्रसारित किये गए हैं। परीक्षा केंद्रो पर परीक्षार्थियों का प्रवेश, परीक्षा आरंभ होने के 10 मिनट पूर्व बंद हो जाएँगे। परीक्षार्थियों को ई-प्रवेश पत्र के साथ स्वयं का एक फोटो और पहचान पत्र लाना अनिवार्य है। परीक्षा केंद्र में परीक्षार्थी केन्द्र अध्यक्ष, परीक्षक और सुपरवाईजर मोबाइल फोन, स्मार्ट वॉच, पेजर आदि के नहीं ले जा सकेंगे। कोविड के दृष्टिगत परीक्षार्थी अनिवार्य रूप से मॉस्क लगाएँगे और 50 मि.ली. की पारदर्शी बोतल वाले सैनिटाइजर ले जा सकेंगे। कोविड-19 को देखते हुए 2 मीटर की दूरी पर परीक्षार्थियों को कक्ष में बैठने की व्यवस्था होगी। आयोग के निर्देशानुसार कोविड संक्रमण से बचाव के सभी इंतजाम करने के निर्देश दिए गए है। परीक्षा केंद्र सेनेटाइज किए गए। केंद्रों पर परीक्षार्थी अनिवार्य रूप से मास्क लगाकर आएँगे। कोई परीक्षार्थी अगर मास्क पहनकर नहीं आएँगे तो उन्हें केंद्र द्वारा मास्क उपलब्ध कराया जाएगा। केंद्रो के प्रवेश द्वार पर सेनेटाइजर रखें गए है। साथ ही प्रत्येक परीक्षा केन्द्रों पर दो आईसोलेशन कक्ष भी बनाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। प्रदेश व अन्य शहरों से भोपाल आने वाले परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए नादरा, हलालपुरा और आईएसबीटी बस अड्डा, भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन  तथा भोपाल एयरपोर्ट पर विशेष सहायता केंद्र बनायें गये हैं। इन सहायता केंन्द्रों पर परीक्षार्थी, परीक्षा केंद्रो के बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे है। संभागायुक्त कार्यालय में परीक्षा कंट्रोल रूम बनाया गया है जिनके फोन नम्बर 0755-2540772  एवं 0755-2790906 है।  कंट्रोल रूम रविवार 18 अप्रैल को प्रात: 6 बजे से रात 9 बजे तक संचालित रहेगा।  


ऐसे कार्य करें कि कार्मिक और प्रबंधन के बीच विश्वास की भावना पैदा हो


मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक श्री गणेश शंकर मिश्रा ने कहा कि कार्मिक हमारी पूंजी हैं। कार्मिकों को यह एहसास होना चाहिए कि बिजली कंपनी उनकी हर समस्याओं और शिकायतों का निराकरण समय पर करेगी तो वे कंपनी को बेहतर परिणाम दे पाएंगे। ऐसे कार्य करें कि कार्मिक और प्रबंधन के बीच विश्वास की भावना पैदा हो। श्री मिश्रा ने कहा कि सहयोग से हम गुणवत्तापूर्ण विद्युत आपूर्ति और बेहतर उपभोक्ता सेवाएँ सुनिश्चित कर सकेंगे। कार्मिकों के लिए बीमा, इन्सेन्टिव प्रोत्साहन योजना पर कारगर कदम उठाए जाएंगे, ताकि कंपनी प्रबंधन और कार्मिकों के बीच विश्वास की भावना पैदा हो।  प्रबंध संचालक श्री गणेश शंकर मिश्रा ने कंपनी मुख्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से मानव संसाधन एवं प्रशासन विभाग की समीक्षा  की।   प्रबंध संचालक ने कहा कि बिजली के मैदानी कर्मचारियों और अधिकारियों को ड्यूटी के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा मारपीट/दुर्व्यवहार की घटनाओं को गंभीरता से लिया जाएगा। उन्होंने कहा  कि प्रायः देखने में आ रहा है कि बिजली कर्मियों पर ड्यूटी के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा मारपीट/दुर्व्यवहार किया जा रहा है।  ऐसी घटनाएँ विद्युत अधिकारियों और कर्मचारियों का मनोबल गिराती हैं। इसलिए कंपनी के कार्यक्षेत्र में कार्यरत सभी नियंत्रणकर्ता अधिकारी  मैदानी अधिकारियों/कर्मचारियों के साथ होने वाली दुर्व्यवहार या मारपीट की घटनाओं को पूरी गंभीरता से ले।    विद्युत आपूर्ति की स्थिति पर लगातार नजर रखें और जिले के कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से संपर्क कर किसी भी अप्रिय स्थिति में उनसे आवश्यक सहयोग प्राप्त करें। इस संबंध में कंपनी कार्यक्षेत्र में विगत 1 वर्ष में कंपनी के अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ हुई मारपीट (घातक/अघातक) मामलों में पुलिस थाने में दर्ज/कोर्ट में विचाराधीन मुकदमों की समीक्षा की जाएगी। प्रबंध संचालक ने कहा कि कर्मचारियों की समस्याओं के लिए शिकायत निवारण प्रकोष्ठ पूरी गति से काम करेगा और विभागीय जाँच के प्रकरणों का निराकरण भी तत्परता से किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कंपनी के कार्मिकों का आव्हान किया कि विद्युत वितरण कंपनी द्वारा उपभोक्ता उन्मुखी योजनाओं का तेजी से क्रियान्वयन किया जाए। विद्युत वितरण व्यवस्था के सुचारू संचालन के लिए कार्मिकों से सम्मिलित प्रयासों, मेहनत और निष्ठा से कार्य करने का आव्हान किया गया।


10वीं और 12वीं के प्रवेश-पत्रों में 10 मई तक करा सकेंगे संशोधन


माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संचालित हाई स्कूल, हायर सेकेंडरी, हायर सेकेंडरी वोकेशनल और अन्य परीक्षाओं के प्रवेश-पत्रों में अब विद्यार्थी 10 मई 2021 तक संशोधन करा सकेंगे। पूर्व में यह तिथि 15 अप्रैल निर्धारित थी। कोविड 19 को दृष्टिगत रखते हुए प्रवेश-पत्र में संशोधन करने की अवधि में वृद्धि की गई है। सभी संस्था प्राचार्य, परीक्षार्थियों को प्रवेश-पत्र डाउनलोड कर अपने हस्ताक्षर व पद मुद्रा अंकित कर छात्रों को उपलब्ध कराएंगे।  प्रवेश-पत्रों में विषय अथवा माध्यम की त्रुटि पाए जाने की स्थिति में एमपी ऑनलाइन के पोर्टल पर जाकर निर्धारित शुल्क जमा कर वांछित त्रुटि सुधार कराई जा सकती है।


कोरोना कर्फ्यू का पालन सुनिश्चित कराने की जा रही है कार्यवाही  


sehore news
शासन के निर्देशानुसार एवं कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के मार्गदर्शन में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए एवं कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने के लिए संपूर्ण जिले में कार्रवाई की जा रही है बिना जरूरी वजह घर से निकले लोगों के विरुद्ध चालानी कार्यवाही की जा रही है। मास्क नहीं पहनने वाले व्यक्तियों भी चलानी कार्रवाई की जा रही है । पुलिस एवं राजस्व की टीम द्वारा बिना मास्क के घूमते पाए जाने वाले लोगों पर सतत कार्यवाही की जा रही है। अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा लोगों को शासन द्वारा जारी गाईड लाईन एवं कोरोना कर्फ्यू का पालन करने के लिए समझाईश दी जा रही है।

वर्तमान में भी आक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता है


जिला पंचायत के मुख्य कार्यपाल अधिकारी श्री हर्ष सिंह ने बताया कि जिला चिकित्सालय में ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था है। इस समय 284 जम्बो बी टाइप सिलेंडर हैं तथा 184 छोटे बी टाइप सिलेंडर है उपलब्ध हैं। इसमें 160 जम्बो बी टाइप तथा 90 छोटे बी टाइप सिलेंडर भरे उपलब्ध है। भोपाल के चिरायु तथा बीएचईएल भोपाल से ऑक्सीजन की सतत आपूर्ति जारी है इसके अलावा ऑक्सीजन के कंसनट्रेटर मशीनों का भी उपयोग किया जा रहा है।


आष्टा में एसडीएम ने ली प्रायवेट अस्पताल एवं लैब संचालकों की बैठक


sehore news
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार एसडीएम श्री विजय कुमार मंडलोई द्वारा आष्टा में संचालित प्रायवेट अस्पताल संचालकों एवं लैब संचालकों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में एसडीएम श्री मंडलोई ने सभी अस्पताल एवं लैब संचालकों को निर्देश दिए किए कोविड गाईडलाइन के अनुसार ही मरीजों का ईलाज करें। साथ ही मास्क लगाना, सेनेटाईजर, सोशल डिस्टेंशिग, सैचुरेशन कम होने पर गाईडलाइन का पालन करने सहित कोविड गाईडलाइन के नियमों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी एवं कडाई से पालन करने के निर्देश दिए। बैठक में एसडीओपी, बीएमओ सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

जिले में 125 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 518, 3 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु, मृतकों की कुल संख्या 54


पिछले 24 घंटे के दौरान 125 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 09 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जो गुलाब विहार, कोलोपुरा, गंगा आश्रम, न्यू बस स्टेण्ड, चाण्क्यपुरी के निवासी हैं। इसी तरह आष्टा क्षेत्र से 40 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है जो सिद्धिकगंज, किल्लोद आष्टा काला तालाब क्षेत्र, सुभागनगर, बड़ा बाजार, मुकाती कॉलोनी, मेहतवाड़ा, कचनारिया, बैदाखेड़ी, जुम्मापुरा, अलीपुर, गल चौराहा, रायल कॉलोनी, दादाबाड़ी, टिटोरिया, चंदननगर, हकीमाबाद, शास्त्री कॉलोनी, शांति नगर, इंदौर नाका, नजरगंज, थाना परिक्षेत्र, किलाक्षेत्र, काजीखेड़ी, मालीखेड़ा, बजरंग कॉलोनी के निवासी हैं। इछावर अन्तर्गत 22 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो वार्ड नंबर 8,2,1,4, 12,बलोदिया, सीएचसी परिसर, वीरपुर डेम, अमलाहा, कांकरखेड़ा, मोगला, भाउंखेड़ी, सेमलीजदीद के निवासी हैं। बुदनी क्षेत्र अन्तर्गत 28 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जो चेगरा, मरदानपुर, सीएचसी रेहटी, बड़कुल, वार्ड नंबर 2, ककरदा, गुराड़िया गोंडी, वार्ड नंबर 1, बुदनी वार्ड नंबर 8, रेहटी वार्ड नंबर 1, ग्वाड़िया, पीलीकरार के निवासी हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 15 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो नसरुल्लागंज वार्ड नंबर 1, 6, स्कूल के पास, शास्त्री कॉलोनी, बैंक ऑफ इंडिया परिसर, किसान मोहल्ला, छिदगांव, राला, सोठियां, मगरिया के निवासी हैं। श्यामपुर क्षेत्र से 11 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो निपानियां, बिलकिसगंज 1, चरनाल, दोराहा, रामजाखेड़ी, छापरी, अमरोद, बिजोरी के निवासी हैं। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) में आज सुबह 3 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। मृतकों में 1 महिला तथा 2 पुरुष शामिल है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 518 हैं। आज 200 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3561 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 54 है । आज 767 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 192, श्यामपुर से 78, विकासखंड नसरुल्लागंज से 82, आष्टा से 190 एवं बुदनी विकासखंड से 130 तथा इछावर से 95 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 4130 है जिसमें से 54 की मृत्यु हो चुकी है 3561 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 518 है। आज 767 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 92176 हैं जिनमें से 86063 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 200 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1912 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-226470 है। 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


कक्षा 9 वीं और 11 वीं की परीक्षाएं निरस्त, प्रदेश सरकार ने कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए आदेश जारी किए

 

प्रदेश सरकार ने वर्तमान में कोरोना संक्रमण के विस्तार तथा जिलों में कोरोना लॉकडाउन ( कर्फ्यू ) की स्थिति को देखते हुए कक्षा 9 वीं एवं 11 वीं की वार्षिक परीक्षा के लिए पूर्व में जारी निर्देश निरस्त कर दिए है।   कक्षा 9 वीं एवं 11 वीं के विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षा नहीं ली जाएगी तथा उनका मूल्यांकन अकादमिक सत्र के दौरान पूर्व में किए गए मूल्यांकन के आधार पर किया जाएगा और मूल्यांकन आधार पर किया जाएगा। विभाग द्वारा 20 नवम्बर से 28 नवम्बर तक लिए गए रिवीजन टेस्ट तथा 1 फरवरी से 9 फरवरी तक आयोजित अर्द्धवार्षिक परीक्षा में से विद्यार्थियों द्वारा जिसमें बेहतर अंक प्राप्त किए हो उसके आधार पर कक्षा 9 वीं एवं 11 वीं का परीक्षा परिणाम घोषित किया जाएगा। परीक्षा परिणाम की गणना Best Five के आधार पर की जाएगी अर्थात यदि विद्यार्थी 6 में से 5 विषय में पास है तथा 1 विषय में न्यूनतम निर्धारित 33 अंक प्राप्त नही कर सका हो तो भी उसे पास घोषित किया जाएगा। एक से अधिक विषयों में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त न करने वाले विद्यार्थियों के लिए कृपांक के रूप में अधिकतम 10 अंक प्रदान किए जा सकेंगें। कृपांक के अधिकतम 10 अंक आवश्यकतानुसार एक से अधिक विषयों में आवंटित किए जा सकेगें। मूल्यांकन विषयक निरस्त कर अकादमिक सत्र में  द्वितीय अवसर कृपांक के उपरांत भी यदि विद्यार्थी को 2 अथवा अधिक विषयों में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त नहीं हुए हों तो उसे परीक्षा हेतु द्वितीय अवसर दिया जाएगा। ऐसे विषय जिनमें विद्यार्थी द्वारा पूर्व परीक्षा में न्यूनतम निर्धारित अंक प्राप्त नहीं किए गए थे, उन विषयों में उसे पुनः परीक्षा देनी होगी।  कोविड संकमण की स्थिति में कमी आने अथवा स्कूल आरंभ होने के पूर्व दिया जाएगा, जिसकी सूचना परीक्षा के 15 दिवस पूर्व दी जाएगी। द्वितीय अवसर उन विद्यार्थियों को भी दिया जाएगा जो रीविजन टेस्ट एवं अर्द्धवार्षिक परीक्षा दोनों में से किसी भी परीक्षा में सम्मिलित नहीं हुए किन्तु उन्होंने सत्र 2020-21 में शासकीय विद्यालय में प्रवेश लिया था।  सभी शालाएं 30 अप्रैल 2021 तक सुनिश्चित कर परीक्षा परिणाम घोषित करें। विमर्श पोर्टल पर भी विद्यार्थियों के लिए परीक्षा परिणाम ऑनलाईन उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित करें। संबंधित शाला प्रमुख शाला का परीक्षा परिणाम विमर्श पोर्टल पर निर्धारित प्रपत्र में 5 मई 2021 तक दर्ज करना सुनिश्चित करें ताकि अगले अकादमिक सत्र हेतु सभी विद्यार्थियों के लिए पाठ्य पुस्तक की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके।  


कुंभ के मेले से आए श्रद्धालुओं को सेल्फ आईसोलेशन के निर्देश 


मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं कि हरिद्वार कुंभ के मेले से वापस आए श्रद्धालु अपने निवास ग्राम एवं नगर में पहुंचते ही कलेक्टर को सूचना दें। यह सूचना वह डेडीकेटस् नबर पर दे सकते हैं। इस संबंध में जागरुक नागरिकों द्वारा भी सूचना दी जा सकती है। इस सूचना के आधार पर कलेक्टर द्वारा कुंभ मेले से आए श्रद्धालुओं को सेल्फ आईसोलेशन किया जाएगा। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू है।     


24965 किसानों से 1 लाख 94 हजार 500 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी


जिले में आज 24965 किसानों से 1 लाख 94 हजार 500 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी जिले के उपार्जन केन्द्रो द्वारा की गई। अधिकारियो द्वारा उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण किया जा रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण करें और यह देखें की किसानों को फसल बेचने में किसी प्रकार की कोई भ्री असुविधा न हो।


जिले में 6 हजार 197 व्यक्तियों को लगा कोरोना का प्रथम एवं द्वितीय टीका


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। शनिवार को जिले के 88 टीकाकरण केन्द्रों पर 6197 लोगों को कोविड का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया। लोग बड़ी संख्या में टीका लगवाने के लिए टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचे। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार आष्टा के 20 सत्रों में 1614, बुदनी क़े 15 सत्रों में 612, इछावर क़े 13 सत्र में 1324, नसरूल्लागंज के 11 सत्रों में 505 व्यक्ति, श्यामपुर के 24 सत्र में 1532, अर्बन सीहोर PHC सहित जिला चिकित्सालय क़े 5 सत्रों में 610  व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: