सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 15 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 15 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 15 अप्रैल

जिले में कोरोना वॉलेंटियर द्वारा चलाया जा रहा है जन-जागरूकता अभियान, जिले में 2980 व्यक्तियों ने कराया कोरोना वॉलेंटियर के रूप में पंजीयन


sehore news
जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारियों के साथ-साथ कोरोना वॉलेंटियर भी योगदान दे रहे हैं। जिले में अभी कुल 2980 व्यक्तियों ने वॉलेंटियर के रूप में पंजीयन कराया है। इसमें 2430 पुरुषों ने तथा 550 महिलाएं शामिल हैं। यह सभी वॉलेंटियर अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जनजागरुकता अभियान चला रहे हैं इसके साथ ही कोविड टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित कर रहे हैं और टीकाकरण केन्द्र पहुंचाने में मदद भी कर रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों-कर्मचारियों तथा पुलिस द्वारा जिले में रोको-टोकों अभियान के तहत नि:शुल्क मास्क वितरण तथा चालानी कार्यवाही की जा रही है। वॉलेंटियरों द्वारा रोको-टोको अभियान, मास्क लगाना है जरूरी अभियान, दो गज की दूरी है बहुत जरूरी के जरिए सोशल डिस्टेंसिंग तथा ग्राम में टीकाकरण में 45 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण होने की जानकारी भी दी ग्राम पंचायत खामखेड़ा जत्रा में दिलीप सिंह गोयल द्वारा कोविड-19 की वेक्सीन की पहली डोज लगभग 245 लोगों को लगवाई गई। वॉलेंटियरों द्वारा आम लोगों से मास्क लगाने तथा सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील की। साथ ही युवाओं से मास्क नहीं तो बात नहीं नियम का पालन करने का निवेदन किया। उपस्वास्थ्य केन्द्रों पर लगातार टीकाकरण में सहयोग किया जा रहा है। खामखेडा जत्रा आदि कोरोना वालेंटियर ने सहयोग किया।


परीक्षा संबंधी हेल्पलाइन प्रारंभ


माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं के दृष्टिगत मंडल ने हेल्पलाइन सेवा गत एक अप्रैल से संचालित कर दी है। विद्यार्थियों, पालकों एवं शिक्षकों को टोल फ्री दूरभाष क्रमांक 18002330175 पर परीक्षाओं एवं मंडल से संबंधित अन्य जानकारियां प्रदान की जाएंगी। हेल्पलाइन सेवा के माध्यम से प्रदेश के हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी परीक्षाओं के संबंध में जानकारी प्राप्त की जा सकेगी।


सेवानिवृत कर्मचारी और अधिकारियों को 31 जुलाई तक संविदा में रखा जा सकता है, राज्य शासन ने सभी कलेक्टर और संभाग आयुक्त को निर्देश दिए


राज्य शासन ने सभी जिला के कलेक्टर और संभाग आयुक्त को कोरोना संक्रमण से आम जनता को बचाव और इलाज के लिए आवश्यक होने पर 31 मार्च और उसके बाद रिटायर होने वाले अधिकारी और कर्मचारियों को 31 जुलाई तक संविदा पर रखने की अनुमति दी गई है। कोविड -19 के विरुद्ध संचालित अभियान में शासन के विभागों तथा सार्वजनिक उपकमों एवं स्थानीय निकायों के अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा कार्य किया जा रहा है।  राज्य शासन द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि शासकीय विभागों तथा उनके अंतर्गत गठित निगम, मण्डल, सार्वजनिक उपक्रमों एवं स्थानीय निकायों के इस अभियान में कार्यरत ऐसे अधिकारी एवं कर्मचारी जो 31 मार्च 2021 को सेवानिवृत्त हो चुके हैं एवं उसके पश्चात सेवानिवृत्त हो रहे हैं तथा अभियान में उनका रहना वांछित है ऐसे व्यक्तियों को 31 जुलाई 2021 तक संविदा नियुक्ति पर रखे जाने के अधिकार प्रत्यायोजित किए जाये। वर्ग-तीन एवं वर्ग-चार के शासकीय कर्मचारियों को ऐसी संविदा नियुक्ति उनके जिला प्रमुख द्वारा दी जायेगी। सार्वजनिक उपक्रमों एवं स्थानीय निकायों के कर्मचारियों को ऐसी संविदा नियुक्ति उनके मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिस भी पदनाम से जाने जाते हों दे सकेंगे। नियुक्ति देने के पूर्व जिला कलेक्टर से प्रमाणीकरण आवश्यक होगा कि वह कोविड -19 में कार्यरत है तथा उसकी सेवाएं आवश्यक हैं। वर्ग-2 के शासकीय अधिकारियों को ऐसी संविदा नियुक्ति संभागीय आयुक्त कर सकेंगे। ऐसी नियुक्ति के पूर्व जिला कलेक्टर से प्रमाणीकरण आवश्यक होगा कि वह कोविड-19 में कार्यरत हैं तथा उसकी सेवाएं आवश्यक हैं। वर्ग-1 के शासकीय अधिकारियों को ऐसी संविदा नियुक्ति प्रस्ताव प्राप्त होने पर संबंधित प्रशासकीय विभाग द्वारा दी जा सकेगी।  गृह विभाग के अंतर्गत कोविड-19 के विरूद्ध चल रहे अभियान में कार्यरत वर्ग-3 एवं 4 के पुलिस कर्मियों को पुलिस अधीक्षक की अनुशंसा एवं प्रमाणीकरण पर रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक द्वारा ऐसी संविदा नियुक्ति दी जा सकेगी। वर्ग-2 के पुलिस अधिकारियों को कोविड-19 के विरूद्ध अभियान में कार्यरत होने का प्रमाणीकरण एवं अनुशंसा संबंधित जोन के पुलिस महानिरीक्षक से प्राप्त होने के उपरांत ऐसी संविदा नियुक्ति पुलिस महानिदेशक द्वारा दी जा सकेगी। ऐसी संविदा नियुक्ति प्राप्त करनेवाले अधिकारियों, कर्मचारियों को मध्यप्रदेश सिविल पदों पर संविदा नियुक्ति नियम-2017 के नियम-12 ( 2 ) के प्रावधान लागू होंगे, जो सेवानिवृत्त कर्मचारियों के संबंध में सेवानिवृत्ति के समय, वेतन संरचना, यथा संशोधित वेतनमान में देय मूल वेतन एवं देय मंहगाई भत्ते में से देय पेंशन, सारांशीकरण के पूर्व की एवं देय मंहगाई राहत घटाने के पश्चात् भुगतान योग्य एकमुश्त राशि, संविदा वेतन होगा एवं इसके अतिरिक्त वह सेवानिवृत्ति के समय देय मूल वेतन पर गृह भाड़ा भत्ता, यदि शासकीय आवास गृह धारण नहीं करता है एवं नगर क्षतिपूर्ति भत्ते का हकदार होगा तथा पेंशन एवं पेंशन पर मंहगाई राहत का भी हकदार होगा।


गर्मी के मौसम में साधारण से उपाय कर आप ही कम कर सकते हैं अपना बिजली बिल


गर्मी का मौसम आते ही जैसे-जैसे पारा चढ़ता है, वैसे-वैसे आपका बिजली का बिल ना बढ़े, इसके लिए मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा कुछ कारगर तरीके सुझाये हैं। "ए.सी. इस्तेमाल करने वालों के लिए" ए.सी. के टेम्प्रेचर को 24 से 26 डिग्री के बीच सेट करें। इससे नीचे टेम्प्रेचर करने पर ए.सी. के कंप्रेशर को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। ए.सी. ज्यादा देर तक चलता है, इसलिए बिजली भी ज्यादा खर्च होती है और आपका बिल ज्यादा आता है। ए.सी. के साथ-साथ कमरे में पंखा भी चलाएं। ए.सी. के एयर फिल्टर को हर 10-15 दिनों में अच्छी तरह धोकर साफ करें फिल्टर में धूल जमने में आपको पूरी ठंडक नहीं मिलती और आपको ए.सी. ज्यादा देर तक चलाना पड़ता है। ए.सी. वाले कमरों के खिड़की-दरवाजे ए.सी.चलने के दौरान मजबूती से बंद रखें। यदि दरवाजे-खिड़कियों में झिरियां हों तो उन्हें थर्मोकोल आदि का इस्तेमाल कर सील कर दें।


"कूलर इस्तेमाल करने वालों के लिए"

कूलर से पूरी ठंडक पाने के लिए जरूरी है कि कूलर जितनी हवा फेंक रहा है उतनी हवा कमरे से बाहर निकलने का भी पूरा इंतजाम हो। कूलर के पैड यदि खराब हो गये हैं तो उन्हें बदलवा लें। कूलर के पंखे और पंप की आइलिंग ग्रीसिंग करा लें। कूलर के पंखे के कंडेंसर की जांच जरूर करायें। कूलर के रेगुलेटर की भी जांच करायें। इलेक्ट्रॉनिक रेगुलेटर से बिजली कम खर्च होती है।


"पंखे इस्तेमाल करने वालों के लिए"

घर के सब पंखों की सर्विसिंग करा लें। खराब कंडेंसर, बाल बेयरिंग इत्यादि को तुरंत बदलवा लें। पंखे में इलेक्ट्रॉनिक रेगुलेटर का इस्तेमाल करें।


"रेफ्रिजरेटर इस्तेमाल करने वालों के लिए"

रेफ्रिजरेटर में कोई खराबी न भी दिखायी दे रही हो तो गर्मी का मौसम ठीक से शुरू होने के पहले रेफ्रिजरेटर की जांच करा लें। रेफ्रिजरेटर का दरवाजा बार-बार ना खोलें। रेफ्रिजरेटर का दरवाजा ज्यादा देर तक न खुला रखें। दरवाजा बार-बार खुलने या ज्यादा देर खुला रहने से कंप्रेशर को फ्रिज का टेम्प्रेचर बनाये रखने में ज्यादा मेहनत लगती है। कंप्रेशर ज्यादा चलने से आपका बिजली बिल बढ़ता है। एकदम गर्मागर्म खाना या दूध फ्रिज में न रखें। ऐसा करने से भी कंप्रेसर को ज्यादा देर चालू रहना पड़ता है और आपका बिजली बिल बढ़ता है।


"सबके लिए कुछ जरूरी टिप्स"

अपने घर में बिजली की वही वायर और फिटिंग्स इस्तेमाल करें जिन पर आई.एस.आई. का मार्क है। वायरिंग पुरानी, खराब होने से भी बिजली ज्यादा खर्च होती है और घर में आग लगने का खतरा हो सकता है। बिजली की मरम्मत का काम लाइसेंसधारी ठेकेदार, इलेक्ट्रिशियन से ही करायें। सर्टिफिकेट, लाइसेंस देखने की मांग करें। घर में हर जगह ऊर्जा दक्ष एलईडी लाईट का ही इस्तेमाल करें।


कोविड में तनाव से जूझ रहे बच्चों के लिए बाल आयोग ने शुरू की "संवेदना" टोल फ्री-टेली काउंसलिंग


कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने "संवेदना" नाम से टोल फ्री टेली काउंसलिंग शुरू की है। इसके लिए टोल फ्री नम्बर 1800-1212-830 जारी किया गया है, जिस पर बच्चे कॉल कर विशेषज्ञों से बात कर अपनी समस्या का समाधान पा सकते हैं। कोविड-19 के दौरान 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ा है। ऐसे बच्चे टोल फ्री नम्बर पर सुबह 10 से 1 बजे तक और दोपहर 3 से रात्रि 8 बजे तक सोमवार से शनिवार तक अपनी समस्याओं पर विषय विशेषज्ञों, काउंसलर से बात कर सकते हैं।


वनों को अग्नि दुर्घटना से बचाने की सलाह


वन विभाग द्वारा वनों की सुरक्षा के लिए सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। उन्होंने कहा कि वातावरण का तापमान धीरे-धीरे बढ़ रहा है, तापमान में वृद्धि के साथ वनों में आग दुर्घटनाओं की आशंका रहती है। महुआ तथा अन्य वनों उपज संग्रहण के लिए भी पेड़ों के नीचे गिरे पत्तों को नष्ट करने के लिए लापरवाही से आग का उपयोग किया जाता है। इससे कई बार बड़े वन क्षेत्र में आग का प्रकोप हो जाता है। आग लगने से हरे-भरे वृक्ष झाडि़यां तथा घास नष्ट हो जाती हैं। जंगली जानवरों को भी इससे हानि पहुंचती है। आग से अनमोल वनसंपदा नष्ट हो जाती है। आग लगने से मिट्टी की ऊपरी सतह कठोर हो जाती है तथा कई पोषक सूक्ष्म, जीव नष्ट हो जाते हैं। आग को वनों में फैलने से रोकने के लिए सावधानी रखना आवश्यक है। वनों उपज संग्रहण के लिए वनों में आग न जलायें, वनों में आग की सूचना मिलने पर तत्काल क्षेत्र के वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दें। सबके सहयोग से ही वनों को आग से बचाया जा सकता है।  


शासकीय विद्यालयों में 13 जून तक रहेगा ग्रीष्मकालीन अवकाश - राज्यमंत्री श्री परमार

  • अशासकीय विद्यालयों में 30 अप्रैल तक नहीं होगा कक्षाओं का संचालन सभी शासकीय एवं अशासकीय छात्रावासों को किया गया बंद

स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने बताया कि प्रदेश में कक्षा पहली से आठवीं तक के शासकीय एवं अनुदान प्राप्त समस्त विद्यालयों के लिए 15 अप्रैल से 13 जून 2021 तक ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित किया गया है। इसके साथ ही अशासकीय विद्यालयों में कक्षा पहली से आठवीं तक की कक्षाओं का भौतिक संचालन 30 अप्रैल 2021 तक नहीं किया जाएगा। इन कक्षाओं का ऑनलाइन शिक्षण कार्य जारी रह सकेगा। श्री परमार ने बताया कि प्रदेश में सभी शासकीय एवं अशासकीय छात्रावासों को तत्काल प्रभाव से बंद किया गया है। श्री परमार ने कहा कि वर्तमान कोरोना महामारी की परिस्थिति और विद्यालयीन छात्रों की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस संबंध सभी जिला कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक एवं प्राचार्य को दिशा-निर्देश जारी किए गए है। कक्षा पहली से आठवीं तक की शालाओं में कार्यरत सभी शासकीय शिक्षक ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान बोर्ड परीक्षाओं के पूर्ण होने तक मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। बोर्ड परीक्षा के दौरान पर्यवेक्षण या अन्य शासकीय कार्य के लिए ड्यूटी लगाए जाने पर आवश्यक रूप से उपस्थित होंगे। जारी निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि बोर्ड परीक्षाएँ संबंधित बोर्ड, माध्यमिक शिक्षा मंडल, सीबीएसई, आईसीएसई इत्यादि के निर्देश के अनुसार ही आयोजित होंगी।  


आगामी आदेश तक बंद रहेंगे शासकीय एवं अशासकीय छात्रावास


स्कूल शिक्षा विभाग भोपाल द्वारा शासकीय एवं अशासकीय छात्रावासों को कोरोना कर्फ्यू (लॉकडाउन) के कारण आगामी आदेश तक बंद करने के आदेश जारी किये है। जारी आदेश के अनुसार कोविड-19 संक्रमण में हो रही लगातार वृद्धि के कारण कई जिलों में कोरोना कर्फ्यू (लॉकडाउन) की स्थिति है। समस्त शासकीय एवं अशासकीय छात्रावास तत्काल प्रभाव से बंद किए जाते है। छात्रावास में निवासरत समस्त विद्यार्थियों को सकुशल घर भिजवाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही बोर्ड परीक्षाएं संबंधित बोर्ड यथास्थिति माध्यमिक शिक्षा मंडल, सीबीएसई, आईसीएसई इत्यादि के निर्देश के अनुसार आयोजित होगी। इसी प्रकार शासकीय विद्यालयों में कक्षा 10वी एवं 12वी के छात्रावास के विद्यार्थी प्री-बोर्ड परीक्षा की अपनी उत्तर पुस्तिकाएं अपने घर की निकटस्थ शाला में जमा कर सकेंगे। उत्तर पुस्तकाओं के मूल्यांकन के संबंध में पूर्व में लोक शिक्षण संचालनालय से जारी निर्देशों के अनुसार कार्यवाही की जाएगी।


आमजन को एक क्लिक पर मिलेगी बेड्स उपलब्धता की जानकारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिये सभी माकूल व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जा रही हैं। इन व्यवस्थाओं की जानकारी आमजन तक पहुँचाने के लिये विभिन्न संचार माध्यमों का उपयोग किया जा रहा है। एनएचएम द्वारा तैयार की गई वेबसाइट www.sarthak.nhmmp.gov.in/covid/facility-bed-occupancy/ पर प्रत्येक जिले के निजी और सरकारी अस्पतालों में खाली बिस्तरों की संख्या, आइसोलेशन बेड्स, ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड्स और आईसीयू एवं एचडीयू बेड्स की जानकारी उपलब्ध रहेगी। यह जानकारी क्यू.आर. कोड को स्केन कर भी प्राप्त की जा सकती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये "मेरी सुरक्षा-मेरा मास्क", "किल-कोरोना-2" अभियान की गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की है कि कोविड-19 से जुड़ी अफवाहों से सावधान रहें, अफवाहों पर विश्वास न करें और न ही अफवाह फैलाएँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना उपचार एवं व्यवस्थाओं को लेकर प्रतिदिन जिलेवार समीक्षा की जा रही है। प्रत्येक जिले में क्रायसिस मैनेजमेंट ग्रुप और समाज के प्रतिनिधियों से संवाद कर व्यवस्थाएँ बनाने का काम किया जा रहा है। सभी जिलों में आवश्यकतानुसार दवाओं, ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की पूर्ति की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना वॉलेंटियर्स के साथ आम नागरिक भी कोरोना नियंत्रण में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करें। कोरोना गाइड-लाइन का पालन करते हुए दो गज की दूरी बनाये रखें, चेहरे पर मास्क जरूर लगायें, फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें और सार्वजनिक जगहों पर जाने से बचें। इन सावधानियों से कोरोना संक्रमण पर काफी हद तक नियंत्रण पाया जा सकता है।


समस्त जिले में कोरोना कर्फ्यू लागू, समस्त जिले में 15 अप्रैल रात 10 बजे से 21 अप्रैल को प्रात: 06 बजे तक रहेगा कोरोना कर्फ्यू


जिले में कोविड-19 संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए जिला स्तरीय क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप की अनुशंसा पर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री अजय गुप्ता द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत समस्त सीहोर जिले में कोरोना कर्फ्यू लागू किया गया है। समस्त जिले में 15 अप्रैल को रात्रि 10 बजे से 21 अप्रैल 2021 की सुबह 06 बजे तक कोरोना कर्फ्यू लागू रहेगा।


कोरोना कर्फ्यू के दौरान इन गतिविधियों को रहेगी छूट

जिले में कोरोना कर्फ्यू के दौरान अन्य राज्यों एवं जिलों में माल तथा सेवाओं का आवागमन, अस्पताल, नर्सिंगहोम, मेडिकल इंश्योनेन्स कम्पनीज, अन्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवाएं, केमिस्ट/रेस्टोरेंट, (केवल टेक होम डिलेवरी के लिए), पेट्रोल पम्प, बैंक एवं एटीएम को छूट रहेगी। सुबह के समय प्रात: 7 से प्रात:11 बजे तक किराना, सब्जी की दुकाने खुलने की छूट रहेगी। दूध, मिल्क पार्लर, डेयरी एवं मिल्क कलेक्शन सेंटर प्रात: 7 से प्रात:11 बजे तक एवं शाम को 5 से रात 8 बजे तक खुली रहेगी। औद्योगिक मजदूरों उद्योग हेतु कच्चा एवं तैयार माल उद्योगों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का आवागमन में छूट रहेगी। इसी प्रकार एम्बूलेंस, फायर ब्रिगेड, टेली-कम्यूनिकेशन, विद्युत प्रदाय, रसोई गैस, होम डिलेवरी सेवायें, दूध एकत्रिकरण/वितरण के लिये परिवहन कोरोना कर्फ्य से छूट रहेगी। सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानें, केन्द्र सरकार राज्य सरकार एवं स्थानीय निकायों के अधिकारियों/कर्मचारियों को शासकीय कार्य से किया जा रहा आवागमन, इलेक्ट्रिशियन प्लम्बर, कारपेंटर आदि के द्वारा सेवा प्रदाय के लिए आवागमन में छूट रहेगी। कन्सट्रक्शन गतिविधियाँ (यदि मजदूर कन्सट्रक्सन/परिसर में रुके हो), कृषि संबंधी सेवाएँ (जैसे उपार्जन खाद्य, बीज, कीटनाशक दवाएं, कस्टम हायरिंग सेंटर, कृषि यंत्र की दुकानें आदि) को कोरोना कर्फ्यू से छूट रहेगी। परीक्षा केन्द्र आने एवं जाने वाले परीक्षार्थी तथा परीक्षा केन्द्र एवं परीक्षा आयोजन से जुड़े कर्मी अधिकारीगण, अस्पताल/नर्सिंग होम और टीकाकरण हेतु आवागमन कर रहे नागरिक/कर्मी, राज्य शासन द्वारा फसलों के उपार्जन कार्य से जुड़े कर्मी तथा उपार्जन स्थल अवागमन कर रहे किसान बंधु को छूट रहेगी। बस स्टेण्ड, रेल्वे स्टेशन एवं एयरपोर्ट से आने जाने वाले नागरिक, आईटी कम्पनियों, बीपीओ, मोबाईल कम्पनियों का सपोर्ट यूनिट्स, अखवार वितरण एवं अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारगण तथा तेंदू पत्ता संग्रहण से संबंधित सभी गतिविधियां संग्रहणकर्ता तथा कर्मीगणों को छूट रहेगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू है। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भादवि की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही की जाएगी।


राज्य संरक्षित स्मारकों पर फिल्मांकन की दरों का पुनरीक्षण


राज्य शासन द्वारा संस्कृति विभाग के अंतर्गत राज्य संरक्षित स्मारकों पर फिल्मांकन की दरों को पुनरीक्षित किया गया है। राज्य संरक्षित स्मारकों पर वर्तमान में फिल्मांकन के लिये 50 हजार रूपये और वृत्तचित्र/टेली फिल्म के लिये 20 हजार रुपए प्रतिदिन निर्धारित है। इसे पुनरीक्षित कर फिल्मांकन के लिए नवीन दर 75 हजार और वृत्तचित्र, टेलीफिल्म के लिये 25 हजार रुपए प्रतिदिन निर्धारित की गई है। राज्य संरक्षित स्मारकों पर वेडिंग शूट और ड्रोन फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी के लिए वर्तमान में कोई शुल्क नहीं लिया जाता है। अब वेडिंग शूट के लिए 5 हजार रूपये एवं ड्रोन फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी के लिए 10 हजार रुपए प्रतिदिन दर निर्धारित की गई है। राज्य संरक्षित स्मारकों पर वर्तमान में फिल्मांकन के लिये एक लाख रूपये और वृत्तचित्र/टेलीफिल्म के लिए 50 हजार रुपए प्रतिभूति राशि निर्धारित है, जिसे पुनरीक्षित कर क्रमश 01 लाख 50 हजार रूपये और एक लाख रुपए किया गया है। इसके साथ ही स्मारकों में वेडिंग शूट और ड्रोन फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी के लिए अब 5 हजार और 20 हजार रुपए प्रतिभूति के रूप में जमा करने होंगे।


अनुमति प्राप्त ऑक्सीजन वाहन एम्बुलेंस के समकक्ष घोषित


राज्य शासन ने कोरोना बीमारी के रोगियों को समय पर उपचार के लिये अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति की आसान उपलब्धता के लिये राजपत्र में अधिसूचना प्रकाशित की है। अधिसूचना में यह घोषणा की गई है कि ऐसी आपदा के दौरान अधिसूचना दिनांक से एक वर्ष की अवधि के लिये चिकित्सा प्रयोजन हेतु ऑक्सीजन ले जाने वाले अनुमति प्राप्त वाहनों को केवल ऑक्सीजन ले जाने के लिये एम्बुलेंस के समकक्ष माना जायेगा। ऐसे वाहनों पर केन्द्रीय मोटर-वाहन नियम-1989 के नियम-108 के उप नियम (7) और नियम-119 के उप नियम (3) के प्रावधान लागू होंगे।


उच्च माध्यमिक एवं माध्यमिक शिक्षक भर्ती दस्तावेज के सत्यापन का कार्य स्थगित


आयुक्त, लोक शिक्षण मध्यप्रदेश द्वारा आदेश जारी किया गया है कि उच्च माध्यमिक/माध्यमिक शिक्षक भर्ती के दस्तावेज के सत्यापन का कार्य प्रचलन में था किन्तु कोरोना महामारी के संक्रमण में अत्यधिक वृत्रि होने के कारण सत्यापन अधिकारियों एवं कर्मचारियों संक्रमित होने तथा प्रदेश के अधिकांश जिलों में कोरोना कर्फ्यू लगाए जाने से सत्यापन कार्य किया जाना संभव नहीं हो पा रहा है। आयुक्त, लोक शिक्षण मध्यप्रदेश द्वारा जारी आदेश में कहा गया। आदेश अनुसार दस्तावेज के सत्यापन के कार्य को 16 अप्रैल 2021 से 5 मई 2021 तक स्थगित किया गया है। 5 मई 2021 को संक्रमण की स्थिति की समीक्षा उपरांत दस्तावेज सत्यापन के लिए नई तिथि से अवगत कराया जाएगा।     


कोविड महामारी से बचाव के लिए किया जा रहा है लोगों को जागरुक, घर-घर जाकर लोगों को कोविड-19 वैक्सीन लगवाने हेतु किया जा रहा प्रेरित

sehore news

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश अनुसार जिले में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जागरुकता अभियान चलाए जा रहे हैं। इसी के तहत महिला बाल विकास के पर्यवेक्षकों एवं परियोजना अधिकारियों द्वारा घर-घर जाकर लोगों को कोविड-19 वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही कोरोना महामारी से बचाव के लिए लोगों में जागरुक किया जा रहा है।


रोजगार मेला कार्यक्रम स्थगित


जिला रोजगार अधिकारी ने जानकारी दी कि मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन के निर्देशानुसार जिला प्रशासन के माध्यम से जनपद पंचायतों में 15 अप्रैल 2021 से 30 अप्रैल 2021 तक आयोजित होने वाले रोजगार मेले कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित किये गए हैं। स्थिति सामान्य होने पर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के तहत रोजगार मेले आयोजित किये जायेंगे।


शत्-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के लिए कलेक्टर श्री गुप्ता की सराहना


sehore news
महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा दो योजनाओं में शत्-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के लिए भोपाल संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रेषित कर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता तथा महिला बाल विकास विभाग की टीम की सराहना की है। महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री प्रफुल्ल खत्री ने बताया कि महिला एवं बाल विकास के अन्तर्गत लक्ष्य आधारित दो योजनाएं, जिसमें लाड़ली लक्ष्मी योजना तथा प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के लिए महिला एवं बाल विकास संचालनालय द्वारा वर्ष 2020-2021 में शत्-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है। इस उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए कलेक्टर ने महिला एवं बाल विकास विभाग की पूरी टीम को बधाई दी है।


कोविड-19 सेंटर के सुचारू संचालन के लिए ड्यूटी


जिला स्तर पर कोविड एवं कंट्रोल सेंटर ई-दक्ष कार्यालय कलेक्टर परिसर में सुचारू रूप से संचालित करने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने डाटा एंट्री कार्य के लिए कंप्यूटर ऑपरेटर एवं कार्यालय सहायकों की ड्यूटी लगाई है। कोविड कमाण्ड सेंटर में जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है उनमें श्री बाबूलाल मेवाड़ा कंप्यूटर ऑपरेटर, श्री मनीष नामदेव कंप्यूटर ऑपरेटर, श्री सचिन शर्मा कंप्यूटर ऑपरेटर, श्री राजेंद्र मेवाडा कंप्यूटर ऑपरेटर की ड्यूटी लगाई गई है। कोविड कमाण्ड एवं कंट्रोल सेंटर के संचालन के लिए जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री दीपक चौकसे को नोडल अधिकारी बनाया है।  


सीहोर शहरी क्षेत्र में 5 केन्द्रों पर होगा कोविड-19 का टीकाकरण, गंज, भोपाल नाका, मण्डी, तिलक पार्क क्षेत्र में बनाए गए नए टीकाकरण केन्द्र


निरंतर बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर नागरिकों की सुविधाओं के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र में 5 स्थानों पर कोविड-19 का टीका शुक्रवार 16 अप्रैल से  लगाया जाएगा। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.एम.चंदेल ने जानकारी दी कि टीकाकरण केन्द्र जिला चिकित्सालय स्थित लांड्री भवन के दो टीकाकरण केन्द्रों के अतिरिक्त गंज स्थित शासकीय सुभाष उच्च.माध्य.विद्यालय,तिलक पार्क स्थित शासकीय उत्कृष्ट उच्च.माध्य.विद्यालय (क्रमांक-1 स्कूल),  भोपाल नाका स्थित आवासीय खेलकूद संस्थान, मण्डी स्थित संजीवनी क्लिनीक में नए कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र बनाए गए है।   


चाइल्ड लाइन द्वारा रूकवाया गया एक बाल विवाह


चाइल्ड लाइन सीहोर द्वारा समय पर कार्यवाही करते हुए जिले में एक और बाल विवाह रुकवाया गया। चाइल्ड लाइन से प्राप्त जानकारी के अनुसार नाबालिक का विवाह होने की सूचना प्राप्त होने पर समन्वयक श्री राजेन्द्र सिंह द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग में श्री अनिल पोलाया को सूचना दी गई। इस सूचना पर चाइल्ड लाइन सीहोर, महिला एवं बाल विकास विभाग, थाना इछावर, एस.जे.पी.यू, और क्षेत्र की आंगनवाड़ी द्वारा संयुक्त कार्यवाही करते हुए बालिका के माता-पिता और परिजनों को बाल विवाह से होने वाली हानियां और कानूनी कार्यवाही की जानकारी दी गई। इस पर उन्होंने बालिका की शादी पूर्ण वयस्क होने तक नहीं करने की स्वीकृति दी।


22099 किसानों से 1 लाख 71 हजार 631 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी


जिले में आज 22099 किसानों से 1 लाख 71 हजार 631 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी जिले के उपार्जन केन्द्रो द्वारा की गई। अधिकारियो द्वारा उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण किया जा रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण करें और यह देखें की किसानों को फसल बेचने में किसी प्रकार की कोई भ्री असुविधा न हो।


जिले में 98 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 595


पिछले 24 घंटे के दौरान 98 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 24 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। संक्रमित व्यक्ति रेलवे कॉलोनी क्षेत्र, सुभाष नगर कॉलोनी, स्वदेश नगर, जिला चिकित्सालय क्षेत्र, एचपी गैस वितरण केन्द्र, तहसील चौराहा, कलेक्ट्रेट क्षेत्र, कस्बा, पुरानी जेल रोड क्षेत्र, वृंदावन कॉलोनी, श्रवण का बगीचा, गंगा आश्रम, हाउसिंग बोर्ड, यादव मोहल्ला, भोपाल नाका, चाणक्यपुरी, साईं कॉलोनी के निवासी हैं। इसी तरह आष्टा क्षेत्र से 20 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है जो पवन चौक कोठरी, कचनारिया, बजरंग कॉलोनी, कन्नोद रोड़, नजरगंज, ग्वाला, श्यामपुरा, चौपाटी, आष्‍टा, सुभाष नगर, इंदिरा कॉलोनी, विनायक कॉलोनी, अरनिया के निवासी हैं। इछावर अन्तर्गत दिवड़िया निवासी 1 व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। बुदनी क्षेत्र अन्तर्गत 36 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जो मधुबन, चेरगढ़, बुदनी के वार्ड नंबर 9, 4, 2, 10, 3, 8, 6, पीलीकरार, पातालखोह, बुदनी घाट, मरदानपुर, रतनपुर, वार्ड नंबर 7 एवं 15, रेहटी, सलकनपुर के निवासी हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 17 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो वार्ड नंबर 15, 14, 09, आईसीआईसीआई बैंक परिसर, सतराना, राधेश्याम कॉलोनी, लाड़कुई, डिमावर, गोपालपुर, विशाल कैंपस, वृंदावन कॉलोनी के निवासी हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 595 हैं। आज 63 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3243 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 51 है । आज 516 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 145, श्यामपुर से 90, विकासखंड नसरुल्लागंज से 70, आष्टा से 106 एवं बुदनी विकासखंड से 81 तथा इछावर से 24 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 3889 है जिसमें से 51 की मृत्यु हो चुकी है 3243 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 595 है। आज 516 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 90706 हैं जिनमें से 84859 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 640 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1887 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-226470 है। 1075 नंबर पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 9425400453, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं। 


कोविड केयर सेंटर में व्यक्तियों की सुविधा का समुचित ध्यान रखने के कलेक्टर ने दिए निर्देश

  • आवसीय खेलकूद परिसर में बनाया गया है ऑक्सीजन युक्त 50 बिस्तरों का कोविड केयर सेंटर
  • शासकीय कन्या परिसर छात्रावास इंदौर-भोपाल हाईवे पर बनाया गया है 102 बिस्तरीय कोविड केयर सेंटर

sehore news
जिले में बढ़ती कोरोना संख्या को नियंत्रित करने तथा कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों को आईसोलेट करने के उद्देश्य से 152 विस्तरों का जिला मुख्यालय सीहोर में  कोविड केयर सेंटर के बनाया गया है। इसमें 50 बिस्तरों का ऑक्सीजन युक्त कोविड केयर सेन्टर आवासीय खेलकूद परिसर तथा बिना ऑक्सीजन के 102 बिस्तरों का शासकीय कन्या परिसर भोपाल-इन्दौर हाई-वे पर बनाया गया है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने संबंधित अधिकारियों को इन कोविड कोविड केयर सेंटरर्स में बेहतर इंतजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को कोई परेशान न हो। उन्होंने कहा कि आवास के साथ भोजन आदि की समुचित व्यवस्था हो। उन्होंने कमरों में पलंग, गद्दे, चादर, टायलेट आदि साफ-सुथरे और व्यवस्थित रखने के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। मेडिकल स्टाफ के लिए आफिस और रेस्टिंग की व्यवस्था के भी निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि 24 घंटे मेडिकल स्टाफ उपस्थित रहेगा। स्टॉफ के लिए ऑफिस, दवाखाना तथा विश्राम के लिऐ पृथक कमरे की व्यवस्था हो। कोविड केयर सेंटर की जानकारी देते हुए तहसीलदार डॉ अमित सिंह ने बताया कि शासकीय कन्या परिसर स्थित कोविड केयर सेंटर में जरूरत पढ़न पर 200 बिस्तर और बढ़ाये जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि बिना ऑक्सीजन वाले कोविड केयर सेंटर में बिना लक्ष्णों वाले कोविड पेसेंट को रखा जाएगा। डॉ सिंह ने बताया कि कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार सभी तैयारियां कर ली गयी हैं।  


6 हजार 407 व्याक्तियों को लगा कोरोना का टीका


ख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। गुरुवार को जिले के 64 टीकाकरण केन्द्रों पर 6407 लोगों को कोविड का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया। लोग बड़ी संख्या में टीका लगवाने के लिए टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचे। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार आष्टा क़े 12 सत्रों में 1421 लोगों को टीका लगाए, बुदनी क़े 13 सत्रों में 757, इछावर क़े 10 सत्र में 1013, नसरूल्लागंज के 10 सत्रों में 1049 व्यक्ति, श्यामपुर क़े 17 सत्र में 1652 तथा अर्बन सीहोर PHC सहित जिला चिकित्सालय क़े 2 सत्रों में 515 व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: