सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 27 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 27 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 27 अप्रैल

कोरोना से डरने की नहीं, मुकाबला करने की जरूरत है


sehore news
डर, इंसान को कमजोर बना देता है और इसका स्वास्थ्य पर सीधा असर पड़ता है। कोरोना से डरने की नहीं है, बल्कि मुकाबला करने की जरूरत है। दुनिया में कई लोग ऐसे उदाहरण है जिन्होंने अपनी दृढ़ इच्‍छा शक्ति से बड़ी से बड़ी बीमारी को हराया है। यह कहाना है कोविड केयर सेंटर से आज डिस्चार्ज हुए सीहोर निवासी अशोक साहू का। अशोक साहू कहते हैं कि कई बार बीमारी छोटी होती है, लेकिन डर, घबराहट और परिजनों के अत्याधिक भावुकता के कारण मरीज संवेदनशील स्थिति में पहुंच जाते हैं। धैर्य पूर्वक और शांत रहकर सकारात्मका विचारों के साथ बिना देर किए इलाज कराएं तो कोरोनों को आसानी से हराया जा सकता है । अशोक साहू केन्द्रीय विद़यालय में शिक्षक हैं। आज वे कोविड केयर सेंटर से स्वास्थ्य होकर घर चले गये। उन्होंने बताया कि जब मुझे सर्दी, जुकाम और बुखर आया तो तुरंत जांच करवाया। जांच में कोरोना पॉजिटिव आने पर जरा भी विचलित हुए बिना देर किए भोपाल-इंदौर बायपस स्थित कोविड केयर सेंटर में भर्ती हो गया। इस कोविड केयर सेंटर में में जिला प्रशासन ने बहुत बेहतर व्यवस्थाएं की हैं। इलाज से लेकर भोजन और मरीजों के देखभाल के सारे इंतजाम बहुत बढ़िया हैं। स्वास्थ्य विभाग का पर्याप्त स्टॉफ है जो नियमित समय पर परीक्षण एवं दवाएं देने के साथ ही मरीजों का हौसला भी बढ़ाते हैं। स्वस्थ होकर घर जाते समय उन्होंने चिकित्सकों, चिकित्सा स्टॉफ और जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया।


हाथकरघा एवं हस्तशिल्प क्षेत्रों में योजना के क्रियान्वयन हेतु आवेदन 10 मई तक


हाथकरघा एवं हस्तशिल्प क्षेत्रों के लिए कौशल एवं तकनीकी विकास योजना 2021 के तहत हाथकरघा/हस्तशिल्प क्षेत्र में कार्यरत प्राथमिक बुनकर सहकारी समितियों, उद्यमियों, स्वसहायता समूहो, अशासकीय संस्थाओं से योजना के अन्तर्गत 10 मई 2021 तक आवेदन पत्र जिला हाथकरघा कार्यालय सीहोर में आमंत्रित किए गए हैं। जिसमें आवश्यक प्रशिक्षण, उपकरणों एवं समान्य सुविधा केन्द्र तथा रंगाई घर के निर्माण,मरम्मत के लिए सहायता दिए जाने का प्रावधान किया गया है। अधिक जानकारी के लिए जिला हाथकरघा कार्यालय से संपर्क किया जा सकता है।   


शासन ने केवल 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ कार्यालय संचालित करने के निर्देश पुनः जारी किए


कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ कार्यालय संचालन के निर्देश दिये गये हैं। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी विभाग प्रमुखों, कमिश्नर तथा कलेक्टर्स को 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ कार्यालय संचालित करने के निर्देश दिये हैं। जारी आदेश में कहा गया है कि अति आवश्यक सेवायें देने वाले विभागों तथा कार्यालयों को छोड़कर अन्य सभी कार्यालय में यह आदेश अनिवार्य रूप से पालन कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। अति आवश्यक सेवायें देने वाले कार्यालयों को छोड़कर अन्य कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति 10 प्रतिशत से अधिक न हो इसका ध्यान रखें।


विश्व कार्यस्थल सुरक्षा एवं स्वास्थ्य दिवस का महत्त्व


भोर की पहली किरण के साथ ही हर सामाजिक व्यक्ति प्रतिदिन एक नई और प्रगतिशील ऊर्जा समाहित करके अपने कार्यस्थल पर जाने के लिए उत्साहित रहता है। एक तरह से अच्छा ही है कि मानव कर्तव्यपरायणता और श्रमशीलता का जीता.जागता उदाहरण है और हमेशा बना रहेगा। किन्तु कार्य के प्रति उत्साहपूर्ण होना क्या कार्यस्थल की सुरक्षा सुनिश्चित करता हैए क्या हम कभी सोचते हैंए कि कार्य करने का स्थान असुरक्षित या असहज भी हो सकता है, क्या कार्यस्थल पर होने वाली दुर्घटनाओं पर कभी विचार किया है। सहज, सुरक्षित और अनुकूल कार्यस्थल के महत्वपूर्ण विषय को जन.जागरूकता के मंच पर लाना आवश्यक था, इसीलिए अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन इंटरनेश्नल लेबर ओर्गनाइजेशन ने व्यवसायिक दुर्घटनाओं के प्रति जागरूकता बढ़ाने और बीमारियों को रोकने के लिए विश्व कार्यस्थल सुरक्षा एवं स्वास्थ्य दिवस प्रत्येक वर्ष 28 अप्रैल को मनाने का निर्णय लिया। वर्ष 2003 से अब तक 28 अप्रैल को संयुक्त राष्ट्रए आईएलओ अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठनए समुदायों, व्यापारिक निकायों और संगठनों द्वारा विश्व कार्यस्थल सुरक्षा एवं स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है। कार्यस्थल पर स्वास्थ्य मानकों को बनाए रखनाए किसी दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना या बीमारी की रोकथाम इसके महत्वपूर्ण उद्देश्य हैं द्य अकाल मृत्यु की तरह फैली कोरोना महामारी के मद्देनजर स्वास्थ्यकर्मियों के लिए यह दिवस अत्यंत महत्त्वपूर्ण हो गया है। इस वर्ष की थीम है,  “Anticipate, Prepare and Respond to Crisis – Invest Now in Resilient Occupational Safety and Health System”. आंकड़ों के अनुसार प्रत्येक वर्ष कार्यस्थल पर होने वाली दुर्घटनाओं अथवा कार्यस्थल पर होने वाली बीमारियों के परिणामस्वरूप 2.3 मिलियन लोग मारे जाते हैं। ख़राब व्यावसायिक सुरक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं के कारण वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद पर भी इसका विपरीत असर पड़ता है। अनेक परिवारों की आजीविकाओं की हानि सहित अर्थव्यवस्था में अस्थिरता भी इसके दुष्परिणाम है। संयुक्त राष्ट्र ने भी इसका महत्त्व समझते हुए 25 सितंबर 2015 को सतत विकास लक्ष्यों हेतु अपनाए गये एजेंडा में सतत विकास लक्ष्य 8 को भी अपनायाए जिसके अनुसार समावेशी और स्थायी आर्थिक विकासए पूर्ण और उत्पादक रोजगार तथा सभी के लिए सभ्य कार्य की सुनिश्चितता शामिल हैं। वर्तमान परिपेक्ष्य में कोरोना महामारी के चलते हमें ध्यान रखना होगा कि जो लोग समाज को आज अपनी जान पर खेलकर और असुरक्षाओं के बीच हमारे प्राणों की रक्षा के लिए कार्यरत हैए हम उन्हें सहयोगए सरहना और सद्भाव भरा वातावरण प्रदान करें।


कोरोना के कारण अवसादग्रस्त व्यक्तियों के परिजनों को मनोवैज्ञानिक परामर्श, स्वास्थ्य विभाग की हेल्पलाइन सक्रिय


कोविड.19 कोरोना वायरस संक्रमण से उपजे संकट और कोरोना कर्फ्यू का प्रभाव व्यक्ति की जीवनशैली के साथ साथ मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ा है। इन परिस्थितियों में आमजन तनावग्रस्त और अवसादग्रस्त न हों इसके लिए मनोवैज्ञानिक परामर्श हेल्पलाइन की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग की हेल्पलाइन नंबर 18002330175 पर कॉल करके व्यक्ति मनोवैज्ञानिक परामर्श ले सकता है।  यह सुविधा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत संचालित की जा रही है। संस्थागत क्वारंटाइन या होम आइसोलेट किए गए व्यक्तियों और उनके परिजनों को भी इस सुविधा के जरिए अपनी मनोवैज्ञानिक परेशानी का समाधान विशेषज्ञों द्वारा प्राप्त हुआ है। कोरोना कर्फ्यू के कारण अकेलेपन या एक ही स्थान पर रहने के कारण अवसादग्रस्त हुए लोगों ने भी अपने मन की बात विशेषज्ञों से साझा की और उन्हें तनावमुक्ति के लिए उचित परामर्श दिया गया है। मनोवैज्ञानिक परामर्श हेल्पलाइन पर कॉल करने वाले लोगों के साथ कोरोना संक्रमण से बचाव के तरीके भी साझा किए जाते हैं। साथ ही उन्हें यह भी बताया जाता है कि संक्रमण से बचते हुए क्वारंटाइन या आइसोलेट किए गए व्यक्ति के साथ कैसे व्यवहार करना है। उन्हें समझाया जाता है कि इस समय हमें एक दूसरे के साथ और सहयोग कीआवश्यकता है और इसी से हम इस कोरोना महामारी को हरा सकते है।   


योग से होम आइसोलेशन मरीजों को मिलेगा स्वास्थ्य लाभ


sehore news

कोविड-19 से संक्रमित ऐसे मरीज जो होम आइसोलेशन में हैए उनका मनोबल बढ़ाने तथा स्वास्थ्य लाभ के लिये राज्य शासन द्वारा प्रारंभ किये गये "योग से निरोग" के तहत जिले के नगरीय तथा ग्रामीण क्षेत्रों में प्रशिक्षकों द्वारा योग एवं प्रणायाम कराया जा रहा है। आइसोलेशन मरीजों को योग करने के लिए प्रोत्साहित कर उनको योग के फायदे योग प्रशिक्षकों द्वारा बताये जा रहे हैं।


रिक्त पदों के लिये योग्य उम्मीदवारों से आवेदन पत्र आमंत्रित  


जिला रोजगार कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार इनलान मेडिकेअर, यूनिट 2, ग्राम खुरानिया, पोस्ट ऑफिस बिलकिसगंज में मध्यप्रदेश शासन के लिए अस्पताल बेड का निर्माण करती है। वर्तमान में कोरोना की स्थिति को देखते हुए उम्मीदवारों की आवश्यकता है। इस संस्था में CO2 वेल्डर के 20 पद जिसमें योग्यता 10 वी, आईटीआई वेल्डर, मैनुअल लेथ ऑपरेटर के लिए 04 पद योग्यता 10 वीं, आईटीआई, अनुभवी, CNC लेथ ऑपरेटर के 03 पद योग्यता 10 वीं, आईटीआई, अनुभवी एवं हेल्पर्स के लिए 40 पद रिक्त हैं योग्यता आठवीं तक होना चाहिए। सभी पदों में वेतन योग्यता अनुसार दिया जाएगा। योग्यताधारी इच्छुक आवेदक श्री लखन बाथम के मोबाईल नंबर-8871553750 पर सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक संपर्क कर सकते हैं।  


होम आइसोलेसन में मध्यप्रदेश को बनायें आइडियल - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • ऑक्सीजन का सुनियोजित वितरण करें

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि होम आइसोलेसन को इस प्रकार से सुनियोजित करें कि देश भर में आइडियल बने। मुख्यमंत्री श्री चौहान गत दिवस कोविड 19 की रोकथाम एवं व्यवस्थाओं के संबंध में कोर ग्रुप सदस्यों एवं अधिकारियों से वर्चुअल चर्चा कर रहे थे। चर्चा में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोविड की व्यवस्थाओं की जानकारी प्राप्त की। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि इंदौर एवं भोपाल में नए प्रकरणों में जहाँ कमी आई है वहीं ग्वालियर में कोविड के नए केस सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि जिन जिलों में एक सप्ताह में 50 से कम नए केस पंजीकृत हुए हैं, उनमें सबसे कम 13 केस उमरिया जिले में दर्ज किए गए हैं। किल कोरोना अभियान में दिखाए तेजी- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किल कोरोना अभियान पर अधिकारी एवं प्रभारी मंत्री तेजी से काम करें। उन्होंने कहा कि हमें यह प्रयास करना है कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर, उज्जैन एवं ग्वालियर में आक्सीजन एवं बेड की आपूर्ति एवं उपलब्धता को कैसे बढ़ाया जाए।सरकारी हॉस्पिटल के साथ प्रायवेट हास्पिटल में बिस्तरों की संख्या में किस प्रकार वृद्धि की जा सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना के ऑकड़ों को देखें तो यही समय है जब कोरोना को समाप्त किया जा सकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि होम आइसोलेटेड मरीजों के पास कोविड गाइड-लाइन के संबंध में एक पैम्फलेट किट के साथ पहुँचाए। होम आइसोलेसन के मरीजों से कोविड की प्रॉपर गाइड लाइन का पालन करवाया जाये। योग से होंगे निरोग- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि योग से निरोग अभियान में 2500 योग गुरूओं ने पंजीयन कराया है। आगामी कुछ दिनों में यह संख्या लगभग 5000 से अधिक होने की संभावना है। दवाओं के साथ होम क्वारेंटाइन मरीजों को योग का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा, जिससे उनकी ऑक्सीजन क्षमता में वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड केयर सेन्टर बनाए गए हैं। इन सेंटर का बेहतर से बेहतर इस्तेमाल करें। ग्रामीण क्षेत्रों में भी ग्रामीण महिलाओं ने स्वयं लोगों के आने-जाने पर रोक लगाई है। स्वत: कफर्यू भी अपने गाँवों में लगाये हैं। उन्होंने कहा कि शहरों में माइक्रो कन्टेन्टमेंट बनाएं। 11 नए ऑक्सीजन केन्द्र स्वीकृत- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि स्थानीय स्तर पर ऑक्सीजन प्लांट स्थापना का कार्य किया जा रहा है। अभी तक 6 ऑक्सीजन प्लांट क्रियाशील हो गए हैं। आगामी एक-दो दिन में चार प्लांट ओर शुरू हो जायेंगे। आज देवास, मंडला, दमोह, छतरपुर, होशंगाबाद, राजगढ़, शाजापुर, भिण्ड, सीधी, पन्ना एवं धार में भी पीएसए आधारित 11 नए ऑकसीजन प्लांट स्वीकृत किए गए हैं। इस तरह पीएसए आधारित कुल 63 प्लांटों का कार्य तेजी से प्रगतिरत है।


ऑक्सीजन टेंकर के लिए ‍रियल टाइम मैनेजमेंट करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि  ऑक्सीजन टैंकर के लिए रियल टाइम मैनेजमेंट का नियम बनाए। टैंकर बढ़ाने के लिए हमें प्रयास करना चाहिए। पिछले एक-दो दिन में स्थिति पहले से बेहतर हुई हैं। राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत ने सुझाव दिया कि गुना के विजयपुर स्थित गेल के पास ऑक्सीजन भी है और टैंकर भी, जिनका हमें उपयोग करना चाहिए। इस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को वस्तु-स्थिति से अवगत कराने के लिए कहा। चर्चा में मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने सुझाव दिया कि हमें आक्सीजन के सुव्यवस्थित वितरण पर ध्यान देना है। ऑक्सीजन हॉस्पिटल को कितनी दी गई, कितनी उसकी खपत हुई और उसका पूरा ऑडिट भी कराया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इंटरनल डिस्ट्रीब्यूशन का सिस्टम परफेक्ट होना चाहिए।


बिजली कार्मिकों को उपचार के लिए मिलेगा कोविड-19 चिकित्सा अग्रिम


मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के प्रबंध संचालक श्री गणेश शंकर मिश्रा ने कोविड-19 पीड़ित बिजली कंपनी के नियमित कार्मिकों को विषम एवं गंभीर परिस्थितियों में चिकित्सा उपचार की सुविधा मुहैया कराने के लिए "कोविड-19 चिकित्सा अग्रिम तत्काल सहायता योजना" स्वीकृत की है। कंपनी के नियमित कार्मिकों के लिए कोविड-19 से पीड़ित होने पर उन्हें चिकित्सा उपचार के लिए 3 लाख रूपये का अग्रिम तत्काल स्वीकृत किया जाएगा। यह चिकित्सा अग्रिम संबंधित कार्मिक की कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट, चिकित्सक की उपचार पर्ची एवं अस्पताल में भर्ती होने की सलाह संबंधी दस्तावेज प्रस्तुत करने पर स्वीकृत किया जाएगा। इसके लिए मैदानी स्तर पर क्षेत्रीय मुख्य महाप्रबंधक एवं कंपनी मुख्यालय में मुख्य महाप्रबंधक (मानव संसाधन एवं प्रशासन) को स्वीकृति के अधिकार दिए गए हैं। चिकित्सा अग्रिम प्राप्त करने वाले संबंधित कार्मिक को आदेश जारी होने की दिनांक से छः माह के भीतर चिकित्सा प्रतिपूर्ति देयक दस्तावेज के साथ प्रस्तुत करना होगा। यह योजना 24 अप्रैल से आगामी तीन माह के लिए लागू रहेगी। संविदा कार्मिकों को अधिकतम 70 हजार रूपये का अग्रिम- मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बताया है कि कंपनी कार्यक्षेत्र में कार्यरत संविदा कार्मिकों एवं उनके आश्रित परिवार के सदस्यों को कोविड-19 से पीड़ित होने पर चिकित्सा उपचार की सुविधा मुहैया कराने के लिए "कोविड-19 संविदा पारिश्रमिक अग्रिम योजना" स्वीकृत की गयी है। योजना के अंतर्गत संविदा कार्मिकों एवं उनके आश्रित परिवार के सदस्यों के लिए कोविड-19 से पीड़ित होने पर चिकित्सा उपचार के लिए दो माह का पारिश्रमिक (अधिकतम राशि 70 हजार रूपये) का अग्रिम स्वीकृत किया जाएगा। यह चिकित्सा अग्रिम संबंधित कार्मिक एवं परिवार के सदस्यों की कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट, चिकित्सक की उपचार पर्ची एवं अस्पताल में भर्ती होने की सलाह संबंधी दस्तावेज प्रस्तुत करने पर स्वीकृत किया जाएगा। इसके लिए संविदा कार्मिक के आहरण एवं संवितरण अधिकारी को राशि स्वीकृति के अधिकार दिए गए हैं। आहरित पारिश्रमिक की वसूली संबंधित संविदा कार्मिक के वेतन से समान छः किश्तों में प्राप्त की जाएगी। कार्मिक की संविदा अनुबंध अवधि छः माह से कम होने की स्थिति में अग्रिम राशि की वसूली तदनुसार शेष संविदा अवधि के पारिश्रमिक से समान किश्तों में की जाएगी। यह योजना 24 अप्रैल से आगामी तीन माह के लिए लागू रहेगी।


गरीब परिवार को तीन माह में 25 किलो ग्राम खाद्यान्न प्रति व्यक्ति के मान से नि:शुल्क मिलेगा


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गरीब परिवारों को राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क दिये जाने वाले खाद्यान्न के साथ ही केन्द्र सरकार से प्राप्त 10 किलो खाद्यान्न का वितरण भी किया जाए। इस तरह परिवार के प्रत्येक सदस्य के मान से 25 किलोग्राम अनाज तीन माह में गरीबों को नि:शुल्क प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ प्रत्येक पात्र व्यक्ति को मिले इसके लिए व्यापक स्तर पर जन-जागृति के कार्य किए जायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान गत दिवस मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्‍फ्रेंस से गेहूँ उपार्जन कार्य की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संक्रमण चुनौती के काल में खाद्य विभाग और सहकारिता क्षेत्र के कर्मचारियों अधिकारियों के उत्कृष्ट कार्यों की सराहना करते हुए उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि जो हितग्राही अप्रैल-मई माह का अनाज ले गए हैं उनको जून माह में अतिरिक्त आंवटन की पूर्ति की जाए। श्री चौहान ने गेहूँ उपार्जन कार्य की व्यवस्थाओं की प्रशंसा करते हुए परिवहन कार्य में और अधिक गति लाने के प्रयास करने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उपार्जन एवं राशन वितरण व्यवस्थाओं में संक्रमण से बचाव की सावधानियों का पूरी गम्भीरता से पालन होना चाहिए। राशन वितरण में बॉयोंमेट्रेक्सि व्यवस्था से छूट दी जाए। मास्क पहनने और सेनेटाइजेशन की व्यवस्थाओं का कड़ाई से अनुपालन हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान को बताया गया कि खरीदी की अवधि बढा़ने और पोर्टल को शनिवार को खुला रखने के कार्य किए गए हैं। जिन खरीदी केन्द्रों में 5 मई तक खरीदी होनी थी, वहां अब 15 मई तक खरीदी का कार्य किया जाएगा। इसी तरह 15 मई तक खरीदी केन्द्रों में 25 मई तक खरीदी होगी। इसी तरह खरीदी केन्द्रों की क्षमता के अनुसार एसएमएस भेजे जा रहे हैं ताकि केन्द्रों पर भीड़ एकत्र नहीं हो। उनको बताया गया कि प्रदेश में खरीदी की मात्रा के अनुसार बारदाने उपलब्ध हैं। प्रदेश में कुल सत्यापित 24 लाख 65 हजार सत्यापित किसानों में से 16 लाख 5 हजार किसानों को एसएमएस भेजे गए हैं। इनमें से 7 लाख 32 हजार किसानों से 10 हजार 596 करोड़ रूपए का 53 लाख 69 हजार मीट्रिक टन खाद्यान्न की खरीदी हो चुकी है। किसानों को 6 हजार 683 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है। भुगतान 5 दिवस की अवधि में किया जा रहा है। प्रदेश में 4 हजार 588 खरीदी केन्द्रों द्वारा खरीदी का कार्य किया जा रहा है। सभी 94 सेक्टरों में उपार्जन ऐंजेंसी द्वारा परिवहनकर्ता नियुक्त हैं।  


रिकवरी रेट बढ़ने से मध्यप्रदेश देश में 11वें नंबर पर आया


प्रदेश में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या दिनोदिन बढ़ रही है। प्रदेश की रिकवरी दर 26 अप्रैल को 80.91 प्रतिशत रही। अब तक 5 लाख 11 हजार 990 कोविड केसेस में से 4 लाख 14 हजार 235 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। गत 21 अप्रैल को एक्टिव केसेस की संख्या के हिसाब से मध्यप्रदेश देश में सातवें नंबर पर था, जो अब और बेहतर होकर 11वें नंबर पर आ गया है। वर्तमान में कुल एक्टिव प्रकरणों में से 72 प्रतिशत मरीज होम आइसोलेशन में और 28 प्रतिशत मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। कोरोना मरीजों को बेहतर सुविधाएँ उपलब्ध करवाने के लिये सरकारी और निजी अस्पतालों को मिलाकर बिस्तरों की संख्या बढ़कर 53 हजार 163 हो गई है। कुल बिस्तरों में से 71 प्रतिशत बिस्तर भरे हुए हैं। वर्तमान में 86 प्रतिशत  ऑक्सीजन बेड, 94 प्रतिशत आईसीयू बेड और 44 प्रतिशत सामान्य बेड भरे हैं। कोरोना संक्रमण की जाँच के लिये 29 टेस्टिंग लैब्स कार्य कर रही हैं। रविवार 25 अप्रैल को 54 हजार 982 टेस्ट किये गये। सभी जिलों में सैम्पल लेने के लिये मोबाइल टीमों ने भी टेस्टिंग का काम शुरू कर दिया है। राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे चहुँमुखी प्रयासों से कोरोना की पॉजिटिविटी दर लगातार कम हो रही है और रिकवरी दर निरन्तर बढ़ रही है। गत शुक्रवार 23 अप्रैल को रिकवरी दर 80.41 प्रतिशत, 24 अप्रैल को 80.56 प्रतिशत, 25 अप्रैल को 80.64 प्रतिशत और 26 अप्रैल को रिकवरी दर 80.91 प्रतिशत रही है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि समन्वित प्रयासों, प्रबंधन एवं चिकित्सकीय सुविधाओं की बढ़ोत्तरी से प्रतिदिन स्वस्थ और संक्रमण मुक्त होने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। दिनांक 21 अप्रैल को 9035, 22 अप्रैल को 9620, 23  अप्रैल को 10 हजार 833, 24 अप्रैल को 11 हजार 91, 25 अप्रैल को 11 हजार 324 और 26 अप्रैल 11 हजार 612 कोरोना मरीज संक्रमण मुक्त होकर सकुशल अपने घर पहुँचे हैं। प्रदेश में एक दिन में जितने लोग स्वस्थ हुए हैं, उनमें से 84 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं जो होम आइसोलेशन में थे और 2 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं जो कोविड केयर सेंटर में थे। इस प्रकार लगभग 86 प्रतिशत मरीज ऐसे हैं, जो अस्पताल जाए बिना ही स्वस्थ हो रहे हैं। होम आइसोलेशन- प्रदेश के कोविड मरीजों में से 72 प्रतिशत होम आइसोलेशन में हैं। राज्य सरकार का प्रयास है कि ये लोग होम आइसोलेशन में ही ठीक हो जायें, जिससे अस्पताल जाने की नौबत ही न आये। होम आइसोलेशन वाले 99 प्रतिशत मरीजों से दूरभाष पर कम से कम एक बार संपर्क किया जा रहा है। साथ ही ई-संजीवनी पोर्टल के माध्यम से इन्हें आवश्यकतानुसार कॉल पर चिकित्सकीय परामर्श भी प्राप्त हो रहा है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन में रहने वाले शत-प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट और हेल्थ ब्रोशर की होम डिलेवरी की जा रही है। कोविड केयर सेंटर्स प्रदेश के 52 जिलों में 174 कोविड केयर सेंटर्स प्रारंभ किये जा चुके हैं, जिनमें मंद लक्षणों वाले रोगियों को रखा जा रहा है। इनमें वर्तमान में कुल 12 हजार 864 बेड्स हैं। इनमें से 634 ऑक्सीजन बेड्स स्थापित किए गए हैं। कोविड केयर सेंटर्स में शत-प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट प्रदाय की जा रही है। जिस कोविड केयर सेंटर में 50 प्रतिशत या उससे अधिक बिस्तर भर रहे हैं, वहाँ नए कोविड केयर सेंटर स्थापित करने के निर्देश दिये गये हैं। प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक कुल 20 हजार 411 संस्थागत क्वारेंटाईन सेंटर्स बनाये जा चुके हैं, जिनमें लगभग 2 लाख 50 हजार से अधिक बेड्स स्थापित किए गए हैं। एक अप्रैल को प्रदेश में उपलब्ध बेड्स की कुल संख्या 20 हजार 159 थी, जो आज बढ़कर 53 हजार 163 हो गई है। इस प्रकार पिछले 25 दिनों में लगभग 32 हजार बेड्स बढ़ाए गए हैं। सागर जिले में बीना रिफाइनरी के निकट ऑक्सीजन सुविधा युक्त 1000 बिस्तर का अस्थाई अस्पताल बनाया जा रहा है। प्रदेश के अस्पतालों में बेड्स की उपलब्धता और इलाज के पैकेज की रीयल टाइम सही जानकारी आम जनता को उपलब्ध कराने के लिये एक नया एप और एक वेबसाइट लाँच की गई है। इसके साथ ही टोल फ्री नंबर 1075 को भी इस कार्य के लिये अपग्रेड किया गया है। टीकाकरण अब तक प्रदेश के हेल्थ वर्कर्स, फ्रंट लाईन वर्कर्स, वरिष्ठ नागरिक एवं 45 वर्ष से अधिक के लगभग 79 लाख 18 हजार से अधिक लोगों का टीकाकरण हो चुका है। दिनांक 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का निरूशुल्क टीकाकरण योजनाबद्ध रूप से प्रारंभ किया जाएगा। प्रदेश के 3 करोड़ 22 लाख से अधिक नागरिकों को टीका लगेगा। राज्य सरकार इस कार्य पर लगभग 2,710 करोड़ रुपये खर्च करेगी। कोविडशील्ड वैक्सीन के 45 लाख डोज का कार्यादेश जारी कर दिया गया है।


PRO SEHORE

जिला जनसंपर्क कार्यालय


सीहोर, मध्यप्रदेश


समाचार


जिले में 180 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले


वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 1232


2 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु, मृतकों की कुल संख्या 82


सीहोर 27 अप्रैल,2021


            पिछले 24 घंटे के दौरान 180 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहरी क्षेत्र के 44 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जो नेहरु कॉलोनी, स्वामी नारायण मंदिर, डीडी स्टेट, गल्ला मंडी, लेबर कॉलोनी, पुराना बस स्टेण्ड, आराकस मोहल्ला, कस्बा, लीसा टॉकिज, संजय नगर, अवधपुरी, सुदामानगर, गंज, कंचन विहार, वावड़िया, बड़ी ग्वालटोली, गंगा आश्रम, जयंती कॉलोनी, चाण्क्युपरी, अंबेडकर नगर, रवि बिल्ला, पारस विहार, पल्टन एरिया, राजौरिया मोहल्ला, इंग्लिशपुरा, बड़ियाखेड़ी, पॉपर हाउस चौराहा के निवासी हैं


            इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 12 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो सेमनपानी, गोपालपुर, लाड़कुई, बलड़ी, टीकामोड़, बोरखेड़ा, राला, सोयत वार्ड नंबर, बालागांव, छिदगांव, सतराना, नसरुल्लागंज जेल कॉलोनी, के निवासी हैं।


      श्यामपुर अन्तर्गत 13 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो खजूरियाकला, बिजोरी, दोराहा, नयापुरा, चरनाल, जमोनिया, मोहाली, श्यामपुर, खारी, बिलकिसगंज, कुलांसकला, गुड़भेला, करोड़िया के निवासी हैं। बुदनी क्षेत्र से 18 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जो बुदनी के वार्ड नंबर 12, 01, 08, 06, 02, 03, 07, पीलीकरार, जावड़िया, ग्वाड़िया, महुकला, हालियाखेड़ी बोरदी, वर्धमान कॉलोनी, रेहटी, नांदनेर, ट्रैक्टर प्रशिक्षण केन्द्र बुदनी, शाहगंज, खेरीसिलेगना, जहाजपुर, हीरापुर, वार्ड नंबर 12 रेहटी के निवासी हैं।     


      आष्टा क्षेत्र से 73 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो जावर थाना एरिया, अरनिया जोहरी, ताजपुरा, खजूरिया, अरनियाराम, मूड़ला, खदोरापुर, बड़ा बाजार, सिकंदरपुर, कोसमी, महोड़िया, खामलिया, खामखेड़ा जत्रा, बजरंग कॉलोनी, वावड़ी, डोराबाद, विनायक क्षेत्र, कन्नोदपुरा, कॉलोनी चौराहा, चंदन नगर, जसमत, पुराना दशहरा मैदान, मीरपुरा, सिद्धिकगंज, रतनखेड़ा, भोपाल नाका, अलीपुर, मैना, विवेकानंद कॉलोनी, जताखेड़ा, शोभाखेड़ी, ईदगाह मार्ग, धाकनी, शांतिनगर, हथियाखेड़ा, सेकड़ापुरा, आदर्श कॉलोनी, मुगली, हाथीखाना, श्रीराम कॉलोनी, नवरंगपुरा, पखली, भूपोड़, हरनावदा, कन्नोद रोड़, वार्ड नंबर 12, रसूलपुरा, मैन रोड़ आष्टा, बालाखेड़ा के निवासी हैं। इछावर क्षेत्र अन्तर्गत 20 व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है जो इछावर के वार्ड नंबर 09, 10, 05, 12, 14, 07, 06, झालकी, वीरपुर डेम, गड़िया, कोनाझिर, पांगरा, अतरालिया, पीलूखेड़ी, नीलबड़ के निवासी हैं।      


      पिछले 24 घंटे के दौरान 02 कोरोना पॉजिटिव की उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) से 2 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। मृतकों में दोनों पुरुष शामिल हैं।


सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 1232 हैं। आज 324 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 4766 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 82 है ।


आज 758 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 103, श्यामपुर से 111, विकासखंड नसरुल्लागंज से 129, आष्टा से 130 एवं बुदनी विकासखंड से 187 तथा इछावर से 98 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 6080 है जिसमें से 82 की मृत्यु हो चुकी है 4766 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 1232 है। आज 758 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 100462 हैं जिनमें से 93382 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 747 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 929 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है।


      जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 7987652577, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।     


कोरोना संक्रमण को रोकने गॉव-गॉव में जागरूकता की अलख जगा रहे कोरोना वॉलेंटियर्स


sehore news
जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर "मै भी कोरोना वॉलेंटियर" अभियान के तहत मप्र जन अभियान परिषद के कोरोना वॉलेंटियर्स गॉव-गॉव में जनजागरूकता की अलख जगा रहे हैं। कोरोना वॉलेंटियर्स गॉवों में दीवार लेखन, पोस्टर सहित अन्य गतिविधियों के माध्यम से लोगों को कोरोना कर्फ्यू का पालन करने तथा घरों में ही रहने की समझाईश दे रहे हैं। साथ ही मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और समय-समय पर साबुन से हाथ धोने की भी समझाईश दे रहे हैं, जिससे कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। कोरोना वॉलेंटियर्स ग्रामीणों के मन में व्याप्त वैक्सीन से जुड़ी भ्रांतियों को दूर कर न सिर्फ उन्हें कोविड वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित कर रहे हैं, बल्कि उन्हें स्वास्थ्य केन्द्रों तक ले जाकर वैक्सीन लगवाने में भी मदद कर रहे हैं। कोरोना वॉलेंटियर्स प्रचार-प्रसार की विभिन्न गतिविधियों के साथ ग्रामीणों तक संदेश पहुँचा रहे हैं कि यदि मास्क नहीं पहनोगे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करोगे, तो कोरोना हो सकता है। इसलिए जब भी घर से बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगाएं। ग्रामीणों के मन में वैक्सीनेशन को लेकर अलग-अलग भ्रांतियां हैं। कोरोना वॉलेंटियर्स द्वारा ग्रामीणों से सहज और सरल रूप से संवाद कर इन भ्रांतियों को दूर किया जा रहा है। वालेंटियर्स द्वारा मास्क नहीं लगाने वाले लोगों को निःशुल्क मास्क का वितरण करते हुए अपील की जा रही है कि कोरोना के खिलाफ मास्क हमारा सुरक्षा कवच है, इसे जरूर पहनें।  


कुल 81 व्यक्तियों को लगा कोरोना का प्रथम एवं द्वितीय टीका


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। मंगलवार को शहरी सीहोर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहित जिला चिकित्सालय क़े 1 सत्र में कुल 81 व्यक्तियों को कोविड का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया।


28 अप्रैल को सीहोर शहरी क्षेत्र के पांच केन्द्रों पर लगेगा कोविड का टीका


निरंतर बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर नागरिकों की सुविधाओं के लिए बुधवार 28 अप्रैल को सीहोर शहरी क्षेत्र में जिला चिकित्सालय स्थित लाण्ड्री भवन सहित पांच स्थानों पर टीकाकरण किया जाएगा। जिन टीकाकरण केन्द्रों पर टीकाकरण होना है उनमें गंज शासकीय सुभाष हॉयर सेकेण्डरी स्कूल सीहोर, मण्डी स्थित संजीवनी क्लिनीक, आंगनबाडी भवन शीतल विहार सीहोर,  आंगनबाडी भवन दशहरा वाला बाग वार्ड नंबर 03 सीहोर पर कोविड-19 का टीका लगाया जाएगा। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.एम.के.चंदेल ने जानकारी दी कि इन टीकाकरण केन्द्रों पर  45 वर्ष से अधिक आयु के ऐसे समस्त नागरिक जिनका जन्म ( 01 जनवरी 1977 के पूर्व हुआ हो ) वे सभी टीकाकरण स्थल पर पहुंचकर टीका लगवा सकते है। इन केन्द्रों पर प्रातः 9.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक टीकाकरण किया जाएगा।  

कोई टिप्पणी नहीं: