बिहार : नाक रगड़ बिहारवासियों से माफ़ी माँगनी चाहिए : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 20 अप्रैल 2021

बिहार : नाक रगड़ बिहारवासियों से माफ़ी माँगनी चाहिए : तेजस्वी

tejaswi-attack-nitish-on-covid
पटना : बिहार में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता ही जा रहा है। वहीं बढ़ते संक्रमण के बीच राजधानी पटना के डॉक्टर अस्पतालों में बेड की कमी हो रही है। इस बीच राज्य के बिगड़ते हुए स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर से सरकार पर हमला बोला है। दरअसल, तेजस्वी यादव ने बिहटा के ईएसआईसी को कोविड अस्पताल बनाने के लिए राज्य सरकार के लेटर दिए जाने के 10 दिन बाद भी डीआरडीओ से मंजूरी नहीं मिलने को लेकर राज्य के सांसदों और विधायकों पर जमकर भड़ास निकाली है। तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा है कि बिहार के 40 में से 39 NDA सांसदों और 5 केंद्रीय मंत्रियों को नाक रगड़ बिहारवासियों से माफ़ी माँगनी चाहिए कि इस संकट की घड़ी में वो जनता के किसी भी काम नहीं आ सकते। केंद्र सरकार गुजरात, UP में DRDO, रक्षा मंत्रालय इत्यादि के माध्यम से ऑक्सीजन, डॉक्टर की व्यवस्था कर रही है लेकिन बिहार की नहीं। इसके साथ ही तेजस्वी ने लिखा है कि क्या नीतीश कुमार ड़बल इंजन सरकार जनित स्वास्थ्य आपदा के वक्त भी केंद्र सरकार से जरुरी मदद नहीं माँग सकते या केंद्र उनकी हैसियत और साख देख सहायता नहीं कर रहा? नीतीश जी, स्थिति स्पष्ट करे। बिहार NDA के कुल 48 सांसद क्या झाल बजा रहे है? क्या छुपकर चुप रहने के लिए जनता ने चुना था? मालूम हो कि बिहार में मरीजों को भर्ती करने के लिए अस्पतालों में बिस्तर की कमी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में डीआरडीओ ने जिस तरह से राज्य सरकार की मांग को दस दिनों से ठंडे बस्ते में डाल दिया है, वह समझ से परे है। अब देखना यह है कि बिहार में ईएसआईसी और मेदांता को कोविड अस्पताल बनाने के लिए राज्य सरकार की तरफ से की जा रही मांग को कब पूरा किया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं: