गोवा में ऑक्सीजन की कमी से 13 कोविड मरीजों की जान गईं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 14 मई 2021

गोवा में ऑक्सीजन की कमी से 13 कोविड मरीजों की जान गईं

13-died-in-goa-oxygen-shortage
पणजी, 14 मई, गोवा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में शुक्रवार तड़के ऑक्सीजन की कमी से कोरोना वायरस संक्रमित कम से कम 13 लोगों की जानें गयीं। इसके साथ ही राज्य में पिछले चार दिनों में मृतकों का आंकड़ा 75 तक पहुंच गया। पूर्व मंत्री एवं गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) अध्यक्ष विजय सरदेसाई ने कहा कि तड़के दो से छह बजे तक चार घंटे मुश्किल की घड़ी रही। उन्होंने कहा, “ गोवावासी तबाह हो गए और दिल टूट गए हैं, राज्य में कल रात दो बजे से सुबह छह बजे तक बहुत मुश्किल की घड़ी रही और इस दौरान ऑक्सीजन की कमी के कारण 13 लोगों की मौत हो गयी। हमें सिर्फ जांच की कार्रवाई चाहिए न कि एक और समिति की।” पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, “राज्य में शासन व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गयी है। हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बावजूद इस मुश्किल घड़ी में लोगों की मौत हो रही है। सरकार के बजाय, उच्च न्यायालय को गोवा पर शासन करना चाहिए क्योंकि सरकार फोटो सेशन के अलावा और कुछ नहीं कर रही है और वह मामलाें को उजागर करने वालों के खिलाफ सिर्फ प्रकरण दर्ज कर रही है।” राज्य में जहां 10 मई को चार घंटों में 10 लोगों की मौत हो गयी, 11 मई को भी ऑक्सीजन की कमी के कारण 21 लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा। गोवा में बॉम्बे हाई कोर्ट ने सरकारी एजेंसियों को खराब कोविड प्रबंधन और ऑक्सीजन की आपूर्ति के गलत प्रबंधन के मुद्दे पर सरकार की गंभीर स्वास्थ्य सुविधा को जिम्मेदार ठहराया था, लेकिन इसके बावजूद लोगों की मौत नहीं रुक पाई और 12 मई को 15 और 13 मई को 13 और लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गयी। गोवा युवा कांग्रेस के अध्यक्ष वरद मडोलकर ने कहा कि पिछले 14-15 दिनों से राज्य में ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा छाया रहा, लेकिन सरकार ने इसके लिए कोई कदम नहीं उठाए।

कोई टिप्पणी नहीं: