समझौता वार्ता शीघ्र समाप्त करने का प्रयास होगा : पीयूष गोयल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 मई 2021

समझौता वार्ता शीघ्र समाप्त करने का प्रयास होगा : पीयूष गोयल

soon-talk-will-finish-goyal
नई दिल्ली 08 मई, केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को कहा कि भारत और यूरोपीय संघ एक संतुलित, महत्वाकांक्षी, व्यापक और पारस्परिक रूप से लाभकारी व्यापार समझौते और समानांतर रूप से एक निवेश संरक्षण समझौते की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। श्री गोयल ने भारत-यूरोपीय संघ बिजनेस राउंडटेबल के समापन सत्र को आनलाइन संबोधित करते हुए भारत और यूरोपीय संघ के नेताओं द्वारा द्विपक्षीय मुक्त व्यापार और निवेश समझौतों के लिए वार्ता की बहाली पर आज की घोषणा पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि भारत और यूरोपीय संघ एक संतुलित, महत्वाकांक्षी, व्यापक और पारस्परिक रूप से लाभप्रद व्यापार समझौते और एक समानांतर ट्रैक पर एक अलग निवेश संरक्षण समझौते की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और साथ ही दोनों समझौतों के शीघ्र समापन के लिए एक साथ प्रयास करेंगे। ये दोनों समझौते व्यापार, निवेश, रोजगार सृजन, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और नवाचारों के द्विपक्षीय प्रवाह को बढ़ाने के साथ आर्थिक संबंधों को एक और स्तर तक ले जाने वाले हैं। ये अलग-अलग समझौते होंगे और एक समानांतर बातचीत की जाएगी। उन्हें एक साथ समाप्त करने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। श्री गोयल ने कहा कि कोविड महामारी के बावजूद भारत को अपने इतिहास में अब तक का सबसे अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त हुआ, जबकि दुनिया भर में निवेश नीचे गिर गया। उन्होंने कहा कि भारत में निवेश सुरक्षित हैं। हमारे पास एक बहुत मजबूत न्यायपालिका और कानून के शासन के लिए सम्मान है, सभी निर्णय लेने में पारदर्शिता, राजनीतिक स्थिरता, आईपीआर संरक्षण। भारत में टेक्नोलॉजी ट्रांसफर करने के लिए किसी भी कंपनी की मजबूरी नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं: