तीन नौसैनिक पोत विदेशों से लेकर आये ऑक्सीजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 मई 2021

तीन नौसैनिक पोत विदेशों से लेकर आये ऑक्सीजन

three-navy-ship-carry-oxygen
नयी दिल्ली 10 मई, कोरोना महामारी के बढते प्रकोप के कारण देश में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए चलाये जा रहे अभियान के तहत नौसेना के तीन समुद्री पोत कतर और सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंक, सिलेंडर और अन्य जरूरी उपकरण लेकर आज स्वदेश पहुंचे। आईएनएस कोलकाता ने न्यू मंगलौर , आईएनएस त्रिकंद ने मुंबई और आईएनएस ऐरावत ने विशाखापत्तनम में लंगर डाला। ये तीनों नौसेना के उन नौ जलपोतों में शामिल हैं जो दक्षिण पूर्व एशिया और फारस की खाड़ी से तरल ऑक्सीजन और उससे जुड़े मेडिकल उपकरणों को मित्र देशों से लेकर आ रहे हैं। आईएनएस ऐरावत सिंगापुर से प्राप्त आठ क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंक, 4000 ऑक्सीजन सिलेंडर और अन्य जरूरी चिकित्सा उपकरणों को लेकर विशाखापत्तनम पहुंचा। आईएनएस त्रिकंड को कतर के हमाद बंदरगाह से लिक्विड ऑक्सीजन लाने के लिए भेजा गया था। जहां से वह 40 टन तरल ऑक्सजीन लेकर मुंबई पहुंचा है। यह सामग्री कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत के समर्थन के लिए फ्रांस द्वारा शुरू की गई “ऑक्सीजन मैत्री सेतु” का हिस्सा है। आईएनएस कोलकाता 400 बॉटल ऑक्सीजन, तरल मेडिकल ऑक्सीजन से भरे दो 27 टन वाले कंटेनर और 47 कंसंट्रेटर के साथ न्यू मैंगलोर बंदरगाह पर पहुंचा जो कतर और कुवैत में खड़े थे। इसके अलावा दो युद्धपोत कुवैत से भारत आ रहे हैं और एक युद्धपोत चिकित्सा सामग्री लेकर ब्रुनेई से आ रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: