मधुबनी : जमानत की शर्त, पांच बच्चों को निःशुल्क देना होगा शिक्षा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 18 जुलाई 2021

मधुबनी : जमानत की शर्त, पांच बच्चों को निःशुल्क देना होगा शिक्षा

bail-on-five-children-education-responsiblity
मधुबनी : जिले के झंझारपुर के एडीजे अविनाश कुमार (प्रथम) के कोर्ट ने उपकारा में बंद एक निजी स्कूल के शिक्षक का सशर्त जमानत याचिका मंजूर किया है। कोर्ट ने जमानत पर रिहा करने के लिए बंदी शिक्षक को पांच गरीब परिवार के बच्चों को पहली से पांचवीं क्लास तक मुफ्त शिक्षा देने की शर्त रखा है। यह आदेश अपने आप में झंझारपुर कोर्ट के लिए नजीर बन गया है। कोर्ट के शर्तों को सुन आरोपित शिक्षक ही नहीं आम अवाम के बीच भी कानून का सुनहला रुप सामने आया है। एडीजे कोर्ट द्वारा लगाई गई शर्तों की काफी प्रशंसा हो रही है। अंधरामठ थाना ने 20 अप्रैल 21 को कांड सं-46/2021 दर्ज किया गया था। यह मामला कोविड काल के लॉकडाउन में स्कूल खोले जाने को लेकर दर्ज किया गया था। इस मामले में लौकही के बीडीओ रीतम कुमार चौहान के आवेदन पर लौकही में चलाए जा रहे एक निजी स्कूल के प्र‍िंसिपल हेमनारायण भारती उर्फ हेमनारायण यादव को आरोपित करते हुए बताया गया था कि लॉकडाउन में चलाए जा रहे स्कूल को बंद कराने के लिए जब पुलिस पहुंची तो पुलिस के साथ आरोपित के द्वारा दुव्र्यवहार एवं धक्का मुक्की की गई। इस मामले में 20 अप्रैल से ही हेमनारायण भारती जेल में बंद है। आरोपित की ओर से पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता लक्ष्मेश्वर प्रसाद स‍िंंह ने एडीजे कोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल करते हुए बताया था कि आरोपित शिक्षक बीपीएससी का पीटी परीक्षा पास कर चुका है। अगर उसे जमानत पर रिहा नहीं किया गया तो उसका भविष्य अंधकार में चला जाएगा। अधिवक्ता के दलीलों को सुनने के बाद एडीजे अविनाश कुमार प्रथम ने दस हजार का दो मुचलका जमा करने के साथ ही आरोपित शिक्षक को पांच गरीब बच्चों को पहली से पांचवीं तक मुफ्त शिक्षा देने के बाद उनके स्वजन से प्रमाण-पत्र लेकर कोर्ट में जमा करने की शर्त पर जमानत अर्जी मंजूर करते हुए उसे रिहा करने का आदेश दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं: