दरभंगा : लनामिवि समाजशास्त्र विभाग के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर जी,एन चौधरी का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 11 जुलाई 2021

दरभंगा : लनामिवि समाजशास्त्र विभाग के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर जी,एन चौधरी का निधन

  • डॉ चौधरी के निधन से समाजशास्त्र परिवार को अपूरणीय क्षति : विनोद चौधरी                                           

prof-g-n-chaudhry-passes-away
दरभंगा 11 जुलाई। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय समाजशास्त्र विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष जाने-माने समाज शास्त्री डॉक्टर गिरींद्र नाथ चौधरी  का आज सुबह 4:00 बजे पटना के पारस हॉस्पिटल में निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे तथा किडनी के रोग से पीड़ित थे। उनके निधन की खबर से पूरे बिहार के समाजशास्त्र परिवार में दुःख की लहर फैल गई है। डॉ चौधरी रजोरराज् के राजा तक नाथ चौधरी के पौत् थे। जो पाकिस्तान में पड़ता है। भारत-पाकिस्तान के बीच बंटवारे के समय ऐ लोग जान बचाकर खाली हाथ अपने दुर्गागंज मौजे (पूर्णिया) चले आए। सरल एवं मधुर व्यक्तित्व के डॉक्टर गिरींद्र नाथ चौधरी ने पटना एवं रांची विश्वविद्यालय से m.a. की पढ़ाई पूरी की तथा 70 के दशक में इनकी नियुक्ति समाजशास्त्र विभाग मे व्याख्याता के पद पर स्थानीय सी एम कॉलेज दरभंगा में हुई। मिथिला विश्वविद्यालय में   समाजशास्त्र की पढ़ाई शुरू होने पर इनका स्थानांतरण विभाग में कर दिया गया। डॉ चौधरी अपने पीछे पत्नी, 1 पुत्र एवं दो पुत्री को छोड़ गए हैं। इनका पुत्र अमेरिका में वैज्ञानिक है एवं शोध कार्य में लगा है। दोनों पुत्री की शादी हो चुकी है। बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य एवं समाजशास्त्र के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने इनके निधन पर कहा है कि यह न सिर्फ हमारे शिक्षक थे बल्कि अभिभावक थे। पूरे मिथिलांचल में समाजशास्त्र के विकास में इनकी अहम भूमिका रही। इनके निधन सेसमाजशास्त्र परिवार को एवं मुझे व्यक्तिगत क्षति पहुंची है। विश्वविद्यालय समाजशास्त्र विभाग के वर्तमान अध्यक्ष गोपी रमन प्रसाद सिंह पूर्व अध्यक्ष डॉ नागेंद्र कुमार सीएम कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ विश्वनाथ झा समाजशास्त्र के पूर्व अध्यक्ष डॉ विद्या नाथ मिश्र संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व अधिकारी डॉक्टर श्रवनचौधरी, समाजशास्त्री विद्यानाथझा समाजशास्त्री डॉ प्रभात चौधरी, डॉक्टर शंकरलाल करण सहित दर्जनों बुद्धिजीवियों ने इनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है।जबलपुर विश्वविद्यालय एवं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के पूर्व विभागाध्यक्ष क्रमशः डॉक्टर सी एस एस ठाकुर एवं रवि प्रकाश पांडे ने भी अपना दुख प्रकट किया है। उल्लेखनीय है कि अवकाश प्राप्त करने के बाद डॉक्टर गिरींद्र नाथ चौधरी ने अपने निजी पुस्तकालय का कुछ अंश विश्वविद्यालय समाजशास्त्र विभाग को भेंट कर दिया था। डॉ चौधरी के दर्जनों से ऊपर छात्र मिथिला विश्वविद्यालय सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों में आज शिक्षक के रूप में कार्यरत है। यंग सोशियोलॉजिस्ट फोरम जिसके डॉक्टर गिरींद्र नाथ  चौधरी दो दशक तक अध्यक्ष रहे ने भी शोक संवेदना व्यक्त किया है

कोई टिप्पणी नहीं: